प्रदेश वासियों को मुख्यमंत्री ने छट पूजा की दी बधाई।##मुख्यमंत्री ने वीर केसरी चन्द की मूर्ति पर किया माल्यार्पण।## जनजागरूकता रैली को मुख्यमंत्री ने किया फ्लैगऑफ किया।##एम्स में ब्रेस्ट कैंसर जागरूकता व्याख्यान।## रैबार के मंच पर बड़ी बडी हस्तियां साझा करेंगी पढिए janswar.com में।

प्रदेश वासियों को मुख्यमंत्री ने छट पूजा की दी बधाई।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने छठ पूजा पर प्रदेशवासियों को बधाई व शुभकामनाएं दी हैं। छठ पूजा के अवसर पर जारी अपने संदेश में मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि ‘‘सूर्योपासना का यह पर्व हमें प्रकृति से जुड़ने का संदेश देता है। सूर्य की आराधना प्रकृति एवं प्राकृतिक संसाधनों की आराधना हैं। सूर्य इस विश्व के लिये जीवनदायी ऊर्जा का स्रोत हैं। उन्होंने कहा कि लोक आस्था से जुड़ा यह महापर्व हमें सात्विकता तथा स्वच्छता का भी संदेश देता है। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने इस पर्व पर सभी की सुख-समृद्वि की भी कामना की है।
राज्य सरकार द्वारा छठ पूजा के अवसर पर 02 नवंबर को प्रदेश में सार्वजनिक अवकाश की भी घोषणा की गई है
########################

मुख्यमंत्री ने वीर केसरी चन्द की मूर्ति पर किया माल्यार्पण।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शुक्रवार को वीर केसरी चन्द की जयंती के अवसर पर गांधी पार्क में उनकी मूर्ति पर माल्यार्पण किया। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि नेताजी सुभाष चन्द्र बोस ने जब आजाद हिन्द फौज की स्थापना की तो उत्तराखण्ड से अनेक रणबांकुरो ने इस सेना की सदस्यता लेकर देश की रक्षा की ठानी। उत्तराखण्ड के वीर  सपूत केसरी चन्द ने स्वतंत्रता संग्राम में अपने प्राणों की आहुति दी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने नेताजी सुभाष चन्द्र बोस एवं शहीद दुर्गामल की मूर्ति पर भी माल्यार्पण किया।
इस अवसर पर विधायक श्री गणेश जोशी एवं श्री खजान दास भी उपस्थित थे।
#######################

मुख्यमंत्री ने जनजागरूकता रैली को किया फ्लैगऑफ किया।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शुक्रवार को सचिवालय में पॉलीथीन मुक्त ग्रीन दून हेतु सचिवालय के अधिकारियों की जन जागरूकता रेली को फ्लैग ऑफ किया। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि पॉलीथीन मुक्ति एवं पर्यावरण संरक्षण के लिए जन जागरूकता जरूरी है। सचिवालय के अधिकारियों व कर्मचारियों द्वारा पॉलीथीन मुक्त ग्रीन दून हेतु जनजागरूकता के लिए जो पैदल यात्रा की जा रही है, इसके आने वाले समय में अच्छे परिणाम मिलेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि 05 नवम्बर को देहरादून को प्लास्टिक मुक्त बनाने के लिए जो मानव श्रृंखला बनाई जायेगी। यह मानव श्रृंखला 50 किमी की होगी, जिसमें एक लाख से अधिक लोग प्रतिभाग करेंगे। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्त भारत के लिए देशवासियों से जो आह्वाहन किया है, इसमें हम सभी को अपनी भागीदारी सुनिश्चित करनी होगी।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि 16 जुलाई, 2020 को हरेला पर्व के अवसर पर पूरे राज्य में एक ही दिन वृक्षारोपण किया जायेगा। हमारा प्रयास है कि इसके बाद हर हरेला पर्व पर सिर्फ एक घण्टे में पूरे प्रदेश में वृक्षारोपण हो। पर्यावरण संरक्षण एवं स्वच्छता पर व्यापक स्तर पर जन जागरूकता की जरूरत है। इसके लिए स्कूलों में प्रति सप्ताह स्वच्छता व पॉलीथीन मुक्ति पर 05 मिनट का उद्बोधन हो। आज प्लास्टिक का इस्तेमाल सामाजिक बुराई बन गई है। पॉलीथीन मुक्त देहरादून के लिए नगर निगम देहरादून द्वारा जो अभियान चलाया जा रहा है, इसके काफी अच्छे परिणाम मिल रहे हैं, देहरादून को जल्द ही पूर्णतः पॉलीथीन मुक्त करने के लिए जन सहयोग जरूरी है।
मेयर श्री सुनील उनियाल गामा ने कहा कि देहरादून से प्लास्टिक को हमेशा समाप्त करने के लिए नगर निगम द्वारा व्यापक स्तर पर जन जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। इसके परिणाम स्वरूप प्लास्टिक के उपयोग में 50 से 60 प्रतिशत तक की कमी आई है। जन सहयोग से जल्द देहरादून को पूर्ण रूप से प्लास्टिक मुक्त किया जायेगा।
इस अवसर पर विधायक श्री गणेश जोशी, अपर मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी, नगर आयुक्त श्री विनय शंकर पाण्डेय व सचिवालय के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।

#######################

एम्स में ब्रेस्ट कैंसर जागरूकता व्याख्यान।

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में ब्रेस्ट कैंसर माह के तहत जनजागरुकता व्याख्यान का आयोजन किया गया,जिसमें महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर के प्रति जागरुक किया गया व उन्हें ब्रेस्ट कैंसर के लक्षणों की जानकारी दी गई। महिलाओं से ब्रेस्ट कैंसर के किसी भी तरह के प्रारंभिक लक्षण पाए जाने पर तत्काल विशेषज्ञ चिकित्सक से परामर्श कर उपचार शुरू कराने को कहा गया। एम्स संस्थान के इंटिग्रेटेड ब्रेस्ट कैंसर क्लिनिक (आईबीसीसी) की ओर से शुक्रवार को ब्रेस्ट कैंसर विषय पर जनजागरुकता अभियान के तहत सार्वजनिक व्याख्यानमाला का आयोजन किया गया। इस अवसर पर एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर को लेकर जागरुक रहने का आह्वान किया। उन्होंने बताया कि महिलाओं में यह बीमारी तेजी से बढ़ रही है,लिहाजा संस्थान में खासतौर पर इसके नियंत्रण के लिए इंटिग्रेटेड ब्रेस्ट कैंसर क्लिनिक (आईबीसीसी) की स्थापना की गई है। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि महिलाओं को स्तन में किसी भी प्रकार की गांठ अथवा स्तन संबंधी कोई भी अन्य समस्या होने पर तत्काल संस्थान के आईबीसीसी सेंटर से संपर्क कर चिकित्सकीय परामर्श लेना चाहिए। संस्थान की आईबीसीसी प्रमुख प्रोफेसर बीना रवि ने महलाओं को स्तन कैंसर के लक्षणों की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने बताया कि हर आठ में से एक महिला में स्तन कैंसर की संभावना हो सकती है।लिहाजा महिलाओं को अपने स्तन संबंधी किसी भी समस्या को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। प्रो. बीना रवि ने महिलाओं से नियमित व्यायाम करने, पौष्टिक आहार लेने व नवजात शिशु को छह माह तक केवल स्तनपान कराने को कहा। साथ ही उन्हें इसके महत्व की जानकारी भी दी। उन्होंने बताया कि एम्स संस्थान द्वारा ब्रेस्ट कैंसर के बढ़ते मामलों के मद्देनजर महिलाओं को जागरुक करने के लिए अक्टूबर माह को ब्रेस्ट कैंसर जनजागरुकता माह के तौर पर मनाया गया,जिसमें विभिन्न स्थानों पर ब्रेस्ट कैंसर के खिलाफ मुहिम चलाई गई। माहभर प्रत्येक सप्ताह छह दिन ओपीडी में महिलाओं की जांच की गई जबकि एम्स संस्थान, हरिद्वार समेत विभिन्न स्थानों पर ब्रेस्ट कैंसर जागरुकता को लेकर व्याख्यानमाला आयोजित की गई। इस अवसर पर मेडिकल सुपरिटेंडेंट डा. ब्रह्मप्रकाश, डीन नर्सिंग प्रो. सुरेश कुमार शर्मा,डा. अजय कुमार, डा. सोनम अग्रवाल,डा. प्रतीक शारदा, डा. आशिकेश कुंडल,डा. नताशा,आशिषा जांगिर, इनर व्हील क्लब की अध्यक्ष मीनू डंग, ममता अग्रवाल, डा. अनुभा अग्रवाल,डा. प्रेरणा बब्बर,डा. पूर्वी कुलश्रेष्ठा, डा. रंजीता कुमारी आदि मौजूद थे। यह लक्षण हैं तो हो सकता है ब्रेस्ट कैंसर छाती में एक ही जगह कई दिनों तक चुभन व दर्द रहना, छाती के ऊपर लाली आना, ब्रेस्ट में लाल, काले व सफेद चकत्ते पड़ना, ब्रेस्ट के निपल से खून अथवा पानी निकलना, निपल का भीतर की ओर धंसना, ब्रेस्ट के निपल का टेढ़ा होना, ब्रेस्ट में सूजन व आकार में बदलाव, ब्रेस्ट के नीचे गड्ढा पड़ना, स्तन व बगल में दर्द व छाती में गांठ होना।

