हिंडोलाखाल क्षेत्र के छाम सिरवा गाँव में अपने आंगन मे बर्तन धो रही पैंतालीस वर्षीय महिला नरभक्षी गुलदार की शिकार हुई।पढिए Janswar.com में

 

हिंडोलाखाल क्षेत्र के छाम सिरवा गाँव में अपने आंगन मे बर्तन धो रही पैंतालीस वर्षीय महिला को नरभक्षी गुलदार की शिकार हुई।

देवप्रयाग के हिंडोलाखाल क्षेत्र के छाम सिरवा गांव में अपने घर के आंगन में बर्तन धो रही एक45 वर्षीय  महिला नरभक्षी गुलदार की शिकार हो गयी। महिला का अधखाया शव घर से आधा किमी दूर बरामद हुआ।

गांव से दूर अकेले घर में दिव्यांग बेटे के साथ रहने वाली विधवा शकुंतला देवी(45वर्ष) पर गुलदार  उस समय हमला किया जब वह अपने  आंगन में बर्तन धो रही थी।अंधेर में घात लगाये गुलदार ने उसे अपने जबड़े में दबोचा और झाड़ियों की ओर ले गया।हमले की खबर जैसे ही ग्रामीणों को मिली तो वे मचाते हुए वहां पहुंचे तो उन्हें कुछ दूरी पर झाडियों में गुलदार दिखा जिसने महिला को दबोच रखा था। इससे पहले ग्रामीण उस तक पहुंचते गुलदार तेजी से महिला को घसीटते घनी झाडियों के बीच में ओझल हो गया।

घटना की सूचना प्राप्त होने पर वन राजि अधिकारी देवेंद्र पुडीर, तहसीलदार एस,एस, कठैत, डिप्टी रेंजर रविंद्र रावत, वन दरोगा यशवंत चौहान, वन आरक्षी राकेश चौहान, वन्य जीव विशेषज्ञ सुनाल रौमिन, ज्योति कैतुरा आदि की टीम सर्च लाइट आदि के साथ गुलदार की खोज में निकले।

करीब छह घण्टे की कड़े परिश्रम के बाद टीम को घने जंगल में महिला का अधखाया शव मिला । वनराजि अधिकारी  ने बताया कि नरभक्षी गुलदार को मारने की के लिए शव को दो घंटे तक उसी स्थान पर रखा गया।गुलदार के न आने पर बाद में शव को गांव में लाया गया।

वन राजि अधिकारी के अनुसार  नरभक्षी गुलदार को मारने के लिए शिकारी जॉय हुकिल, जहीर बख्शी व एस चौहान को तैनात किया गया है। रविवार सुबह हिंडोलाखाल पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

घटना की खबर सुनकर क्षेत्रीय विधायक विनोद कण्डारी ने में  पहुंच कर पीडि़त परिवार को धैर्य बंधाया और वन विभाग के मानक के अनुसार शीघ्र ही चार लाख का मुआवजा दियाये जाने का आश्वासन दिया। उक्त क्षेत्र में गुलदार की लगातार सक्रियता से लोगों में भय का वातावरण बना है।

(फोटो-साभार)

Leave a Reply

Your email address will not be published.