राज्यपाल ने आदर्श आयुर्वेदिक फार्मेसी” के 75 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग किया# मुख्यमंत्री ने चम्पावत जिले के देवीधुरा स्थित मां वाराही धाम के बग्वाल मेले में प्रतिभाग किया तथा हर घर तिरंगा कार्यक्रम में उन्होंने खटीमा शहीद स्थल पर कार्यक्रम में प्रतिभाग किया#वरि.पुलिस अधिक्षक देहरादून ने किया निरीक्षक,उपनिरीक्षकों का स्थानान्तरण-www.janswar.com

-नागेन्द्र प्रसाद रतूड़ी                                 स्वतंत्र पत्रकार (राज्यमान्यता प्राप्त)

 

हरिद्वार में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए राज्यपाल

 

आयुर्वेद और जड़ी बूटियाँ हमें जड़ों, सभ्यता, संस्कृति और इतिहास से जोड़ती हैं- राज्यपाल

राजभवन देहरादून 12 अगस्त, 2022

राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने शुक्रवार को हरिद्वार निर्मल छावनी स्थित “आदर्श आयुर्वेदिक फार्मेसी” के 75 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग किया। इस अवसर पर राज्यपाल ने आयुर्वेद, योग, गौ-गंगा संरक्षण के लिए विशिष्ट कार्य करने वाले लोगों एवं शहीदों के परिजनों को सम्मानित किया।
कार्यक्रम के दौरान अपने सम्बोधन के दौरान राज्यपाल ने आदर्श आयुर्वेदिक फार्मेसी परिवार को बधाई देते हुए कहा कि यह संयोग है कि एक ओर हम आज़ादी के 75 वर्ष पूर्ण होने पर अमृत महोत्सव मना रहे हैं वहीं दूसरी ओर आदर्श आयुर्वेदिक फार्मेसी भी 75 वर्ष का सफ़र पूरा कर चुकी है। उन्होंने कहा कि कोविड काल में एक ओर देश-दुनिया की  स्वास्थ्य व्यवस्था इस महामारी से जूझ रही थी वहीं दूसरी ओर योग और आयुर्वेद ने इस बीमारी से डटकर मुक़ाबला करते हुए लोगों के आत्मविश्वास को जगाया। राज्यपाल ने कहा कि इस कार्यक्रम में संत, सैनिक, सेवक, सिक्ख और समाज एक साथ नज़र आ रहे हैं।

’जड़ों से जोड़ती हैं जड़ी-बूटियाँ’

राज्यपाल ने अपने सम्बोधन में कहा कि आयुर्वेद और जड़ी बूटियाँ हमें हमारी जड़ों, सभ्यता, संस्कृति और इतिहास से जोड़ती हैं। उन्होंने कहा कि हम सब की ज़िम्मेदारी है कि आयुर्वेद को पूरी मानवता से साझा कर भारत को विश्वगुरु बनाने की दिशा में काम करें।
राज्यपाल ने कहा कि जो जड़ी बूटियाँ शिव के चरणों से, हिमालय से निकलती हैं वो एक आशीर्वाद ले कर आती हैं।

उन्होंने कहा कि निःसंदेह आयुर्वेद हमारी भारतीय परम्परा की पौराणिक धरोहर है, तो योग हमारी सनातन संस्कृति का एक अभिन्न अंग है। हमारे पूर्वज आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक संसाधनों से उपचार की पद्धतियों को ही अपनाते थे और वे लोग दीर्घायु होते थे। आयुर्वेद तो यूं भी वनस्पति से ही पोषित होता है पेड़-पौधों की जड़, तना, पत्ती, छाल, फल, फूल, कली, बीज सभी कुछ तो आयुर्वेद में प्रयोग होते हैं ।

’अद्भुत है हरिद्वार की धरती’


