ग्लेशियर टूटने से चमोली के तपोवन स्थित अलकनंदा बैराज डूबा अलकनन्दा का जलस्तर बढा।गंगातट पर न जाने की अपील।प्रशासन सतर्क।पढिए Janswar.Com में

द्वारा-नागेन्द्र प्रसाद रतूड़ी

जिला सूचना कार्यालय पौड़ी से प्राप्त जानकारी के अनुसार चमोली आपदा कंट्रोल रूम एवं डी सी आर पौड़ी से प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्लेशियर के टूटने से तपोवन जोशीमठ चमोली में अलकनन्दा पर बैराज डैम मलबे से पट गया। ग्लेशियर से भारी मात्रा में पानी आने के कारण अलकनन्दा का जलस्तर बढ गया है और बहाव तेज हो गया है। प्रशासन द्वारा जनपद क्षेत्र के अंतर्गत श्रीनगर से ऋषिकेश तक नदियों किनारे रह रहे लोगो को अलर्ट कर दिया गया है।आपदा कंट्रोल रूम पौड़ी से 12:30 की रिपोर्ट के अनुसार पानी चमोली पहुँच गया है।बैराज डैम टूटने के कारण पानी का बहाव तेज होने के चलते जिला प्रशासन निरन्तर हालातों पर नज़र बनाये हुए है।

आपदा कंट्रोल रूम पौड़ी से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिला प्रशासन, एस डी आर एफ तथा जी बी के की टीमें भी अलर्ट है। बताया गया है कि पानी का बहाव नार्मल से थोड़ा ऊपर है। जलस्तर 2-3 मीटर ऊपर है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार ऋषिकेश, स्वर्गश्रम जौंक, मुनिकीरेती में अभी गंगा नदी की बहाव की स्थिति सामान्य है। जिला प्रशासन द्वारा गंगा किनारे रह रहे लोगो, एवं पशुओं को हटा दिया है। बाबाओ के कुटिया भी खाली करा दिया गया। नगर पंचायत स्वर्गश्रम जौंक, यमकेश्वर प्रशासन द्वारा गंगा किनारे रह रहे लोगो को जागरूक एवं सतर्क किया जा रहा है
जिला प्रशासन श्रीनगर में नदी के किनारे के लोगों को सतर्क एवं जागरुक कर रहा है।श्रीनगर में उप जिलाधिकारी श्री रविंद्र बिष्ट संबंधित अधिकारियों के साथ नदी तटीय क्षेत्र एवं जी वी के बांध स्थल का अलर्ट को लेकर जायजा लिया है तथा उन्होंने संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दे दिए है।हताहतों की जानकारी प्राप्त नहीं हो पायी है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.