राज्यआन्दोलन में सक्रिय पत्रकारों को स्थाई मान्यता के लिए कमेटी गठित की जाएगी-मुख्यमंत्री#एम्स के सर्जन डा.अनीस गुप्ता ने कार्डियक टीएपीवीआर का किया सफल ऑपरेशन# ताकुला ब्लॉक अल्मोड़ा में जिलाधिकारी ने कार्यों का  निरीक्षण कर चौपाल लगाई।-www.Janswar.com

-नागेन्द्र प्रसाद रतूड़ी

राज्यआन्दोलन में सक्रिय पत्रकारों को स्थाई मान्यता के लिए कमेटी गठित की जाएगी-मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने शनिवार को उत्तरांचल प्रेस क्लब, परेड ग्राउण्ड देहरादून में उत्तरांचल प्रेस क्लब की नवनिर्वाचित कार्यकारिणी के शपथ ग्रहण समारोह में प्रतिभाग किया। इस अवसर पर उन्होंने उत्तरांचल प्रेस क्लब कार्यकारिणी को शपथ दिलवाई। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तरांचल प्रेस क्लब के भवन निर्माण, अतिथि गृह व पुस्तकालय निर्माण कार्य जल्द शुरू हो सके इसके लिए उच्च स्तर पर सूचना महानिदेशक श्री बंशीधर तिवारी द्वारा कार्यवाही जायेगी। उत्तराखण्ड राज्य आन्दोलन के दौरान सक्रिय रहे राज्य के पत्रकारों को आजीवन स्थाई मान्यता दिये जाने के संबंध में कमेटी का गठन किया जायेगा। पत्रकारों के लिए भी यू हेल्थ कार्ड बनाने की दिशा में कार्य किये जायेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पत्रकारिता को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहा जाता है। उन्होंने कहा कि समाज के दर्पण के रूप में पत्रकारों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। सामाजिक, राजनैतिक, आर्थिक एवं अन्य पहलुओं के साथ ही आम जन की समस्याओं को आगे लाने का कार्य अपनी लेखनी के माध्यम से आगे लाने का सराहनीय कार्य पत्रकारों द्वारा किया जाता है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा पत्रकारों को हर संभव सहयोग दिये जाने के प्रयास किये गये हैं। पिछले वर्ष पत्रकारों की पेंशन में 60 फीसदी की वृद्धि करने की घोषणा की गई, वहीं दूसरी ओर विभिन्न जिलों से देहरादून आने वाले पत्रकारों को पूर्व की भांति सूचना विभाग के जरिये प्रदेश की राजधानी में रहने की उचित व्यवस्था में सहयोग करने की भी घोषणा की गई। मुख्यमंत्री पत्रकार पेंशन योजना के तहत भी पत्रकार कल्याण कोष में 2 करोड़ की बढ़ोतरी की गई, जिसके चलते आश्रित पत्रकारों और गंभीर रूप से बीमार पत्रकारों के लिए 36 लाख रुपए की सहायता राशि मंजूर की गई है।

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि सरकार की योजनाओं को आम जन तक पहुंचाने में मीडिया की अहम भूमिका होती है। उन्होंने कहा कि बड़े संकट के समय पत्रकार वीर जवानों की भांति सरकार एवं जनता के साथ कंधे से कंधे मिलाकर कार्य करते हैं। कुछ अनछुए पहलुओं से रूबरू कराने में भी मीडिया की अहम भूमिका होती है। उन्होंने कहा कि 2025 तक उत्तराखण्ड को देश का अग्रणी राज्य बनाने के लिए राज्य सरकार प्रयासरत है। सभी उत्तराखण्ड वासियों के सहयोग से उत्तराखण्ड को सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाया जायेगा। राज्य के समग्र विकास के लिए मीडिया की भी अहम भूमिका रहेगी। सभी पत्रकारगणों को अपनी कलम की ताकत से राज्य के विकास में योगदान देना होगा।

इस अवसर पर सूचना महानिदेशक श्री बंशीधर तिवारी, उत्तरांचल प्रेस क्लब के संस्थापक अध्यक्ष डॉ. देवेन्द्र भसीन, उत्तरांचल प्रेस क्लब के अध्यक्ष श्री अजय राणा, कोषाध्यक्ष श्री मनीष चन्द्र भट्ट, महामंत्री श्री विकास गुसाई, वरिष्ठ उपाध्यक्ष सुश्री रश्मि खत्री, कनिष्ठ उपाध्यक्ष श्री दरबान सिंह, संप्रेक्षक श्री मनोज जायड़ा, कार्यकारणी सदस्य श्री दयाशंकर पांडे, श्री प्रवीन बहुगुणा, श्री भगवती प्रसाद कुकरेती, श्री बी.एस. तोपवाल, मो. फहीम तन्हा, श्री मंगेश कुमार, श्री राम अनुज, सुश्री लक्ष्मी बिष्ट, श्री विनोद पुण्डीर, पदेन सदस्य निवर्तमान अध्यक्ष श्री जितेन्द्र अंथवाल एवं निवर्तमान महामंत्री श्री ओपी बेंजवाल एवं अन्य वरिष्ठ पत्रकार गण उपस्थित थे।