            राज्यपाल ने कहा की हरिद्वार में योग, आयुर्वेद, मर्म चिकित्सा और संस्कृत विद्या के प्रसार में अनेक महत्वपूर्ण संस्थान अपनी सेवाएं दे रहे हैं। इसके साथ ही भारतीय बौद्धिक सम्पदा को संजोए रखने और इसे आगे बढ़ाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। इसी दिशा में यह आदर्श आयुर्वेदिक फार्मेसी भी पिछले 75 वर्षों से आयुर्वेद के प्रसार में अपनी महत्वपूर्ण सेवाएं दे रही हैं।

उन्होंने कहा कि हरिद्वार तो योग, आयुर्वेद और संस्कृत विद्या का त्रिवेणी संगम है लेकिन मैं अनुभव कर रहा हूँ कि ये तीनों धाराएं अलग-अलग दिशाओं में बह रही हैं। जब कि सच यह है कि ये तीनों विद्याएं एक-दूसरे के बिना अधूरी और अपूर्ण हैं। संस्कृत के बिना आप योग और आयुर्वेद की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं। इस लिए योग, आयुर्वेद और संस्कृत को एक साथ जोड़कर आगे बढ़ाना होगा।

’भारत की सभ्यता और ज्ञान का प्रतीक है संस्कृत’


           राज्यपाल ने कहा कि आयुर्वेद और संस्कृत का आपस में अनोखा मेल है। संस्कृत भाषा भारत की सभ्यता, संस्कृति और ज्ञान का प्रतीक है। राज्यपाल ने कहा कि संस्कृत भाषा हमें अपनी जड़ों से जोड़ती है और इसमें ज्ञान का बड़ा भंडार है। राज्यपाल ने कहा कि गुरुग्रंथ साहिब में भी पहला शब्द “एकम” है जिसका अर्थ है पूरा ब्रह्मांड एक है और एक से एक मिलकर पूरे संसार को बनाते हैं।

इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष श्रीमती ऋतु खंडूरी ने कहा कि भारत की पहचान अपनी सभ्यता, संस्कृति और आयुर्वेद के कारण है। आयुर्वेद, योग और सभी आयुर्वेद पद्धतियां राज्य को स्वस्थ बनाने के साथ आर्थिक व सामाजिक सशक्तीकरण का माध्यम भी हैं। विश्व में कईं चिकित्सा पद्धतियां हैं, लेकिन आयुर्वेद अलग है। कोविड के बाद लोगों में आयुर्वेद के प्रति रुझान बढ़ा है। अब आयुर्वेद के ज्ञान को वैज्ञानिक कसौटी पर खरा उतारने का समय है।

**********

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने शुक्रवार को चंपावत जिले के देवीधुरा स्थित मां वाराही धाम में लगने वाले प्रसिद्ध बग्वाल मेले में प्रतिभाग किया। इस दौरान मुख्यमंत्री श्री धामी ने माँ वाराही मंदिर में विधि विधान से पूजा कर राज्य की खुशहाली की कामना की एवं मां वाराही धाम में चार खाम सात थोक के बीच खेले जाने वाले प्रसिद्ध पाषाण युद्ध के साक्षी बने। इस अवसर पर उन्होंने देवीधुरा में पुलिस चौकी के निर्माण कार्य किए जाने की घोषणा की।

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए कहा की संस्कृति और संस्कार के इस उत्तराखंड प्रदेश के चम्पावत, देवीधुरा में स्थित मां वाराही धाम को शीश झुकाकर कोटिश प्रणाम करता हूं। इस क्षेत्र में अवस्थित भीम शिला, आदि शक्ति गुफा, एवं समस्त देवी – देवताओं के आशीर्वाद से 2021 को बग्वाल मेले को राजकीय मेला घोषित किया गया था। कोरोना काल में दो साल से प्रतीकात्मक बग्वाल आयोजित की जा रही थी।  उन्होंने कहा कि रक्षा बन्धन के शुभ अवसर पर बग्वाल युक्त इस मेले से देवीधुरा चम्पावत की प्रसिद्धि, ख्याति पूरे देश भर में ही नहीं अपितु विदेशों में भी है।

