राज्यआन्दोलनकारी मुजफ्फरनगर काण्ड के सीबाआई के गवाह रहे जीतपाल बर्तवाल की सड़कदुर्घटना मे मौत।पढिएJanswar.com में।

द्वारा- नागेन्द्र प्रसाद रतूड़ी

राज्यआन्दोलनकारी मुजफ्फरनगर काण्ड के सीबाआई के गवाह रहे जीतपाल बर्तवाल की सड़कदुर्घटना मे मौत।

उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी 65 वर्षीय जीतपाल बर्थवाल की सड़क हादसे में मौत हो गई है।
जानकारी के मुताबिक वह देहरादून स्थित आईएसबीटी के पास एक ट्रक की चपेट में आ गए। वे 65 साल के थे । वह चार साल पहले ही शिक्षक के पद से सेवानिवृत्त हुए थे। राज्य आंदोलन के समय में वह मुजफ्फरनगर कांड में सीबीआई के गवाह भी रहे थे।
बीती रात थाना पटेलनगर पुलिस को सूचना मिली कि आईएसबीटी फ्लाई ओवर के पास एक बाइक अनियंत्रित होकर ट्रक की चपेट में आ गई, जिसमें बाइक सवार एक व्यक्ति की मौके पर मौत हो गई। सूचना पर पुलिस बल मौके पर पहुंचा।

पुलिस के अनुसार आईएसबीटी गेट नम्बर 02 के पास एसबीआई एटीएम के सामने एक मोटर साइकिल पीछे से आ रहे ट्रक द्वारा ओवरटेक करते समय अनियंत्रित होकर ट्रक के सामने रपट गई, जिससे बाइक पर पीछे बैठा व्यक्ति ट्रक के पिछले टायर के नीचे आ गया तथा उसकी मौके पर ही मौत हो गई। मृतक व्यक्ति की पहचान जीतपाल सिंह निवासी लाइन नं0 02 मोथोरावाला देहरादून के रूप में हुई है। घटना में मृतक के पुत्र विवेक बर्तवाल, जो मोटर साइकिल चला रहा था, को हल्की चोट आई है। पुलिस द्वारा शव को अग्रिम कार्रवाई के लिए कोरोनेशन अस्पताल भेजा गया है। वहीं घटना के वक्त मौके से ट्रक चालक, ट्रक को छोड़कर फरार हो गया था। सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस द्वारा वाहन को चौकी पर खड़ा किया गया है। घटना के सम्बन्ध में पुलिस अग्रिम कार्रवाई कर रही है।
राज्य आन्दोलनकारी जीतपाल बर्तवाल के निधन क़ी सूचना से सभी राज्य आन्दोलनकारियों क़ो गहरा धक्का लगा है। राज्य आंदोलनकारी मंच ने उनके निधन पर गहरा दुःख व्यक्त करते हुए श्रद्धांजली अर्पित क़ी है। जीतपाल दिल्ली रैली के दौरान मुजफ्फरनगर कांड मे़ घायल हुए थे। वह अपने पीछे पत्नी के साथ दो पुत्र एवं दो पुत्रियों क़ो छोड़ गये।पेस्टमार्टम के बादआज उनका अंतिम संस्कार,लक्खीबाग घाट पर किया गया।


राज्य आन्दोलनकारी स्व. जीतपाल बर्तवाल के दुर्घटना में निधन एवं उनके पुत्र के घायल होने पर जनस्वर परिवार की ओर से राज्य आन्दोलनकारी की आत्मशान्ति की प्रार्थना करता है। ईश्वर से उनके पुत्र के शीघ्र स्वस्थ करने और परिवार को इस दुख को सहने की शक्ति देने की प्रार्थना करता है। -नागेन्द्र प्रसाद रतूड़ी राज्यआन्दोलनकारी एवं संस्थापक जनस्वर डॉट कॉम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *