समूह ग की 23 परीक्षा आयोजित करने के लिए उत्तराखण्ड लोक सेवा आयोग ने कलेंडर किया जारी# लाइफ स्किल एंड न्यूट्रीशन विषय की जागरूकता के साथ राष्ट्रीय पोषण पर्व का समापन #राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र  की सूचना- उत्तराखण्ड में 136 मार्ग अवरुद्ध -www.janswar.com

-अरुणाभ रतूड़ी

उत्तराखण्ड लोक सेवा आयोग की ओर से 23 परीक्षाओं के लिए अतिरिक्त परीक्षा कैलेंडर जारी कर दिया गया है।

आज उत्तराखंड लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष डॉ० राकेश कुमार ने कार्यालय में अधिकारियों के साथ परीक्षा कैलेंडर को लेकर बैठक ली और शासन द्वारा हाल ही में आयोग को प्रेषित समूह ’ग’ की 23 परीक्षाओं हेतु अतिरिक्त परीक्षा कलेण्डर जारी कर दिया गया है (छायाप्रति संलग्न है)।

आयोग ने यह संकल्प दोहराया है कि उपर्युक्त समस्त परीक्षाएं समयबद्ध तरीके से वर्ष 2022 एवं 2023 के दौरान आयोजित की जाएंगी।

अध्यक्ष द्वारा वर्ष 2022 के प्रारंभ में निर्गत यूकेपीएससी के मुख्य वार्षिक परीक्षा कलेण्डर के बारे में अवगत कराया गया है कि आयोग के उक्त परीक्षा कलेण्डर में उल्लिखित 23 परीक्षाएं निर्धारित की गयी थी, जिनमें से अब तक 18 परीक्षाएं सफलतापूर्वक सम्पन्न की जा चुकी हैं तथा 04 परीक्षाओं का आयोजन इस वर्ष के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा।

इनमें पीसीएस मुख्य परीक्षा – 2021 का आयोजन दिनांक 12 से 15 नवम्बर, 2022 के दौरान किया जाना सम्मिलित है तथा शेष एक वन क्षेत्राधिकारी परीक्षा को स्थगित किया गया है।
सिविल जज जू.डि. परीक्षा, ए०ई० परीक्षा, सहायक अभियोजन अधिकारी परीक्षा, असिस्टेंट प्रोफेसर, वन क्षेत्राधिकारी एवं सहायक भूवैज्ञानिक परीक्षा के संदर्भ में आयोग द्वारा अग्रेतर कार्यवाही तभी की जा सकेगी जब क्षैतिज आरक्षण के संदर्भ में मा० उच्च न्यायालय, उत्तराखण्ड द्वारा हाल ही में पारित आदेश के आलोक में शासन द्वारा आरक्षण प्रक्रिया सुनिश्चित करते हुए आयोग को अवगत कराया जाएगा।

आयोग के अध्यक्ष डॉ० राकेश कुमार द्वारा यह भी जानकारी दी गई है कि आरक्षण से सम्बन्धित उत्पन्न कतिपय विसंगतियों के निस्तारण हेतु आयोग द्वारा प्राप्त लगभग 29 अधियाचनों को शासन को प्रत्यावर्तित कर दिया गया है तथा शासन से संशोधित अधियाचन प्राप्त होने के पश्चात् आयोग द्वारा उनके लिए पृथक से एक परीक्षा कलेण्डर जारी करते हुए समानान्तर ढंग से परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी। वर्तमान में उक्त 29 अधियाचनों को संशोधित किये जाने की कार्यवाही शासन स्तर पर गतिमान है।

********
लाइफ स्किल एंड न्यूट्रीशन विषय की जागरूकता के साथ राष्ट्रीय पोषण पर्व का समापन
आज दिनांक 26 सितंबर 2022 को राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय मालदेवता रायपुर के बी.एससी. गृह विज्ञान संकाय द्वारा राष्ट्रीय पोषण माह के उपलक्ष में आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला की द्वितीय दिन का प्रारंभ डॉक्टर डिंपल भर द्वारा किया गया। कार्यक्रम के प्रारंभ में बीएससी गृह विज्ञान संकाय की विभागाध्यक्ष डॉ डिंपल भट्ट द्वारा पोषण का व्यवहारिक जीवन में महत्व एवं पोषण शिक्षा के माध्यम से जन समुदाय में पोषण के उत्थान हेतु विभिन्न कार्यक्रमों को धरातल पर लागू करने के सुझाव बताए गए।

राष्ट्रीय पोषण माह के उपलक्ष्य में आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला के द्वितीय दिन में पोषण जागरूकता हेतु “रूम तो रीड संस्था” की प्रोग्राम एसोसियेट अनिता चंदोला एवं श्रीमती बाला रावत (सोशल मोबिलाइजर) के द्वारा जीवन शैली एवं पोषण विषय पर व्याख्यान दिया गया।
कार्यक्रम का मुख्य उद्देश “लर्निंग बाय डूइंग” था जिसके अंतर्गत विभिन्न संवाद केंद्रित गतिविधियां जैसे फ्लिपचार्ट, “मेक योर ओन प्लेट” के द्वारा  विभिन्न जीवन कौशल की तकनीक जैसे आत्म मूल्यांकन, टीमवर्क, रचनात्मक सोच, नेतृत्व  के बारे  जागरूक किया गया । छात्र- छात्रों को आत्म मूल्यांकन करने हेतु प्रेरित किया गया जिसके माध्यम से वह सही और ग़लत भोज्य पदार्थों का चयन कर सकें और साथ ही स्वास्थ्य जीवन शैली को  अपनाकर सकारात्मक जीवन व्यतीत कर सकें। गतिविधियों में प्रतिभाग कर समस्त छात्र-छात्राओं ने स्व मूल्यांकन कर अपनी जिज्ञासा को परिपूर्ण किया।
इसी श्रंखला को आगे बढ़ाते हुए डॉ अनीता चंदोला द्वारा स्वस्थ जीवन शैली पर दृश्य -श्रव्य सामग्री के साथ व्याख्यान दिया गयास  जिसके अंतर्गत “डिफेंस इटिंग”,“  नो टू रॉंग इटिंग”, “ इमोशनल ईटिंग” के नये संकल्पना को बताया गया। साथ ही उनके द्वारा विभिन्न आयु- वर्ग हेतु पोषक तत्वों की मांग आदि के बारे में विस्तृत जानकारी दीस अपने उद्बोधन के अंत में उन्होंने साफ़ और सुरक्षित भोजन को अपने निजी जीवन में शामिल करने की अपील की गई।
महाविद्यालय की प्राचार्य प्रोफेसर वंदना शर्मा द्वारा पोषण से संबंधित ज्ञान को अपने यथार्थ जीवन में आत्मसात कर अपने जीवन शैली को निरोग एवं स्वस्थ रखने पर बल दिया गया कार्यक्रम के अंत में बीएससी गृह विज्ञान संकाय की प्राध्यापिका श्रीमती पूजा रानी द्वारा कार्यक्रम के प्राचार्य मुख्य अतिथि प्राध्यापक एवं समस्त छात्र छात्राओं का धन्यवाद ज्ञापित किया गया।
कार्यक्रम में डॉ महेंद्र पवार, डॉ अनीता चौहान, डॉ कविता काला, डॉक्टर मंजू कोगियाल, डॉ सुनीता नौटियाल, डॉ आशुतोष मिश्रा, डॉ दया दिक्षित, डॉ सुमन गोसाई,डॉ अविनाश भट्ट, डॉ रश्मि नौटियाल, डॉ लीना रावत, डॉ शशि बाला उनियाल एवम डॉ श्रुति चौकियाल आदि उपस्थित रहे।

राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र  की सूचना- उत्तराखण्ड में 136 मार्ग अवरुद्ध

                लोक निर्माण विभाग, उत्तराखण्ड के अन्तर्गत आज कुल 104 मार्ग अवरूद्ध हुये तथा 94 मार्ग कल के अवरूद्ध थे अर्थात कुल 199 अवरूद्ध मार्गो में से 63 मार्गो को आज खोल दिया गया है। शेष 136 मार्ग अवरूद्ध हैं, जिसमें से 0 राष्ट्रीय राजमार्ग, 16 राज्य मार्ग, 10 मुख्य जिला मार्ग, 02 अन्य जिला मार्ग एवं 108 ग्रामीण मार्ग अवरूद्ध हैं। इसके अतिरिक्त पी0एम0जी0एस0वाई0 के अन्तर्गत आज 14 मार्ग अवरूद्ध हुये तथा 133 मार्ग कल अवरूद्ध थे अर्थात कुल 147 अवरूद्ध मार्गां में से आज 21 मार्गों को खोल दिया गया है, शेष 126 अवरूद्ध मार्गों को खोले जाने की कार्यवाही गतिमान है। वर्तमान में राष्ट्रीय राजमार्गो पर 01 मशीनें, राज्य राजमार्गो पर 19 मशीनें, मुख्य जिला मार्गो पर 09 मशीनें, अन्य जिला मार्गो पर 02 मशीनें, तथा ग्रामीण मार्गो पर 93 मशीनें, कुल 124 मशीनें कार्य कर रही है। इसके अतिरिक्त पी0एम0जी0एस0वाई0 के मार्गो पर 131 मशीनें लगायी गयी है।