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा की जोशीमठ के सितूण में स्थित माता सीता के 04 दशक एवं 02 वर्ष बाद हो रहे महायज्ञ में जाने का अवसर प्राप्त हुआ था, जहां माता सीता जी को प्रसन्न किये जाने हेतु उनकी विराजमान पाषाण शिला की अर्चना की जाती है, तो वहीं माँ वाराही देवी को प्रसन्न किये जाने हेतु पाषाण युद्ध अर्थात बग्वाल खेला जाता है। उन्होंने कहा देवीधुरा के बग्वाल पूजन से क्षेत्र में खुशहाली आए, फसलों की अच्छी पैदावार हो, क्षेत्र वासी रोग मुक्त हों, निवासियों को अन्न-धन की प्राप्ति हो, ऐसी मेरी प्रार्थना है। उन्होंने कहा कुमायूं के प्राचीन मंदिरों को भव्य बनाने के लिये मानसखण्ड मंदिर माला मिशन की शुरुआत की गई है। इस मिशन के अन्तर्गत ही माँ वाराही धाम देवीधूरा को भी जोड़ा जाएगा।
मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा की प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केदारनाथ मंदिर का भव्य एवं दिव्य निर्माण कार्य हुआ है , साथ ही बद्रीनाथ धाम का निर्माण कार्य भी तेजी से किया जाएगा। चार धाम यात्रा में इस साल रिकॉर्ड  श्रद्धालु आ रहे हैं। उन्होंने कहा ऑल वेदर रोड के निर्माण कार्य से पर्यटक एवं श्रद्धालुओं का सफर सुगम एवं सुरक्षित हुआ है। संपूर्ण देश प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। उन्होंने कहा हमारी सरकार ने संकल्प लिया है कि हम उत्तराखंड राज्य के 25 वें राज्य स्थापना दिवस पर देश के सर्वश्रेष्ठ राज्य बने।
इस अवसर पर सांसद श्री अजय  टम्टा   , अध्यक्ष वन विकास निमुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने शुक्रवार को चंपावत जिले के देवीधुरा स्थित मां वाराही धाम में लगने वाले प्रसिद्ध बग्वाल मेले में प्रतिभाग किया। इस दौरान मुख्यमंत्री श्री धामी ने माँ वाराही मंदिर में विधि विधान से पूजा कर राज्य की खुशहाली की कामना की एवं मां वाराही धाम में चार खाम सात थोक के बीच खेले जाने वाले प्रसिद्ध पाषाण युद्ध के साक्षी बने। इस अवसर पर उन्होंने देवीधुरा में पुलिस चौकी के निर्माण कार्य किए जाने की घोषणा की।

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए कहा की संस्कृति और संस्कार के इस उत्तराखंड प्रदेश के चम्पावत, देवीधुरा में स्थित मां वाराही धाम को शीश झुकाकर कोटिश प्रणाम करता हूं। इस क्षेत्र में अवस्थित भीम शिला, आदि शक्ति गुफा, एवं समस्त देवी – देवताओं के आशीर्वाद से 2021 को बग्वाल मेले को राजकीय मेला घोषित किया गया था। कोरोना काल में दो साल से प्रतीकात्मक बग्वाल आयोजित की जा रही थी।  उन्होंने कहा कि रक्षा बन्धन के शुभ अवसर पर बग्वाल युक्त इस मेले से देवीधुरा चम्पावत की प्रसिद्धि, ख्याति पूरे देश भर में ही नहीं अपितु विदेशों में भी है।