********

एम्स के सर्जन डा.अनीस गुप्ता ने कार्डियक टीएपीवीआर का किया सफल ऑपरेशन

एम्स ऋषिकेश में 13 साल की किशोरी को मिला जीवनदान -कार्डियक टीएपीवीआर( TAPVR ) का सफल ऑपरेशन -सीटीवीएस विभाग के सर्जन डॉक्टर अनीश गुप्ता ने दिया जटिलतम सर्जरी को अंजाम

एम्स ऋषिकेश के सीटीवीएस विभाग ने 13 वर्ष की एक किशोरी के दिल का सफल टीएपीवीआर (TAPVR) ऑपरेशन कर नया कीर्तिमान स्थापित किया है। यह किशोरी जन्म से ही हृदय रोग से ग्रसित थी। इसको सांस फूलने व जल्दी थक जाने की शिकायत थी तथा अब इसकी धड़कन भी तेज होने लगी थी। कई अस्पतालों में जांच एवं उपचार बाद जब उन्हें इस गंभीर समस्या का पता चला, तो मरीज का उपचार कर रहे चिकित्सकों ने हाथ खड़े कर दिए एवं दिल्ली के किसी बड़े अस्पताल में उपचार कराने की सलाह दी। इसके बाद माता- पिता ने एम्स ऋषिकेश की ओर रुख किया। पीडियाट्रिक कार्डियोलॉजी विभाग में डॉक्टर यश श्रीवास्तव एवं कॉर्डियोलॉजी विभागाध्यक्ष प्रो. भानु दुग्गल ने ईकोकॉर्डियोग्रापी कर बीमारी का पता लगाया। चूंकि इस बीमारी का इलाज आमतौर पर बच्चे के जन्म होने के एक वर्ष की समयावधि में हो जाना चाहिए था, मगर नहीं हो पाया। ऐसे में इस बात की शंका थी कि अब यह पेशेंट ऑपरेशन के लायक है या नहीं। इसके बाद एम्स के सीटीवीएस विभाग के पीडियाट्रिक कार्डियक सर्जन डॉक्टर अनीश गुप्ता से परामर्श के बाद मरीज की एंजियोग्राफी की गई, तब फेफड़ो के प्रेशर को नापकर ऑपरेशन का निर्णय लिया गया। इस किशोरी की इस जटिलतम सर्जरी को डॉक्टर अनीश गुप्ता एवं उनकी टीम ने भलीभांती अंजाम दिया। एनेस्थीसिया विभाग के डॉक्टर अजय मिश्रा ने ऑपरेशन के दौरान बेहोशी देने में एवं सर्जरी के बाद आईसीयू में मरीज की देखरेख में अहम भूमिका निभाई। सफल ऑपरेशन को अंजाम देने वाली टीम में डॉक्टर ईशान, केशव, प्रियंका एवं अमित कुमार, डॉक्टर आयेशा , डॉक्टर विकास, डॉक्टर पूजा आ दि शामिल रहे। डा. अनीश ने बताया कि इस बीमारी में मरीज को नाइट्रिक ऑक्साइड वेंटीलेटर की जरुरत पड सकती है, जो कि उत्तराखंड राज्य में केवल एम्स ऋषिकेश में उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि 4 घंटे तक चले इस ऑपरेशन के बाद मरीज अब रिकवर कर चुकी है एवं घर जाने के लिए पूरी तरह से स्वस्थ है। पेशेंट के माता- पिता ऑपरेशन की सफलता और बेटी को नया जीवन मिलने से प्रसन्न हैं। एम्स अस्पताल में इस पेशेंट का ऑपरेशन राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम योजना के तहत निशुल्क किया गया है। डॉक्टर अनीश गुप्ता की इस उपलब्धि पर संस्थान की कार्यकारी निदेशक प्रोफेसर डॉक्टर मीनू सिंह ने पीडियाट्रिक कार्डियक सर्जरी टीम को शुभकामनाएं दी हैं, जिससे टीम के सदस्य इसी तरह से आगे भी अन्य बच्चों को जीवनदान प्रदान करने का प्रोत्साहित हो सकें।
इंसेट
क्या है कार्डियक टीएपीवीआर (TAPVR )
यह हृदय की एक जन्मजात व्याधि है, जिसमें फेफड़ों से शुद्ध खून लाने वाली सारी नसें दिल के गलत हिस्से में खुलती हैं। यह 3 प्रकार की होती है। यह बीमारी पैदा होते ही जानलेवा हो सकती है, यदि बच्चा बड़ा भी हो जाता है, तब भी बिना ऑपरेशन के उसकी मृत्यु निश्चित है। इस बीमारी के ऑपरेशन में जान जाने का खतरा भी होता है और मगर सफल ऑपरेशन होने पर मरीज को लम्बी आयु प्रदान होती है।