########################

रैबार २०१९: एनएसए अजीत डोभाल, जनरल बिपिन रावत, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ, सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत समेत कई हस्तियां एक मंच पर करेंगी शिरकत ! 

राज्य स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में तीन नवंबर को कोटी कालोनी में हो रहे रैबार-2 आवा आपुण घौर कार्यक्रम 3 नवंबर को कोटी कॉलोनी  में आयोजित किया जाएगा। 
रैबार कार्यक्रम में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, थल सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत, सैन्य सचिव ले. जनरल भट्ट, एयर इंडिया के अध्यक्ष और एमडी अश्विनी लोहानी, पूर्व डीजीएमओ लेफ्टिनेंट अनिल भट्ट, प्रधानमंत्री के पूर्व सचिव भास्कर खुल्बे और हंस फाउंडेशन की माता मंगला शामिल होंगी। 
रैबार के माध्यम से देश की महान हस्तियां तीन नवंबर को टिहरी में अपनी मिटटी से पुनः जुड़कर पहाड़ों को विकास के पथ पर ले जाने का संदेश देंगे।

‘‘रैबार’’ का अर्थ है संदेश। ‘‘रैबार’’ मंच के माध्यम से हम आपको उत्तराखंड के उन खास लोगों को रूबरू करवाएंगे जिन्होंने देश और दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाई है। आगे ‘‘रैबार’’ के माध्यम से हम इन लोगों को उत्तराखंड के अलग-अलग शहरों और कस्बों में लेकर जायेंगे और वहां पर चर्चाओं एवं विचार गोष्ठियों का आयोजन करके हम इन प्रबुद्ध लोगों के विचार आम और खास लोगों तक पहुंचाएंगे तथा वहां के लोग पहाड़ से जुड़े मुद्दों पर अपनी राय सबके सामने भी रख सकेंगे।  
2017 में आयोजित रैबार का ही असर था की प्रदेश में ड्रोन सेंटर, कोस्ट गार्ड भर्ती केंद्र की शुरुआत हुई और भारतीय सेना ने श्रीनगर मेडिकल कॉलेज की कमान संभल ली I  

Leave a Reply

Your email address will not be published.