विश्व पर्यावरण दिवस पर राज्यपाल का संदेश#मुख्यमंत्री ने बतायी पर्यावरण संरक्षण के लिये सामूहिक प्रयासों की जरूरत#मुख्यमंत्री ने की चारधाम यात्रा व्यवस्थाओं की समीक्षा

-अरुणाभ रतूड़ी

राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह(से नि) ने विश्व पर्यावरण दिवस(05जून) के अवसर पर समस्त प्रदेशवासियों का आह्वान किया है कि वे प्लास्टिक कचरे का पूर्ण रूप से त्याग करें और अपनी जीवनशैली में ‘ग्रीन एक्टिविटीज और ग्रीन गुड्स’’ को स्थान दें। उन्होंने प्रदेशवासियों से पर्यावरण के संरक्षण-संवर्द्धन का संकल्प लेने की अपील की है। साथ ही चार धाम यात्रा में पहुंच रहे श्रद्धालुओं से अपील की है की वे भी देवभूमि को स्वच्छ रखने व पर्यावरण संरक्षण में सहयोग करें।
अपने संदेश में राज्यपाल ने कहा कि भारतीय संस्कृति और दर्शन में मानव एवं प्रकृति के सह अस्तित्व का संदेश निहित है। हमें अपनी पृथ्वी को स्वच्छ एवं हरित बनाने के लिए दिन प्रतिदिन प्रयास करने होंगे। इस वर्ष पर्यावरण दिवस की थीम ‘‘ओनली वन अर्थ’’ उत्तराखण्ड के परिप्रेक्ष्य में बेहद प्रासंगिक है। उत्तराखण्ड बहुत सी जीवन दायिनी नदियों तथा विशाल ईकोसिस्टम का केन्द्र है। यहां के पर्यावरण को प्लास्टिक कचरे से पूर्ण रूप से मुक्त करना होगा।

मुख्यमंत्री ने बतायी पर्यावरण संरक्षण के लिये सामूहिक प्रयासों की जरूरत।
मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने पर्यावरण संरक्षण को सामूहिक प्रयासों की जरूरत बताई हैं। विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर जारी अपने संदेश में मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें सामूहिक रूप से प्रकृति के संरक्षण की दिशा में भी चिन्तन करना होगा। पर्यावरण संरक्षण को जीवन से जुड़ा विषय बताते हुए उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण में उत्तराखण्डवासियों की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। प्रदेश सरकार समृद्ध जैव संसाधनों के संरक्षण के प्रति प्रतिबद्ध हैं। उत्तराखण्ड अपनी वन सम्पदा और नदियों के कारण पर्यावरण संरक्षण की मुहिम का ध्वज वाहक है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकारी प्रयासों के साथ ही जनता, जन प्रतिनिधियों एवं स्वयंसेवी संस्थाओं का पर्यावरण संरक्षण के प्रति जन चेतना जागृत करने और इसके संवर्द्धन में महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक वृक्ष लगाने के साथ ही नदी और जल स्रोतों की साफ सफाई के लिए भी पूरा प्रयास जरूरी है।

**

मुख्यमंत्री ने की चारधाम यात्रा व्यवस्थाओं की समीक्षा

यात्रा व्यवस्थाओं की निगरानी हेतु एक्सपर्ट कमेटी के गठन के दिये निर्देश

पर्यटन, स्वास्थ्य, परिवहन एवं एस०डी० आर० एफ० को संयुक्त रूप से यात्रा व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने के दिये निर्देश

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने शनिवार को देर सांय मुख्यमंत्री आवास में चारधाम यात्रा व्यवस्थाओं की समीक्षा की। उन्होंने यात्रा के दौरान यात्रियों के स्वास्थ्य को लेकर चिन्ता व्यक्त करते हुए इस सम्बन्ध में प्रभावी व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने इसके लिये एक्सपर्ट कमेटी गठित किये जाने के भी निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि यात्रा के दौरान हो रही मृत्यु के वास्तविक कारणों की भी सही स्थिति जनता के समक्ष रखी जाए। ताकि चार धाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालु आवश्यक एहतियात बरतें।  उन्होंने इसके लिये बुजुर्ग एवं अस्वस्थ लोगों के स्वास्थ्य परीक्षण की कारगर व्यवस्था सुनिश्चित करने को भी कहा।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि बुजुर्ग लोग अपना स्वास्थ्य परीक्षण के बाद ही यात्रा पर आए, इसकी व्यवस्था पर ध्यान दिया जाए। इस सम्बन्ध में चारधाम यात्रा से सम्बन्धित व्यवस्थाओं के प्रति नकारात्मक संदेश से बचाव के साथ ही यात्रा के सम्बन्ध में की गई सभी आवश्यक व्यवस्थायें सुनिश्चित करने के लिये पर्यटन, स्वास्थ्य, परिवहन एवं एस.डी. आर. एफ. के अधिकारी समन्वय से कार्य करते हुए। नियमित रूप से मीडिया को भी वस्तुस्थिति से अवगत कराये जाने की व्यवस्था सुनिश्चित कराये।

Leave a Reply

Your email address will not be published.