सरकार महिलाओं के लिए घस्यारी योजना लायेगी-मुख्यमंत्री।# रामनगर का राम दत्त जोशी चिकित्सालय को NABH द्वारा एंट्री लेवल प्रमाणित किया गया है।#उत्तराखंड पर्यटन द्वारा फरवरी कोलकाता में आयोजित हुए ट्रैवल और टूरिज्म फायर 2021 प्रतिभाग किया गया। #जिला आयुर्वेदिक एवं यूनानी विभाग के आवासीय और अनावासीय भवन का शिलान्यास#पढिए www.Janswar.Com

द्वारा- अरुणाभ रतूड़ी

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने द्वाराहाट में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि 18 मार्च को राज्य सरकार के कार्यकाल के चार साल पूरे हो जायेंगे। इस अवधि में राज्य सरकार द्वारा सड़क, स्वास्थ्य, शिक्षा, पर्यटन के क्षेत्र में अनेक प्रयास किये हैं। महिलाओं के कल्याण हेतु मुख्यमंत्री घस्यारी योजना लाई जा रही है। जिसमें महिलाओं को अब जंगल से सिर पर गठरी लाने से छुटकारा मिल जायेगा। उन्होंने कहा कि इस योजना से महिलाओं के आर्थिक व सामजिक स्तर में सुधार आयेगा। राज्य सरकार द्वारा महिलाओ को पैतृक सम्पत्ति में सह खातेदारी दी गयी है जिससे आने वाले समय में व्यापक परिवर्तन देखने को मिलेगा। स्वास्थ्य के क्षेत्र में सरकार द्वारा 2200 से अधिक डाक्टर की तैनाती के साथ 765 डाक्टर व 2500 नर्सों की भर्ती की प्रक्रिया गतिमान है। उन्होंने कहा कि सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण चौखुटिया हवाई पट्टी व तड़ागताल झील आने वाले समय में पर्यटको के लिये आर्कषण का केन्द्र बनेगी साथ ही स्थानीय लोगों के लिये रोजगार के नये अवसर पैदा करेगी जिससे आस-पास के क्षेत्र का विकास होगा।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि हरियाली का प्रतीक हरेला पर्व के दिन पूरे प्रदेश में सभी लोगों द्वारा एक पौधा अवश्य लगाया जायेगा। उन्होंने कहा कि साल भर में होने वाले पौध रोपण को इस वर्ष हरेला के दिन एक साथ पूरे प्रदेश में वृहद रूप से पौध रोपण किया जायेगा। उन्होंने कहा कि यहां की ऐपण कला अब घर तक नहीं रह जायेगी इस कला को देश-विदेश तक पहचान दिलाने के लिये हम प्रयासरत है। इसी वर्ष में ऐपण व हस्तशिल्प का कार्य करने वाले लोगों के लिये 05 करोड़ रूपये का बजट प्राविधानित किया जायेगा जिससे ऐसी कलाओं को संरक्षित किया जा सके। ऐपण से बनने वाले चीजों के विपणन के लिये देहरादून में विश्वस्तरीय सेन्ट्रर ऑफ एक्सलेंस इम्पोरियम बनाया जा रहा है। शिक्षा के क्षेत्र में अनेक अभिनव प्रयास किये जा रहे है 500 विद्यालयों को वर्चुअल क्लासों से जोड़ दिया गया है 600 विद्यालयों में यह प्रक्रिया गतिमान है, जिससे आने वाले समय में कुछ अच्छे सुधार देखने को मिलेंगे। प्राइमरी स्तर के कम छात्र संख्या वाले स्कूलों को क्लब किया जा रहा है। क्लब करने के बाद प्रत्येक स्कूल में कम से कम पांच-पांच शिक्षक तैनात किए जाएंगे और इन स्कूलों में स्कूल वैन के जरिए छात्र छात्राओं को घर से लाने और ले जाने की व्यवस्था की जायेगी।
द्वाराहाट विधायक श्री महेश नेगी ने मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र का आभार व्यक्त करते हुये कहा कि उनके विधानसभा क्षेत्र में की गयी 90 प्रतिशत से अधिक घोषणाएं पूर्ण हो चुकी हैं। उन्होंने इस बात के लिये क्षेत्रीय जनता की ओर से धन्यवाद ज्ञापित किया। विधायक ने कहा कि क्षेत्र में कई विकास के कार्य किये जा रहे है जो शीध्र ही पूर्ण हो जायेगें। उन्होंने कहा कि विधानसभा क्षेत्र में लगभग 01 हजार करोड़ के विकास कार्य हो चुके है। उनका प्रयास है कि अब प्रत्येक तोक तक सड़क पहुॅचायी जाय।

