राज्यपाल से शिष्टाचार भेंट की प्रदेश के पूर्व डीजीपी अनिल रतूड़ी ने #निवेशकों को सुरक्षित निवेश की गारंटी देता है उत्तराखण्डः मुख्यमंत्री#पौड़ी में आयोजित तहसील दिवस में तुल 11शिकायतें दर्ज-www.janswar.com

-अरुणाभ रतूड़ी

मंगलवार को राजभवन में राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) से पूर्व पुलिस महानिदेशक अनिल रतूड़ी ने शिष्टाचार मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने अपनी पुस्तक ‘‘भंवरः एक प्रेम कहानी’’ राज्यपाल को भेंट की और पुस्तक के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

पूर्व डीजीपी ने बताया कि इस उपन्यास में उन्होंने अपने जीवन में घटित सभी संस्मरणों एवं अनुभूतियों का वर्णन किया है।
राज्यपाल ने कहा की इस पुस्तक के माध्यम से मानव जीवन के विभिन्न पहलुओं को दर्शाने का जो प्रयास किया गया है वह सराहनीय है। उन्होंने कहा कि अपने कार्यों के साथ-साथ श्री रतूड़ी ने जिस तरह अपनी साहित्यिक अनुभूतियों को बचा कर रखा वह प्रशंसनीय है।
-*********

निवेशकों को सुरक्षित निवेश की गारंटी देता है उत्तराखण्डः मुख्यमंत्री

उत्तराखण्ड में आतिथ्य क्षेत्र में निवेश की संभावनाओं पर सीएम ने निवेशकों से की चर्चा

05 साल में उत्तराखण्ड को पर्यटन क्षेत्र में बनाएंगे सर्वोपरि

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को राजपुर रोड स्थित होटल में उत्तराखण्ड में पर्यटन क्षेत्र के विकास और निवेशकों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद (यूटीडीबी) की ओर से उत्तराखण्ड में आतिथ्य क्षेत्र में निवेश की संभावना विषय पर चर्चा कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथ प्रतिभाग किया। मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए पर्यटन से संबंधित योजनाओं पर तेजी से क्रियान्वयन के लिए सचिव श्री आर. मीनाक्षी सुंदरम की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया जायेगा। जिसमें वित्त, आवास, लोक निर्माण विभाग, पुलिस, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड एवं सबंधित विभागों के अधिकारी सदस्य होंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखण्ड निवेशकों को सुरक्षित निवेश की गारंटी देता हैं। निवेशकों को हर संभव मदद देने के लिए प्रदेश सरकार प्रयासरत है। प्रदेश सरकार का लक्ष्य आने वाले 05 साल में उत्तराखण्ड को पर्यटन क्षेत्र में सर्वोपरि बनाने का है। मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि राज्य में पर्यटन की संभावनाओं को बढ़ाने के लिए जो भी सुझाव प्राप्त हुए हैं। इन सुझावों को आगे की कार्ययोजना में शामिल किया जायेगा। जो भी समस्याएं पर्यटन क्षेत्र से जुड़े हितधारकों द्वारा रखी गई, उनकी निदान के हर संभव प्रयास किये जायेंगे। सरलीकरण, समाधान, निस्तारण एवं संतुष्टि के भाव से कार्य किये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखण्ड में पर्यटन के क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं। राज्य में हवाई, सड़क एवं रेल कनेक्टिविटी का तेजी से विस्तार हो रहा है। राज्य में हवाई कनेक्टिविटी बढ़े इसके लिए ए.टी.एफ में 18 प्रतिशत की कमी की गई है। उत्तराखण्ड का नैसर्गिक सौन्दर्य पर्यटकों को उत्तराखण्ड आने के लिए आकर्षित करता है। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए राज्य में पर्यटन नीति लागू की गई है।

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश में नई कार्य संस्कृति आई है। सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास, सबका प्रयास के मूल मंत्र पर देश आगे बढ़ रहा है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि यह दशक उत्तराखण्ड का दशक होगा। 2025 तक उत्तराखण्ड को हर क्षेत्र में देश को अग्रणी राज्य बनाने के लिए राज्य सरकार प्रयासरत है। सभी विभागों को अगले 10 सालों का रोडमैप बनाने के लिए कहा गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 03 माह बाद भी पर्यटन क्षेत्र से जुड़े लोगों से संवाद किया जायेगा।

सचिव श्री आर. मीनाक्षी सुंदरम ने कहा कि निवेशकों के लिए सरकार की ओर से बनाई गई नीतियों का सरलीकरण किया जाएगा। जिससे निवेशकों को उत्तराखण्ड में पर्यटन के क्षेत्र में निवेश करने में आसानी हो सके। सचिव पर्यटन श्री दिलीप जावलकर ने कहा कि पर्यटन से उत्तराखण्ड का जहां राजस्व बढ़ता ह,ै वहीं बड़ी संख्या में लोगों के रोजगार के साधन भी उपलब्ध होते हैं। पर्यटन को उद्योग का दर्जा मिलने के बाद पर्यटन में निवेश की असीम संभावनाएं हैं। कार्यक्रम में पर्यटन क्षेत्र से जुड़े कारोबारियों व निवेशकों ने पर्यटन और प्रदेश में निवेश को बढ़ावा देने के लिए अपने सुझाव भी दिए।

इस अवसर पर  सचिव श्री एस.एन. पाण्डेय, पर्यटन क्षेत्र से जुड़े हितधारक एवं विभिन्न राज्यों से आये पर्यटन व्यवसायी मौजूद थे

*********

जिलाधिकारी डॉ0 विजय कुमार जोगदण्डे के दिशा-निर्देशन पर आज मुख्य विकास अधिकारी प्रशांत कुमार आर्य की अध्यक्षता में पौड़ी तहसील दिवस का आयोजन किया गया। आयोजित तहसील दिवस में कुल 11 शिकायत दर्ज हुई। मुख्य विकास अधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि अपने ही स्तर से समस्याओं का निस्तारण करना सुनिश्चित करें। जिससे लोगों को मुख्यालयों के चक्कर नहीं काटने पड़गे। साथ ही उन्होंने कहा कि अधिकारी समय-समय पर फिल्ड निरीक्षण भी करें। तहसील दिवस में अधिकतर विद्युत, भूमि संबंधित, गांव का नाम राजस्व अभिलेखों में सही दर्ज सहित अन्य मामलों से संबंधित शिकायतें शामिल थी।
मुख्य विकास अधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया फील्ड निरीक्षण के समय लोगों की समस्याओं का समाधान करें। इस दौरान पल्ली ग्राम सभा के प्रधान जयवीर रावत ने अवगत कराया कि गांव का नाम राजस्व अभिलेखों में गलत है, जबकि गांव का सही नाम पल्ली है। साथ ही उन्होंने गांव में विद्युत पॉल न होने की शिकायत भी की। जिसका संज्ञान लेते हुए मुख्य विकास अधिकारी ने संबंधित अधिकारी को जल्द समस्या का समाधान करने के निर्देश दिये। इसके अलावा भूमि, पेयजल सहित अन्य शिकायतें सामने आयी। मुख्य विकास अधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि जो शिकायतें दर्ज हुई हैं उनका तत्काल निस्तारण करवाना सुनिश्चित करें। कहा कि जिन समस्याओं में दिक्कतंे सामने आती है उसकी जानकारी प्रस्तुत करें।
इस अवसर पर उपजिलाधिकारी अजयबीर सिंह, मुख्य कृषि अधिकारी अमरेंद्र चौधरी, पीडी स्वजल दीपक रावत, खेल अधिकारी गिरीश कुमार, पर्यटन अधिकारी प्रकाश खत्री, एसडीओ विद्युत राजेंद्र प्रसाद नौटियाल, एडीपीआरओ नितिन नौटियाल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.