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा की जोशीमठ के सितूण में स्थित माता सीता के 04 दशक एवं 02 वर्ष बाद हो रहे महायज्ञ में जाने का अवसर प्राप्त हुआ था, जहां माता सीता जी को प्रसन्न किये जाने हेतु उनकी विराजमान पाषाण शिला की अर्चना की जाती है, तो वहीं माँ वाराही देवी को प्रसन्न किये जाने हेतु पाषाण युद्ध अर्थात बग्वाल खेला जाता है। उन्होंने कहा देवीधुरा के बग्वाल पूजन से क्षेत्र में खुशहाली आए, फसलों की अच्छी पैदावार हो, क्षेत्र वासी रोग मुक्त हों, निवासियों को अन्न-धन की प्राप्ति हो, ऐसी मेरी प्रार्थना है। उन्होंने कहा कुमायूं के प्राचीन मंदिरों को भव्य बनाने के लिये मानसखण्ड मंदिर माला मिशन की शुरुआत की गई है। इस मिशन के अन्तर्गत ही माँ वाराही धाम देवीधूरा को भी जोड़ा जाएगा।
मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा की प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केदारनाथ मंदिर का भव्य एवं दिव्य निर्माण कार्य हुआ है , साथ ही बद्रीनाथ धाम का निर्माण कार्य भी तेजी से किया जाएगा। चार धाम यात्रा में इस साल रिकॉर्ड  श्रद्धालु आ रहे हैं। उन्होंने कहा ऑल वेदर रोड के निर्माण कार्य से पर्यटक एवं श्रद्धालुओं का सफर सुगम एवं सुरक्षित हुआ है। संपूर्ण देश प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। उन्होंने कहा हमारी सरकार ने संकल्प लिया है कि हम उत्तराखंड राज्य के 25 वें राज्य स्थापना दिवस पर देश के सर्वश्रेष्ठ राज्य बने।

एक अन्य कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने शुक्रवार को शहीद स्थल खटीमा पहुंचकर आजादी का अमृत महोत्सव के अवसर पर हर घर तिरंगा अभियान में प्रतिभाग किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने उत्तराखंड राज्य आंदोलन में शहीद हुए राज्य आंदोलनकारियों के चित्र पर श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए नमन किया। उन्होंने देश की आजादी तथा देश व देश की सीमाओं की रक्षा में अपने प्राणों की आहुति देने वाले शहीदों, स्वतंत्रता सेनानियों को नमन किया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में आजादी के महोत्सव के तहत देशभर में कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज देश के अंदर राष्ट्र भक्ति का भाव जागृत हुआ है, यह समय जहां हमारे लिए आजादी का अमृत महोत्सव मनाने का है, वहीं आने वाले 25 साल अमृतकाल होगा। उसके लिए भी हमें संकल्पबद्ध होना है। उन्होंने कहा कि हमारी नई पीढ़ी अमृतकाल में देश के नए सोपानों को तय करेगी। समृद्ध, समर्थ व शक्तिशाली भारत के रूप में जिसकी कल्पना कर रहे थे, प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने इसको आगे बढ़ाने का काम किया है। देश व राज्य के चहुंमुखी विकास हेतु हम सब संकल्प लें।
इस अवसर पर मंडी समिति अध्यक्ष श्री नन्दन सिंह खड़ायत, जिला महामंत्री श्री अमित पांडे,  श्री रमेश जोशी, श्री दान सिंह, श्री गौरव सोनकर, श्री संतोष अग्रवाल, श्री दिनेश अग्रवाल, श्री हरीश जोशी, श्री भगत सिंह बोरा, जिलाधिकारी श्री युगल किशोर पंत, एसएसपी श्री मंजूनाथ टीसी उपस्थित थे।