इस अवसर पर चाय विकास बोर्ड के उपाध्यक्ष श्री गोविन्द सिंह पिल्खवाल, राज्य महिला आयोग उपाध्यक्ष श्रीमती ज्योति साह मिश्रा, भाजपा जिला अध्यक्ष श्री रवि रौतेला, कुमांयू कमिश्नर श्री अरविन्द सिंह ह्यांकी, आईजी श्री अजय रौतेला, अपर सचिव मुख्यमंत्री व महानिदेशक सूचना डॉ. मेहरबान सिंह बिष्ट, जिलाधिकारी अल्मोड़ा श्री नितिन भदौरिया, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री पंकज भट्ट एवं स्थानीय जन प्रतिनिधि उपस्थित थे।

—————————————————————

रामनगर का राम दत्त जोशी चिकित्सालय को NABH द्वारा एंट्री लेवल प्रमाणित किया गया है।

विश्व बैंक द्वारा वित्त पोषित उत्तराखंड हैल्थ सिस्टम्स डेवलपमेंट प्रोजेक्ट के अंतर्गत पी.पी.पी मोड पर संचालित रामनगर का राम दत्त जोशी चिकित्सालय को NABH द्वारा एंट्री लेवल प्रमाणित किया गया है। यह राज्य का NABH से प्रमाणित पहला राजकीय चिकित्सालय है।
NABH (नेशनल एकक्रेडिटेशन बोर्ड फॉर हॉस्पिटल्स एंड हैल्थ केयर प्रोवाइडर्स, क्वालिटी कौंसिल ऑफ़ इंडिया) के प्रमाण के अंतर्गत संगठन द्वारा निम्न मानकों पर गुणवत्ता सुनिश्चित की जाती है

(1) रोगी केंद्रित मानक
रोगी की देखभाल की निरंतरता और उसका लगातार मूल्यांकन
औषधि प्रबंधन
रोगी अधिकार और शिक्षा
अस्पताल संक्रमण नियंत्रण

(2) संगठन केंद्रित मानक
सतत गुणवत्ता सुधार
मानव संसाधन प्रबंधन
सूचना प्रबंधन प्रणाली (आईएमएस)

प्रमाणन से रोगियों को अनेक लाभ प्राप्त होंगे जैसे
बेहतर स्वास्थ्य देखभाल
रोगी केंद्रित संस्कृति का विकास
गुणवत्ता और रोगी सुरक्षा पर अधिक ध्यान
रोगी की संतुष्टि के स्तर में सुधार
समुदाय के विश्वास का बेहतर स्तर
बाहरी संस्थाओं द्वारा मान्यता में आसानी
बीमा एजेंसियों द्वारा इम्पेलमेंट में आसानी


उत्तराखंड पर्यटन द्वारा 26 से 28 फरवरी के मध्य कोलकाता में आयोजित हुए travel and tourism fair 2021 प्रतिभाग किया गया।
आयोजन के दौरान पश्चिम बंगाल उत्तर-पूर्व के राज्यों नागालैंड आसाम मेघालय तथा अंडमान निकोबार आदि राज्यों के प्रमुख ट्रैवल एजेंट एवं टूर ऑपरेटर्स के साथ नेटवर्किंग की गई। इसके अतिरिक्त बंगाल के लोगों को आगामी चार धाम यात्रा तथा ग्रीष्मकालीन पर्यटन हेतु आमंत्रित करना इस आयोजन का प्रमुख उद्देश्य रहा।
सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर ने बताया कि राज्य सरकार कोरोना काल के पश्चात राज्य के पर्यटन उद्योग के पुनरुत्थान के लिए प्रतिबद्ध है। और इसी क्रम में विभाग पर्यटन विभाग द्वारा देशभर में आयोजित होने वाले प्रमुख ट्रैवलमार्ट एवं प्रदर्शनों में प्रतिभाग किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार द्वारा राज्य के पर्यटन क्षेत्र के स्टेकहोल्डर्स के साथ इन आयोजनों में भाग लिया जाता है जिसमें वह दूसरे राज्यों की ट्रैवल एजेंट एवं टूर ऑपरेटर के बीच अपने व्यवसाय का भरपूर प्रचार प्रसार करते हैं।
इस आयोजन में उत्तराखंड का प्रतिनिधित्व जनसंपर्क अधिकारी कमल किशोर जोशी ने किया। उनके अनुसार उत्तराखंड, बंगाल के पर्यटकों के लिए एक अत्यंत प्रिय गंतव्य है। कोविड काल के बाद उत्तराखंड आने के लिए बंगाल के लोगों में काफी उत्साह देखने को मिला है। अगर हम चार धाम यात्रा में बंगाल के पर्यटकों को आमंत्रित करने में सफल होते हैं तो इससे चारधाम यात्रा मार्ग पर निवास करने वाले लोगों को रोजगार मिलेगा, होटल व्यवसाय पुनर्स्थापित हो सकेगा और राज्य के पर्यटन व्यवसायियों की आमदनी में वृद्धि होगी।