क्या हैं इस बीमार के लक्षण
इस बीमारी के सबसे गंभीर प्रकार में बच्चा पैदा होते ही पहले महीने में प्नूमोनिय या ऑक्सीजन की कमी से वेंटीलेटर पर जा सकता है। बच्चे के बड़े होने पर सांस फूलना, जल्दी थकान होना, धड़कन तेज़ चलना आदि मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। धीरे धीरे हार्ट फेल होने से जान चली जाती है।

*********

 ताकुला ब्लॉक अल्मोड़ा में जिलाधिकारी ने कार्यों का  निरीक्षण कर चौपाल लगाई।

अल्मोड़ा, 7 जनवरी  (अशोक कुमार पाण्डेय)
आज जिलाधिकारी वंदना के नेतृत्व में जिला प्रशासन की टीम द्वारा विकासखंड ताकुला के विभिन्न क्षेत्रों का स्थलीय भ्रमण, विकास कार्यों का स्थलीय निरीक्षण तथा ग्राम पंचायतों में ग्राम चौपाल लगाकर जनसुनवाई की गई।
सर्वप्रथम जिलाधिकारी ने ग्राम बीना में पहुंचकर ग्रामीण किसानों द्वारा की जा रही गुलाब की खेती का निरीक्षण किया। इस संबंध में जिलाधिकारी ने विभिन्न जानकारियां प्राप्त की। जिलाधिकारी ने मुख्य कृषि अधिकारी एवं मुख्य उद्यान अधिकारी को निर्देश दिए कि इस प्रकार की खेती को बड़े पैमाने पर किए जाने के लिए किसानों की अर्थव्यवस्था का विश्लेषण करें, तथा किसानों को जोड़कर बड़े आधार पर क्लस्टर आधारित खेती सुनिश्चित करें। यहां पर किसानों द्वारा खेतों में दीमक की समस्या से भी जिलाधिकारी को अवगत कराया, जिस पर जिलाधिकारी ने मुख्य कृषि अधिकारी को दीमक की समस्या से मुक्त करने हेतु आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिए। तत्पश्चात जिलाधिकारी ने यहां ग्राम चौपाल लगाकर लोगों की समस्याओं को सुना। यहां लोगों ने मुख्यतः आवास एवं सड़क निर्माण, पेयजल, बिजली कनेक्शन, राशन कार्ड आदि से संबंधित समस्याएं बताई। जिलाधिकारी ने एक एक शिकायतकर्ता को सुना तथा मौके पर ही संबंधित अधिकारियों को समयबद्धता के अनुरूप समस्याओंको निस्तारित करने के निर्देश दिए। आवास की समस्या के लिए जिलाधिकारी ने यहां खंड विकास अधिकारी से प्रधान मंत्री आवास योजना में चयनित लाभार्थियों से संबंधित जानकारी प्राप्त की तथा एससी/एसटी के लाभार्थियों के लिए अटल आवास में प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिए। यहां ग्रामीणों ने ताकुला से कनगाड़ रोड की मरम्मत की मांग उठाई। जिलाधिकारी ने जिला पंचायत को 4 दिन में सड़क का आगणन बनाकर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए।
ग्रामीणों द्वारा विद्युत कनेक्शन देने में अनियमितता की शिकायत भी जिलाधिकारी के सामने रखी गई, जिलाधिकारी ने ऐसे प्रकरणों में अधिशासी अभियंता यूपीसीएल को जांच करने के निर्देश दिए।इसके बाद जिलाधिकारी ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ताकुला में पहुंचकर विभिन्न व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया। यहां जिलाधिकारी ने उनके द्वारा पूर्व में दिए गए निर्देशों के उपरांत भी एक्सरे मशीन के संचालित न होने पर अस्पताल प्रबंधन के प्रति नाराजगी व्यक्त की। इस दौरान जिलाधिकारी ने यहां विभिन्न पटलों का निरीक्षण किया तथा उपलब्ध संसाधनों में जनता को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।
इसके पश्चात प्रशासन की टीम द्वारा ग्राम पंचायत पनेर गांव में पहुंचकर विकास कार्यों का निरीक्षण किया गया तथा जन चौपाल के माध्यम से जनसुनवाई की गई। यहां जिलाधिकारी द्वारा एनआरएलएम के माध्यम से अनिता लोहनी द्वारा की जा रही गुलाब की खेती का निरक्षण किया तथा जिलाधिकारी ने इनके कार्य की सराहना की। इस दौरान जिलाधिकारी ने मुख्य उद्यान अधिकारी को निर्देश दिए कि उक्त खेती को कलस्टर बनाकर प्रोत्साहित किया जाए।
जनसुनवाई में ग्रामीणों द्वारा विभिन्न समस्याओं को जिलाधिकारी के सामने रखा, जिसमे से अधिकतर समस्याओं का निस्तारण जिलाधिकारी ने मौके पर ही किया तथा अन्य समस्याओं के निस्तारण के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया।
इस दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ आरसी पंत, तहसीलदार कुलदीप पांडे सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *