राज्यपाल से विधानसभा अध्यक्ष व मुख्यसचिव ने अलग-अलग शिष्टाचार भेंट की # मुख्यमंत्री ने एचडीएफसी बैंक द्वारा दी गयी राहत सामग्री के वाहनों को दिखाई हरी झंडी#ग्लोबल वार्मिंग का असर कृषि पर भी पड़ रहा है-डॉ.राजेन्द्र सिंह परोदा-www.janswar.com

 

राज्यपाल से विधानसभा अध्यक्ष व मुख्यसचिव ने अलग-अलग शिष्टाचार भेंट की

राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) से सोमवार को राजभवन में विधानसभा अध्यक्ष श्रीमती ऋतु खंडूड़ी भूषण ने शिष्टाचार भेंट की। इस दौरान राज्यपाल और विधानसभा अध्यक्ष के मध्य विभिन्न समसामयिक विषयों पर चर्चा हुई।

*******

राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) से सोमवार को राजभवन में मुख्य सचिव डॉ0 एस.एस. संधू ने शिष्टाचार भेंट की। इस दौरान राज्यपाल ने मुख्य सचिव से विभिन्न समसामयिक विषयों पर जानकारी प्राप्त की।

………..0………..

*******

मुख्यमंत्री ने एचडीएफसी बैंक द्वारा दी गयी राहत सामग्री के वाहनों को दिखाई हरी झंडी

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय से जोशीमठ के प्रभावित क्षेत्र के लिए राहत सामग्री के वाहनों का फ्लैग ऑफ किया। यह राहत सामग्री  एचडीएफसी बैंक के  CSR कार्यक्रम के अंतर्गत दी गई है।
मानव सेवा समाज संस्था द्वारा प्रभावितों को जोशीमठ में यह राहत सामग्री उपलब्ध कराई जाएगी। जोशीमठ में प्रभावितों को 1500 गरम पानी के बैग, 01 हजार कंबल, 8 सोलर चलित गीजर, 01 हजार एमरजेंसी सोलर चार्ज लाईट, 20 हजार सैनेट्री पैड, 260 अंगीठी एवं 460 रूम हीटर एचडीएफसी बैंक द्वारा उपलब्ध कराए गए।

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने जोशीमठ के प्रभावितों के लिए दिए गए इस सहयोग के लिए एचडीएफसी बैंक एवं मानव सेवा समाज संस्था का आभार व्यक्त किया। मुख्यमंत्री ने कहा की जोशीमठ के प्रभावितों को पुनर्वास एवं सारी व्यवस्थाएं व्यवस्थित तरीके से हो, इसके लिए सरकार कार्य कर रही है। सरकार के सहयोग के लिए संस्थाएं भी आगे आ रही हैं। प्रधानमंत्री जी ने जोशीमठ प्रभावित क्षेत्र के लिए समीक्षाएं की हैं, केंद्र सरकार की ओर से राज्य को हर संभव सहयोग का आश्वासन मिला है। इस बार के बजट में जोशीमठ के प्रभावित क्षेत्र के लिए एक हजार करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है।

इस अवसर पर एचडीएफसी बैंक के सर्कल हेड श्री बकुल सिक्का, श्री गौरव जैन, श्री विवेक ग्रोवर, मानव सेवा समाज संस्था से श्री आशीष गिरी, श्री जितेंद्र मुदलियार, श्री श्याम  सुंदर एवं सुश्री उमा मौजूद थे।

*********

अल्मोड़ा समाचार

ग्लोबल वार्मिंग का असर कृषि पर भी पड़ रहा है-डॉ.राजेन्द्र सिंह परोदा

अल्मोड़ा :(अशोक कुमार पाण्डेय):विवेकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान के वार्षिक समारोह में मुख्य अतिथि पद्म विभूषण भारतीय कृषि औद्योगिक परिषद के पूर्व महानिदेशक डॉ राजेंद्र सिंह परोदा ने कहा कि कि ग्लोबल वार्मिग से जहां कई क्षेत्रों में प्रभाव पड़ रहा है उससे कृषि क्षेत्र भी अछूता नही है , सेव की खेती ग्लोबल वार्मिंग की वजह से उच्च स्थानों मे विस्थापित हो रही है इसके स्थान पर कीवी लगाई जा रही है । कीवी अच्छा उत्पादन दे रही है । भूमि की उर्वरा शक्ति को बढाने के लिये प्रयोगो की जरूरत है । यदि खेती लाभदायक होगी तो युवा खेती से जुडेंगे । एक सवाल के जबाब में उन्होंने कहा कि बीजों को मौलिक स्वरूप को बनाये रखना एक चुनौती है मौलिक स्वरूप मे ही मौलिक गुण विद्यमान रहते है किन्तु जब बीजों में जैनरिक सुधार होता है , । तभी वह अच्छी फसल देते है । सुगन्धित व मौलिक बीजों को बचाने की जरूरत है। ये बीज ज्यादा मात्रा में नही है । उन्हें संरक्षित करना ही उपाय है । उन्होंने कहा कृषि को लाभकारी बनाने के लिए वैज्ञानिक अनुसंधानों के निरंतर विकास की आवश्यकता है और इसके लिए भारत के कृषि क्षेत्र में कार्यरत बहुत सारे संस्थान अपने वैज्ञानिक अनुसंधान के माध्यम से खेती के क्षेत्र में देश को आत्मनिर्भर बना रहे हैं ,आज दुनिया में जहां खाद्यान्न एक बड़ा संकट है वहीं भारत में खाद्यान्न के क्षेत्र में आत्मनिर्भरता प्राप्त है
अल्मोड़ा विवेकानन्द पर्वतीय कृषि  अनुसंस्थान के निदेशक डा लक्ष्मी चन्द ने कहा कि यह हमारे लिये गर्व की बात है कि आज अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त कृषि वैज्ञानिक डा . राजेन्द्र सिंह परोदा ने हमारा आतित्थ्य स्वीकार किया । पर्वतीय.कृषि के विकास मे विवेकानन्द कृषि अनुसंधान संस्थान दशाब्दियों से कार्य कर रहा है , संस्थान के वैज्ञानिकों ने कई उपलब्धियां हासिल की है जो सराहनीय है । इस अवसर पर विभिन्न क्षेत्रों में कार्य कर रहे कृषि वैज्ञानिकों ने किसानो को विविध जानकारी दी , विविध प्रकार के स्टाल लगाये गये । लोगो द्वारा बीज व कृषि उपकरणों का क्रय विक्रय किया गया । तथा अतिथियों द्वारा लगाये गये स्टालों का निरिक्षण किया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *