राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री ने सूचना एवं लोक संपर्क विभाग की विकास पुस्तिका का विमोचन किया #पौड़ी में काबीना मंत्री एवं जनपद के प्रभारी मंत्री श्री सुबोध उनियाल की अध्यक्षता में हर्षोउल्लास के साथ मनाया गया। पढिए Janswar.Com में।

समाचार प्रस्तुति-अरुणाभ रतूड़ी

राज्यपाल ने ‘राज्य स्थापना दिवस’ की 20वीं वर्षगांठ पर पुलिस रैतिक परेड की सलामी ली
राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री ने सूचना एवं लोक संपर्क विभाग की विकास पुस्तिका का विमोचन किया
राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य ने सोमवार को राज्य स्थापना दिवस की 20वीं वर्षगांठ पर पुलिस लाइन में आयोजित रैतिक परेड का निरीक्षण कर सलामी ली।
राज्यपाल ने विशिष्ट सेवाओं के लिए ‘‘राष्ट्रपति पुलिस पदक’’ प्राप्त 06 पुलिस अधिकारियों और ‘‘राष्ट्रपति के जीवन रक्षा पदक’’ से सम्मानित दो पुलिस कार्मिकों को अलंकृत भी किया। इनमें श्री पुष्पक ज्योति, पुलिस महानिरीक्षक, श्री श्रीधर प्रसाद बडोला, (से.नि.) पुलिस उपाधीक्षक, श्री प्रकाश चन्द्र शर्मा (से.नि.) उपनिरीक्षक, श्री धनराम आर्य (से.नि.) पी.सी.विशेष श्रेणी पी.ए.सी., श्री आदित्यराम डिमरी (से.नि.) उप निरीक्षक एस.डी.आर.एफ. तथा श्री हीरा सिंह राणा (से.नि.) सहायक सेना नायक को राष्ट्रपति पुलिस पदक और श्री विनोद प्रसाद थपलियाल, उप निरीक्षक, श्री ममलेश सिंह, आरक्षी को राष्ट्रपति के जीवन रक्षा पदक से सम्मानित किया गया है।
समारोह को संबोधित करते हुए राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य ने उपस्थित जन समूह को राज्य स्थापना दिवस की शुभकामनाएं दी। उन्होंने राज्य आन्दोलनकारियों को भी नमन किया। राज्यपाल ने अनुशासित और भव्य पुलिस परेड के लिए पुलिस परिवार को बधाई दी। अपने संबोधन में राज्यपाल ने कहा कि कानून-व्यवस्था और शांति की स्थापना में उत्तराखण्ड पुलिस अच्छा कार्य कर रही है। कोविड महामारी के समय में भी पुलिस ने अग्रिम मोर्चे पर रहकर जनता की सहायता की है। कर्तव्य निवर्हन करते हुए लगभग 1600 पुलिस अधिकारी/कर्मचारी कोविड बीमारी से संक्रमित हुए। लेकिन इसके बाद भी हमारी पुलिस, डाक्टर्स, नर्सेज और सभी कर्मचारी अपने कर्त्तव्य का पालन कर रहे हैं। उत्तराखण्ड निर्माण में महिलाओं का बहुत बड़ा योगदान रहा है। हमें महिलाओं के समग्र कल्याण एवं सशक्तीकरण हेतु हर संभव कदम उठाने होंगे। उन्होंने कहा कि ड्रग्स हमारी युवा पीढ़ी के लिये बहुत बड़ा खतरा है। प्रदेश में एण्टी ड्रग्स टास्क फोर्स बनाई गई है। इस टास्क फोर्स को अपनी पूरी क्षमता से कार्य करना होगा, जिससे देवभूमि से नशे के सौदागरों का समूल नाश हो। उत्तराखण्ड में वर्ष 2022 तक हर घर तक नल से जल देने पर काम चल रहा है। इसी प्रकार राज्य सरकार द्वारा शिक्षा, स्वास्थ्य एवं अन्य महत्वपूर्ण क्षेत्रों में लगातार कार्य किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपने संबोधन में 21वें राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर राज्य निर्माण के सभी ज्ञात अज्ञात शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए सभी प्रदेशवासियों को राज्य स्थापना दिवस की शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड आज 20 वर्ष पूर्ण कर रहा है। राज्य निर्माण के बाद अन्य राज्यों की तुलना में राज्य की विकास की गति तीव्र हुई है। हमारा प्रदेश शिक्षा, स्वास्थ्य, अवस्थापना विकास, नारी उत्थान आदि के क्षेत्र में निरंतर आगे बढ़ रहा है। राज्य ने एक अच्छी दिशा पकड़ी है।
मुख्यमंत्री ने मातृशक्ति को नमन करते हुए कहा कि राज्य के आंदोलन में महिलाओं ने महत्त्वपूर्ण भूमिका निभायी है। प्रदेश के दूरस्थ क्षेत्रों में पर्वतीय क्षेत्रों की अर्थव्यवस्था महिलाओं पर ही निर्भर करती हैं। प्रदेश सरकार ने महिला स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से महिलाओं को खेती के कार्य से अलग आगे बढ़ाने का कार्य किया है। आज राज्य में 30 हजार महिला स्वयं सहायता समूह हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि महिलाओं की आर्थिक स्थिति की मजबूती के लिये महिला स्वयं सहायता समूहों को 05 लाख तक बिना ब्याज के ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि किसानों के लिए पहले 2 लाख तक का ब्याजमुक्त ऋण दिया जा रहा था जिसे अब बढ़ाकर 3 लाख रूपए किया जा रहा है। राज्य के विकास का मानक ग्रामीण अर्थव्यवस्था एवं शहरी अर्थव्यवस्था के अन्तर को कम करके आँका जाना चाहिए।
डी.जी.पी श्री ए.के.रतूड़ी ने अपने संबोधन में उत्तराखण्ड पुलिस की उपलब्धियों की जानकारी दी।
राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर सूचना एवं लोक संपर्क विभाग द्वारा प्रकाशित विकास पुस्तिका ‘‘विकसित होता उत्तराखण्ड : बातें कम, काम ज्यादा’’ का विमोचन किया। 164 पृष्ठों की रंगीन विकास पुस्तिका में उत्तराखण्ड सरकार की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं एवं उपलब्धियों का विवरण शामिल किया गया है, जोकि आम जन के लिए निश्चित रूप से उपयोगी सिद्ध होगी। इस अवसर पर राज्यपाल और मुख्यमंत्री द्वारा पुलिस विभाग द्वारा प्रकाशित कॉफी टेबल बुक का भी विमोचन किया गया।
रैतिक परेड के प्रथम कमाण्डर डॉ. मंजूनाथ टी.सी., कमाण्डेंट आई.आर.बी. द्वितीय, उप सेनानायक सुश्री रेखा यादव तथा परेड एडजुटेंट पुलिस उपाधीक्षक सुश्री पल्लवी त्यागी थीं। रैतिक परेड के उपरांत उत्तराखण्ड पुलिस द्वारा डॉग शो, एण्टीटेररिस्ट स्क्वाड डेमो, मोटर साइकिलिंग और घुड़सवारी के हैरतअंगेज प्रदर्शन दिखाकर सभी का मन मोह लिया गया।
कार्यक्रम में इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेमचन्द अग्रवाल, मेयर देहरादून श्री सुनील उनियाल गामा, विधायक श्री मुन्ना सिंह चौहान, श्री कुंवर प्रणव सिंह ‘चैम्पियन‘, श्री हरबंस कपूर, श्री विनोद चमोली, श्री गणेश जोशी, मुख्य सचिव श्री ओम प्रकाश, सचिव श्री आर.के.सुधांशु, सचिव श्री नितेश झा, सचिव मुख्यमंत्री श्रीमती राधिका झा, सचिव सूचना दिलीप जावलकर, सचिव श्री राज्यपाल बृजेश कुमार संत, महानिदेशक सूचना डॉ. मेहरबान सिंह बिष्ट सहित शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारीगण एवं जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।


  • पौड़ी में काबीना मंत्री एवं जनपद के प्रभारी मंत्री श्री सुबोध उनियाल की अध्यक्षता में हर्षोउल्लास के साथ मनाया गया।

जनपद में आज 21वां राज्य स्थापना दिवस को सूबे के काबीना मंत्री एवं जनपद के प्रभारी मंत्री श्री सुबोध उनियाल की अध्यक्षता में हर्षोउल्लास के साथ मनाया गया। जिला मुख्यालय (स्थान रामलीला मैदान) पौड़ी में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में प्रदेश के मा. कृषि, उद्यान व रेशम विकास मंत्री/जनपद प्रभारी मंत्री सुबोध उनियाल ने शिरकत कर प्रदेश वासियों को स्थापना दिवस की शुभकामनाएं दी। उन्होंने आयोजित कार्यक्रम में ध्वजारोहण कर जनपद के शहीद राज्य आंदोलनकारियों के चित्रों पर पुष्प अर्पित कर श्रदांजलि दी। परिसर में स्थापित विभागीय स्टाॅलों का निरीक्षण कर स्टाॅल में मौजूद उत्पादों/सामाग्री के बारे में जानकारी लेते हुए और बेहतर कार्य करने के सुझाव दिये। आयोजित कार्यक्रम में मा. प्रभारी मंत्री श्री उनियाल, विधाायक पौड़ी मुकेश कोली, विधायक यमकेश्वर ऋतु खण्डूड़ी भूषण, अध्यक्ष जिला पंचायत शांति देवी, जिलाध्यक्ष भाजपा संपत सिंह रावत, अध्यक्ष नगर पालिका पौड़ी यशपाल बेनाम, ब्लाॅक प्रमुख द्वारीखाल महेन्द्र राणा, खिर्सू भवानी गायत्री, पौड़ी दीपक कुकशाल, भाजपा महिला मोर्चा उपाध्यक्ष सुषमा रावत, जिला सैनिक कल्याण बोर्ड उपाध्यक्ष कर्नल नोटियाल, प्रभारी जिलाधिकारी/मुख्य विकास अधिकारी आशीष भटगांई, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पी. रेणुका देवी, अपर जिलाधिकारी डाॅ. एस.के. बरनवाल आदि गणमान्य व्यक्तियों ने सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग, उत्तराखण्ड द्वारा प्रकाशित ‘‘विकसित होता उत्तराखण्ड बातें कम, काम ज्यादा‘‘ तथा जिला सूचना कार्यालय पौड़ी द्वारा प्रकाशित ‘‘विकास पुस्तिका‘‘ का विधिवत विमोचन किया। वहीं विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी गई, जिनमें सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग द्वारा सांस्कृतिक दल के माध्यम से कोविड-19 के दृष्टिगत जन जागरूकता हेतु नुक्कड़ नाटक भी प्रस्तुत किया गया।
इस अवसर पर मा. मंत्री श्री उनियाल ने जिला पूर्ति विभाग के पीवीसी राशन कार्ड, स्वास्थ्य विभाग के आयुष्मान गोल्डन कार्ड, सहकारिता विभाग द्वारा दीनदयाल उपाध्याय योजना के अन्तर्गत 04 कृषकों को ब्याज फ्री कृषि ऋण, महिला सशक्तिकरण बाल विकास विभाग द्वारा 08 कुपोषित बच्चों को पोषण किट, उद्यान विभाग द्वारा 13 प्रगतिशील उद्यानपतियों तथा कृषि विभाग द्वारा 04 उत्कृष्ठ कृषकों को प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया।
आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मा. मंत्री श्री उनियाल ने सभी शहीद उत्तराखण्ड आन्दोलनकारियों को श्रद्धाजंलि देते हुए राज्य स्थापना दिवस की बधाई दी। उन्होंने कहा कि आज का दिन बहुत महत्वूपर्ण दिन है, यह जब-जब आता है, तब-तब याद दिलाता है, उन वादों और संघर्षों की, जिस संघर्ष में एक उज्जवल उत्तराखण्ड के निर्माण का सपना/संकल्प था। कहा कि जहां केवल 15 प्रतिशत गांव रोड़ कनेक्टिविटी से जुडे थे, 20 प्रतिशत गांवों का विद्युतीकरण हुआ था, 30 प्रतिशत गांवों में पीने के पानी की सुविधा थी और लगभग 450 हाईस्कूल/ इण्टरमीडिया स्कूल इस राज्य में हुआ करते थे तथा लगभग 15-16 महाविद्यालय थे। आज उन बुनियादी सुविधाओं यथा विद्युत, पेयजल, सड़क, स्कूल आदि मुहैया कराने में हमने बहुत लम्बी यात्रा तय की है। कहा कि विकास की यह प्रक्रिया थम नहीं सकती, बल्कि और गति के साथ बढ़ाने की आवश्यकता है। कहा कि हमारा राज्य सांस्कृतिक, भाषायी, भौगोलिक विविधताओं का प्रदेश है। इस रंग-बिरंगी प्रदेश की रंग-बिरंगी संस्कृति की महक को देश-दुनिया में पहुंचाने के लिए काम किया है, लेकिन कोरोना की वजह से यह गति धीमी हुई है। इस विषम परिस्थिति में हमारे शासन/प्रशासन ने बड़ी मुश्तैदी के साथ काम किया और कोरोना के असर को कम कर मृत्यु दर को रोका है। कहा कि महामारी को रोकने में जनता ने अपनी जागरूकता दिखाई है और अब आने वाले समय में और ज्यादा सावधानी बरतने की आवश्यकता है। कहा कि इस विषम परिस्थिति में भी काम करने वाले कोरोना वरियर्स के वे सदैव ऋणी रहेंगे। कहा कि राज्य में केवल तीन जनपदों में आईसीयू थे और सरकार ने कोरोना के दृष्टिगत हर जनपद के संयुक्त चिकित्सालयों को आईसीयू से लैस करने का काम किया। साथ ही लगभग 30 हजार 500 सौ आईसीयू बैड, 400 डाॅक्टर की विशेष भर्ती की गई है। कहा कि प्रदेश में जहां राज्य गठन से उनकी सरकार बनने तक लगभग एक हजार 181 डाॅक्टर थे, वहां उनकी सरकार ने 25 सौ डाॅक्टर पहंुचाये है। कहा कि मा. प्रधानमंत्री के प्रभावशाली नेतृत्व में राज्य सरकार दृढ़ इच्छाशक्ति के साथ निरन्तर विकास के पथ पर आगे बढ़ रही है। कहा कि चाहें चारधाम प्रोजेक्ट हो, चारो धामों को रेलवे टैªक से जोड़ने की परियोजना हो या केदारनाथ धाम को भव्य रूप देने का काम हो सरकार निरन्तर विकास कार्यों में जुटी है। उन्होंने अपनी सरकार की उपलब्धियांे को गिनाते हुए कहा कि आज गरीबों को उत्तराखण्ड आयुष्मान योजना के तहत बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं दी रही है। कहा कि भारत सरकार द्वारा संचालित अटल आयुष्मान योजना के तहत जितने अस्पताल पंजीकृत वह अब राज्य आयुष्मान योजना के तहत भी सम्मिलित किये गये है अर्थात् उन सभी अस्पतालों में जाकर लोग स्वास्थ्य लाभ ले सकंेगे। कहा कि अपने ढाई लाख प्रवासी भाई जो अपने मूल प्रदेश में लोटकर आये हैं, उनके लिए सरकार ने एक पोर्टल बनाकर उनकी जिज्ञासा जानकार काम किया। इसके अलावा नई तरह की योजनाएं लाकर मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत 150 तरह के कार्य किये जा सकते हैं, जिसमें करीब 65 करोड़ की धनराशि युवाओं को आंवटित की जा चुकी है। वहीं 10 हजार नौजवानों को रोजगार देने हेतु मुख्यमंत्री सौर स्वरोजगार योजना लाई गई है, जिसके माध्यम से 25 किलोवाॅट के 10 हजार प्लांट पर काम किया जायेगा और हर एक प्लांट से सरकार बिजली खरीदेगी। कहा कि कृषि के क्षेत्र में उनकी सरकार ने तीन वर्षो में 100 से ज्यादा रिसर्च किये हैं। मण्डी परिषद ने किसान से सीधे अनाज खरीदने का निर्णय लिया। कहा कि सरकार किसान के उत्पाद को सीधा कंज्यूमर तक पहुंचाने के लिए 13 सौ आउटलेट बनायेगी। कहा कि कृषि के क्षेत्र पिछले दो वर्ष में दो पुरस्कार भारत सरकार से उन्हें प्राप्त हुए हैं। कहा कि 670 न्याय पंचायत में फर्मर मशीन स्थापित करेंगे, जिससे किसानों को नवीन तकनीकी मशीन उपकरण उपलब्ध हो सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.