समापन समारोह के दौरान बंगाल के लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मां गंगा, मां दुर्गा, चार धाम, गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर और स्वामी विवेकानंद; बंगाल और उत्तराखंड के मध्य एक अटूट रिश्ता स्थापित करते हैं।

—————————————————————-

प्रदेश के वन एवं पर्यावरण, श्रम सेवायोजन, कौशल विकास, आयुष एवं आयुष शिक्षा मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने आज रविवार को माल रोड़ पौड़ी में जिला आयुर्वेदिक एवं यूनानी विभाग के आवासीय और अनावासीय भवन का शिलान्यास किया। उन्होंने निर्माण दायीं संस्था को शीघ्र ही भवन को तैयार करने के निर्देश दिए।
काबीना मंत्री डॉ हरक सिंह रावत ने कहा कि करीब दो करोड़ 88 लाख की लागत से भवन का निर्माण कार्य किया जाना है। उन्होंने निर्माणदायी संस्था को राज्य स्थापना दिवस तक भवन को तैयार करने के निर्देश दिए। कहा कि राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर इस भवन का लोकार्पण किया जाएगा। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कबीना मंत्री डाॅ. रावत ने राज्य आंदोलन के समय की अपनी यादों को साझा किया। उन्होंने कहा कि पौड़ी जनपद के कोटद्वार क्षेत्र के कण्वाश्रम में आयुर्वेद की रचना चरक डांडा में महर्षि चरक ने की थी। उन्होंने कहा कि यह जनपद के लिए बड़ा हर्ष का विषय है कि आयुर्वेद की रचना पौड़ी जनपद में हुई थी। उन्होंने आयुर्वेदिक अधिकारी के प्रयासों को सराहनीय बताते हुए कहा कि जिस प्रकार से जिला आयुर्वेदिक अधिकारी ने भवन निर्माण के लिए स्थल चयन हेतु दौड़-धूप की है उसे अन्य जिला स्तरीय अधिकारियों को भी प्रेरणा लेनी चाहिए। कहा की आयुर्वेदिक विभाग के लिए आज का दिन होली और दिवाली से कम नहीं है। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही कोटद्वार से लेकर पौड़ी व श्रीनगर तक सड़क मार्ग को ऑल वेदर रोड से जोड़ा जाएगा। इस कार्य के लिए करीब 1000 करोड़ की राशि निर्धारित की गई है, जिससे पौड़ी को चारधाम यात्रा रूट से जोड़कर इस क्षेत्र का विकास किया जा सकेगा।
इस अवसर पर नगर पालिका अध्यक्ष यशपाल बेनाम ने काबीना मंत्री डॉ हरक सिंह रावत का स्वागत और अभिनंदन किया। उन्होंने शहर में पार्किंग की समस्या को लेकर कैबिनेट मंत्री डॉ रावत को अवगत कराते हुए कहा कि इस भवन के भूतल पर बनने वाली पार्किंग से शहर में पार्किंग की समस्या से निजात मिल पाएगी। कहा कि इससे पूर्व भी माल रोड पर पालिका की ओर से पार्किंग का निर्माण किया गया है, जिससे कि शहर में यातायात सुचारू हुआ है। कार्यक्रम में जिला आयुर्वेदिक और यूनानी अधिकारी डॉ सुभाष चंद्र ने भवन में बनने वाले विभिन्न गतिविधियों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि प्रस्तावित भवन में भूतल पर पार्किंग तथा प्रथम व द्वितीय तल में कार्यालय गोदाम के साथ ही वैलनेस सेंटर और योगा सेंटर भी विकसित किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि आयुर्वेद का मूल मंत्र ही वैलनेस और योगा है। इसी तर्ज पर भवन में इन सेंटरों को आधुनिक सुविधाओं से लैस किया जाएगा। उन्होंने कार्यक्रम में आयुष मंत्री डॉ हरक सिंह रावत को स्मृति चिन्ह भेंट करते हुए उनका स्वागत और अभिनंदन किया।
इस अवसर पर अपर जिला अधिकारी डॉ. एस.के. बरनवाल, विधायक प्रतिनिधि जगत किशोर बड़थ्वाल, सांसद प्रतिनिधि ओमप्रकाश जुगरान, वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी डॉ. सुरेखा सिंह, डॉ अनुज कुमार, डॉ. राकेश सेमवाल, डॉ राजेश कुमार, डॉ. रितु जख्मोला, डॉ. अब्दुल कयूम खान, डॉ. संदीप कुमार, डॉ. दीप्ति राणा, डॉ. रीना, संचालक गणेश खुगशाल ‘गणी‘, प्रदीप सजवाण, राजकुमारी सहित संबंधित अधिकारी और कर्मचारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.