श्री बद्रीनाथ डिमरी धार्मिक केंद्रीय पंचायत के प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री से भेंट कर उन्हें देवस्थानम बोर्ड संबंधित ज्ञापन सौंपा#आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों ने मुख्यमंत्री से भेंट कर मानदेय बढाये जाने जताया आभार।#खाद्यसुरक्षा आयुक्त डा.पंकज पाण्डेय ने मिलावटखोरी रोकने के कड़े आदेश दिये।-janswar.com

-अरुणाभ रतूड़ी

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी से मंगलवार को सचिवालय में बद्रीनाथ धाम से जुड़े श्री बद्रीनाथ डिमरी धार्मिक केंद्रीय पंचायत के प्रतिनिधियों ने भेंट की और उन्हें देवस्थानम बोर्ड से सम्बंधित ज्ञापन सौंपा। प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री को श्री बद्रीनाथ धाम का प्रसाद भेंट किया। मुख्यमंत्री जी ने प्रतिनिधि मंडल के सदस्यों को अंग वस्त्र भेंट किए।
मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधि मंडल के समक्ष देवस्थानम बोर्ड के सम्बन्ध में गठित उच्च स्तरीय समिति के अध्यक्ष श्री मनोहर कांत ध्यानी से भी वार्ता की और चार धाम पुरोहित पुजारियों की भावनाओं से अवगत कराया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार केंद्र से भी इस विषय में संवाद कर रही है। हमारी सरकार जन भावनाओं का सम्मान करने वाली सरकार है। तीर्थों के पंडा, पुरोहित और पुजारियों के मान सम्मान को कोई ठेस नहीं पहुंचाई जायेगी। हम सकारात्मक, धनात्मक और विकासात्मक दृष्टिकोण से चारधाम, पंडा, पुरोहित और पुजारी समाज के सम्मान तथा धार्मिक आस्था की गरिमा के सम्मान के लिए तत्पर हैं।


  • आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों ने मुख्यमंत्री का जताया आभार।ल
  • कैबिनेट मंत्री श्रीमती रेखा आर्य के नेतृत्व में मुख्यमंत्री से की भेंट।

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी से मंगलवार को देर सायं मुख्यमंत्री आवास में कैबिनेट मंत्री श्रीमती रेखा आर्य के नेतृत्व में बड़ी संख्या में आयी आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों ने भेंट की। उन्होंने आंगनबाड़ी कार्यकर्तीयों को रूपये 1800 व मिनी आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को रूपये 1500 तथा आगनबाड़ी सहायिकाओं को रूपये 1500 की मासिक मानदेय वृद्धि किये जाने पर मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया।
इस अवसर पर सचिव महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास श्री हरि चन्द्र सेमवाल भी उपस्थित थे।


जनसाधारण के स्वास्थ्य की सुरक्षा और त्यौहारी सीजन में मिलावटखोरी पर नकेल कसने के लिए राज्य के खाद्य सुरक्षा आयुक्त डॉ० पंकज कुमार पाण्डेय द्वारा सम्बन्धित अधिकारियों को कड़े निर्देश जारी किये गये हैं। खाद्य सुरक्षा आयुक्त डॉ पंकज कुमार पाण्डेय ने बताया कि जिलों को अब साप्ताहिक सैम्पलिंग का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसके साथ ही सप्ताह में हाई रिस्क निरीक्षण करने के साथ ही दूध व दूध से बने खाद्य पदार्थों तेल मसाले आदि की “कोमोडिटी आधारित सैम्पलिंग“ करायी जा रही है।
खाद्य सुरक्षा आयुक्त के अनुसार राज्य की सीमाओं पर पुलिस डेयरी व आर०टी०ओ जैसे विभागों के साथ मिलकर संयुक्त निरीक्षण की प्रभावी कार्यवाही की जा रही है। खाद्य सुरक्षा आयुक्त डॉ पंकज कुमार पाण्डेय द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार विभाग द्वारा सबसे अहम कदम खाद्य पदार्थों की सैम्पलिंग हेतु निर्धारित समय को लेकर उठाया गया है। विगत वर्षों में जहां खाद्य पदार्थों की सैम्पलिंग के बाद रिपोर्ट आने में लम्बा समय लग जाता था जिसे अब सुनिश्चित किया गया है, कि 14 दिनों के अन्दर सैंपल रिपोर्ट आवश्यक रूप से आ जाये। इसके लिये रुद्रपुर स्थित जांच प्रयोगशाला को विशेष रूप से निर्देश जारी किये गये है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.