********

जनपद के 12 निरीक्षकों एवं 17 उपनिरीक्षकों का किया स्थानान्तरण

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दिलीप सिंह कुँवर ने जनपद के 12 निरीक्षकों एवं 17 उपनिरीक्षकों का किया स्थानान्तरण
आदेश संख्या-एसटी-एसएसपी-22/2022के अनुसार जिन निरीक्षकों के स्थानान्तरण किये गये उनका नाम निम्नवत् है।
1- निरीक्षक राजेन्द्र सिंह रावत को प्रभारी एसआईएस शाखा पु०का० को प्रभारी निरीक्षक थाना कैण्ट।
2-निरीक्षक शंकरसिंह बिष्ट प्र.नि.थाना-कैण्ट को प्र.नि. कोतवाली विकासनगर।
3-,निरी.रविन्द्र शाह को कोलवाली विकासनगर से पुलिस कार्यालय।
4-निरी.सूर्यभूषण नेगी पुलिस लाईन से प्रभारी नि.कोतवाली पटेलनगर।
5-निरीक्षक रविन्द्र यादव को प्रभारी निरीक्षक कोतवाली पटेलनगर से एसआईएस शाखा पुलिस कार्यालय।
6-निरीक्षक राजेश शाह को पुलिस लाईन से प्र.नि.कोतवाली डोईवाला।
7-निरी.मनोज मनवाल प्र..नि.कोतवाली डोईवाला से प्रभारी सीनियर सिटिजन सैल पुलिस  कार्यालय ।
8-निरी.मुकेशत्यागी पुलिस लाईन को प्र.नि.थाना नेहरू कॉलोनी।
9-निरी.प्रदीप चौहान को थाना नेहरू कॉलोनी से पुलिस कार्यालय।
10-निरी.गिरीशचन्द्र शर्मा को प्र.नि.कोतवाली मसूरी से प्रभारी डीसीसी पुलिस कार्यालय।
11-निरी.दिगपाल सिंह कोहली प्रभारी डीसीसी पुलिस कार्यालय से प्र.नि.कोतवाली मसूरी।
12-निरी.होशियार सिंह पंखोली को सीनियर सिटिजन सैल से प्र.नि.थाना बसन्त विहार
तथा
13-उप निरीक्षक विनोद सिंह राणा को थानाध्यक्ष बसंत विहार से पुलिस कार्यालय स्थानान्तरित किया गया।

जिन उप निरीक्षकों के स्थानान्तरण आदेश संख्या-एसटी-एसएसपी 27/2022 के अनुसार निम्न उपनिरीक्षकों(ना.पु.) के स्थानान्तरण हुए है।

1-उ.नि.नवीन जुराल -पुलिस लाइन से वरि.उप निरी. कोतवाली पटेल नगर।
2-लोकेन्द्र बहुगुणा- पु.ला.से चौकी प्रभारी आई.एस.बी.टी. कोतवाली-पटेलनगर।
3-बलदीप सिंह- पु.ला. से व.उप निरी.थाना रायपुर।
4-सुभाष जखमोला- पु.ला. से चौकी प्रभारी धारा कोतवाली नगर।
5-पंकज तिवारी- चौकी प्रभारी हरबर्टपुर,(कोत.वि.नगर) से चौकी प्रभारी जोगीवाला थाना-नेहरू कॉलोनी।
6-नरेन्द्र पुरी -चौकी प्रभारी हाथी बडकुला ,(कोत.डालनवाला) से चौकी प्रभारी नयागाँव (कोत.-पटेलनगर)।
7-मयंक तिवारी-पु.ला.से चौकी प्रभारी सर्किट (थाना कैण्ट) ।
8-वैभव गुप्ता-पु.ला.से चौकी प्रभारी- हरबर्टपुर (कोत.-विकासनगर)।
9-विनयशर्मा-कोतवाली मसूरी से चौकी प्रभारी-करणपुर कोतवाली (डालनवाला)।
10-हर्ष अरोड़ा-वरि.उप निरी. कोतवाली- पटेल नगर से चौकी प्रभारी हाथीबड़कुला (कोत.- डालनवाला)।
11-संदीप रावत- पु.ला.से चौकी प्रभारी कुलाल (कोतवाली- विकास नगर)।
12-अमित-चौकी प्रभारी कुल्हाल ,(कोत.वि.नगर) से कोतवाली ऋषिकेश।
13-आशीष रावत-व.उ.नि.(कोत.-रायपुर)से कोतवाली नगर।
14-मिथुन-चौकी प्रभारी धारा ,(कोतवाली नगर) से कोतवाली पटेलनगर।
15-दिनेश कुमार-चौकी प्रभारी मयूर विहार (कोत.-रायपुर) से कोतवाली -ऋषिकेश।
16-गिरीश चन्द्र- पु.ला.से चौकी प्रभारी मयूर विहार थाना रायपुर।

Leave a Reply

Your email address will not be published.