सरदार अमनजीतसिंह ने दिए कोविड फंड में  ग्यारह लाख रुपये दान।##मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने प्लाज्मा दान की अपील की।#कोविड-19 के चुनौतीपूर्ण समय में जनता तक सही एवं समय पर सूचनाएं पहुंचे – महानिदेशक सूचना। पढए Janswar.com में।

 

सरदार अमनजीतसिंह ने दिए कोविड फंड में  ग्यारह लाख रुपये दान।

कोविड के खिलाफ लङाई में  उत्तराखण्ड सरकार को सहयोग के उद्देश्य से आज श्री अमनजीत सिंह जी ने मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत से मुलाकात कर मुख्यमंत्री राहत कोष के लिये 11 लाख रुपए राशि का चैक भेंट किया।
मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने इस सहयोग के लिए उनका आभार व्यक्त किया और कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई पूरी मानवता की लड़ाई है। सभी के सहयोग और सम्मिलित प्रयासों से ही हम इस महामारी पर जीत हासिल कर पाएंगे।

—————————————————-

  • मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने प्लाज्मा दान की अपील की
  • कोविड संक्रमण से स्वस्थ हो चुके हैं तो अपना रक्त प्लाज्मा अवश्य दान करें
  • चिकित्सकों के अनुसार, 18 से 60 आयु वर्ग का कोई भी व्यक्ति प्लाज्मा दान कर सकता है

कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण के लिए राज्य सरकार हरसंभव प्रयास कर रही है। मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुके लोगों का रक्त प्लाज्मा अन्य संक्रमित रोगियों के उपचार में सहायक सिद्ध हो रहा है। उन्होंने सभी से अनुरोध किया कि यदि कोविड संक्रमण से स्वस्थ हो चुके हैं तो अपना रक्त प्लाज्मा अवश्य दान करें, ताकि दूसरों की जान बचाई जा सके।
चिकित्सकों के अनुसार, रक्त प्लाज्मा का दान एक अत्यंत आसान प्रक्रिया है। 18 से 60 आयु वर्ग का कोई भी व्यक्ति प्लाज्मा दान कर सकता है और खास बात यह है कि प्लाज्मा दान करने से स्वास्थ्य पर कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है। चिकित्सकों का कहना है कि जब भी प्लाज्मा दान करें, इस बात का विशेष ध्यान रखें कि पिछले 14 दिनों से आपमें किसी भी प्रकार के कोविड के लक्षण तो नहीं। प्लाज्मा दान करने से पहले चिकित्सक से परामर्श अवश्य लें और जरूरी सावधानियां बरतें।
मुख्यमंत्री श्री रावत ने अनुरोध किया है कि हिचकिचाएं नहीं, आगे आएं और रक्त प्लाज्मा का दान कर किसी कोरोना पीड़ित की जान बचाने में मदद कर अपनी जिम्मेदार भूमिका निभाएं।


सूचना महानिदेशक श्री रणवीर सिंह चौहान ने शनिवार को वर्चुअल माध्यम से सूचना विभाग के अधिकारियों की बैठक लेते हुए कहा कि कोविड-19 के चुनौतीपूर्ण समय में जनता तक सही एवं समय पर सूचनाएं पहुंचे, इसमें सूचना विभाग की महत्वपूर्ण भूमिका है। कोविड से बचाव के लिया सरकार, शासन – प्रशासन एवं पुलिस द्वारा किए जा रहे प्रयासों को आम जन तक पहुंचाने में सूचना विभाग की महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के पत्रकार बंधु भी कोविड पर जनजागरुकता के दृष्टिगत लगातार फील्ड में हैं। इस दौरान कई बार वे भी कोविड से संक्रमित हो रहे हैं। प्रदेश में कोई भी पत्रकार बंधु संक्रमित हो रहे हैं तो, उनको विभाग की ओर से हर संभव मदद देने के प्रयास किए जाय। मुख्यालय स्तर पर एवं सभी जनपदों में मीडिया से निरंतर संवाद स्थापित किया जाय। किसी भी मीडियाकर्मी की कोविड संक्रमित होने की सूचना पर प्रशासन से समन्वय स्थापित करते हुए उन्हें हर संभव मदद दी जाय।
सूचना महानिदेशक श्री रणवीर सिंह चौहान ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री जी ने  पत्रकारों के कोविड वैक्सीनैशन की अलग से व्यवस्था करने के निर्देश दिये हैं। जिला सूचना अधिकारी इस संबंध मे भी जिलाधिकारी मार्गदर्शन में  समन्वय करें।
सूचना महानिदेशक ने कहा कि नियमित निगरानी की जाय कि सोशल मीडिया या अन्य माध्यमों से कोई भ्रामक सूचनाएं न प्रसारित हो। कोविड के दृष्टिगत जनजागरूकता में मीडिया की महत्वपूर्ण भूमिका है।  मीडिया से लगातार संपर्क स्थापित किए जाय। कोविड की इन विषम परिस्थितियों में हमारी भूमिका और बढ़ जाती है। सटीक और प्रमाणिक जानकारी जनता तक पहुंचे।
सूचना महानिदेशक श्री रणवीर सिंह चौहान ने सभी जिला सूचना अधिकारियों को निर्देश दिए कि जनपदों में जिलाधिकारी, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों एवं पुलिस से निरंतर संपर्क स्थापित कर कोविड से बचाव के लिए किए जा रहे विभिन्न प्रयासों एवं जन जागरूकता के लिए की जा रही पहलों को मीडिया के माध्यम से जनता तक पहुंचाया जाय। सूचनाओं के आदान – प्रदान में और तेजी लाई जाए। जनपदों में पत्रकार बंधुओं से समन्वय बना कर रखें।
बैठक में वर्चुअल माध्यम से अपर निदेशक सूचना डॉ. अनिल चंदोला, सयुक्त निदेशक श्री आशीष त्रिपाठी, उपनिदेशक श्री के. एस. चौहान, श्री नितिन उपाध्याय, सहायक निदेशक श्री मनोज श्रीवास्तव, श्री रवि बिजारनियाँ एवं सभी जिला सूचना अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.