ऊर्जा विभाग के अन्तर्गत राज्य के अधिकतर जनपदों में विद्युत आपूर्ति सुचारू है। जनपद पिथौरागढ़ के 12 ग्रामों में कुछ वर्षा के कारण विद्युत व्यवस्था बाधित चल रही है। वर्तमान तक राज्य में कुल 67 ग्रामों में विद्युत बाधित थी। जिसमें से 55 ग्रामों की विद्युत आपूर्ति पूर्णरूप से सुचारू कर दी गई हैं। शेष 12 ग्रामों में विद्युत आपूर्ति हेतु कार्य किया जा रहा है।

विगत 24 घंटों में एस.डी.आर.एफ. द्वारा किये गये रेस्क्यू कार्य का विवरण।

उत्तराखण्ड राज्य में आई आपदा के उपरान्त आपदा प्रभावित क्षेत्रों में एस.डी.आर.एफ. द्वारा युद्धस्तर पर कार्य किया जा रहा है। अपर मुख्य कार्यकारी अधिकारी USDMA/ पुलिस उप महानिरीक्षक, एस.डी.आर.एफ. श्रीमती रिद्धिम अग्रवाल के दिशा निर्देशन व सेनानायक एस.डी.आर.एफ. श्री मणिकांत मिश्रा के नेतृत्व में रेस्क्यू टीमों द्वारा रात दिन एक कर सर्च एन्ड रेस्क्यू ऑपरेशन को कुशलता से अंजाम दिया जा रहा है।

  1. जनपद रुद्रप्रयाग में रतूड़ा से 01 किमी आगे एक लड़की के नदी में छलांग लगाने की सूचना पर एस.डी.आर.एफ. रेस्क्यू टीम द्वारा मौके पर पहुँचकर नदी में गहन सर्चिंग अभियान चलाया गया परन्तु युवती का कुछ पता नही चल पाया।
  2. विगतदिन लक्ष्मणझूला, ऋषिकेश में डूबे हरियाणा निवासी युवक की खोजबीन हेतु एस.डी.आर.एफ. टीम द्वारा सर्च ऑपरेशन चलाया गया। सर्चिंग रिपोर्ट शून्य रही।
  3. जनपददेहरादून के चकराता क्षेत्रान्तर्गत त्यूणी मार्ग पर सप्लाई के पास एक वाहन के फंसे होने की सूचना पर एस.डी.आर.एफ. टीम द्वारा उक्त वाहन को सुरक्षित निकाला गया।
  4. मोरीक्षेत्रान्तर्गत जरमोला स्थान पर मार्ग पर एक पेड़ गिरने से मार्ग अवरुद्ध हो गया था। एस.डी.आर.एफ. टीम उक्त सूचना मिलते ही मय रेस्क्यू उपकरणों के मौके के लिए रवाना हुई। टीम द्वारा यातायात मार्ग सुचारू किया गया।
  5. जनपदपिथौरागढ़ में घाट में दिल्ली बैंड के पास भूस्खलन होने से अवरुद्ध हुए मार्ग के कारण कुछ लोग वही फंस गए थे। एस.डी.आर.एफ. रेस्क्यू टीम द्वारा रात्रि के घनघोर अंधेरे में मोके पर पहुँचकर वहाँ फंसे 50 से 60 यात्रियां को सुरक्षित मार्ग पार कराया।
  6. जनपददेहरादून के सहसपुर में बरसाती नदी में अतिवृष्टि से जलस्तर अत्यधिक बढ़ने से नदी में बने टापू पर कुछ लोग फंसे होने की सूचना पर एस.डी.आर.एफ. रेस्क्यू टीम द्वारा घटनास्थल पर पहुँचकर रात्रि के घनघोर अंधेरे व नदी के बढ़े जलस्तर में अत्यधिक साहस का परिचय देते हुए टापू पर फंसे 05 लोगों को अपने सुरक्षा घेरे में लेते हुए राफ्ट के माध्यम से सुरक्षित किनारे लाया गया।
  7. देहरादूनके ढालीपुर पावर हाउस, शक्ति नहर में एक व्यक्ति के डूबने की सूचना पर एस.डी.आर.एफ. टीम द्वारा मौके पर सर्चिंग की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.