राइंका कोटद्वार में लगा बहुउद्देशीय शिविर# डीएम पौड़ी गढवाल ने कोटद्वार के गुण्डे शाहरुख को जिला बदर करने के दिये आदेश # एम्स ऋषिकेश में अंगदान जागरूकता कार्यक्रम संपन्न -www.janswar.com

-अरुणाभ रतूड़ी

राइंका कोटद्वार में लगा बहुउद्देशीय शिविर

विधानसभा.अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी की अध्यक्षता में राजकीय इंटर कॉलेज कोटद्वार में बहुउद्देशीय शिविर लगाया गया। जिसमें जनपद के विभिन्न विभागों द्वारा अपने-अपने स्टॉल लगाये गये तथा लोगों को अपनी-अपनी विभागीय योजनाओं की जानकारी दी। साथ ही फरियादियों की समस्याएं सुनी व उनको सरकारी योजनाओं की सहायता दिलवाने हेतु सहमती की गयी।
समाज कल्याण विभाग द्वारा सामाजिक सुरक्षा से जुड़ी हुई विभिन्न पेंशन योजनाओं के आवेदन भरे गये तथा मौके पर ही मेडिकल बोर्ड द्वारा दिव्यांगता का सत्यापन किया गया, जिसमें साथ ही साथ दिव्यांग पेंशन आवेदन भी भरवाये गये। मुख्य रूप से समाज कल्याण विभाग और स्वास्थ्य विभाग के सौजन्य से आयोजित बहुउद्देशीय शिविर में जनपद के बहुत से विभागों द्वारा अपने माध्यम से लोगों को विभागीय योजनाओं से लाभाविंत किया। वहीं जिला निर्वाचन कार्यालय द्वारा 18 से 19 आयु वर्ग के मतदाताओं का नाम वोटर लिस्ट में सम्मलित किया गया।
इस दौरान मा0 विधानसभा अध्यक्ष ने सभी जनपद स्तरीय अधिकारियों को अपनी-अपनी विभागीय योजनाओं से लाभाविंत करने, समय-समय पर ऐसे शिविर विभिन्न क्षेत्रों में आयोजित करने के निर्देश दिये। जिससे लोगों को अपने छोटे-मोटे कार्यो के लिए अनावश्यक रूप से जनपद मुख्यालय की दौड़ ना लगानी पड़े।  उन्होंने कहा कि ऐसे बहुउद्देशीय शिविरों के माध्मय से लोगों को एक ही स्थान पर विभिन्न औपचारिक्ताओं को पूरा करने के लिए एक ही स्थान पर विभागीय अधिकारी और कार्मिक उपलब्ध होते हैं, जिससे लोगों को सुविधाएं मिलती हैं। उन्होंने कहा कि विशेषकर समाज कल्याण के माध्यम से विभिन्न पेंशन का लाभ प्रदान करने के लिए मौके पर मेडिकल बोर्ड को भी आमंत्रित किया गया था। जिससे मौके पर ही दिव्यांगता की स्थिति का निर्धारण होने से अधिक लोगों को दिव्यांग पेंशन की परिधि में लाभ मिल पायेगा।
इस दौरान समाज कल्याण विभाग के पास 150 से अधिक पेंशन से जुड़े आवेदन प्राप्त हुए, जिनका परीक्षण करते हुए उस पर अग्रिम कार्यवाही की जायेगी। बहुउद्देशीय शिविर में समाज कल्याण विभाग, चिकित्सा विभाग, शिक्षा विभाग, जिला उद्योग केंद्र, श्रम विभाग, डेयरी, राजस्व विभाग, जिला सैनिक कल्याण विभाग, सेवायोजन विभाग, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन(शहरी-ग्रामीण), नगर निगम कोटद्वार, जिला निर्वाचन कार्यालय पौड़ी, बाल विकास विभाग, सहकारिता, पर्यटन, होम्योपैथी, आयुर्वेदिक एवं यूनानी, उद्यान विभाग, विद्युत विभाग सहित अन्य विभागों द्वारा स्टॉल लगाये गये तथा लोगों को अपनी-अपनी विभागीय योजनाओं की जानकारी दी गई व योजनाओं से लाभाविंत भी किया गया।
इस दौरान अपर जिलाधिकारी ईला गिरी, परियोजना निदेशक डीआरडीए संजीव कुमार रॉय, अध्यक्ष मंडी परिषद कोटद्वार सुमन कोटनाला, उप जिलाधिकारी प्रमोद कुमार, जिला समाज कल्याण अधिकारी विनोद कुमार उनियाल, प्रधानाचार्य जगमोहन सिंह रावत, सहित संबंधित अधिकारी, कार्मिक व आमजनमानस उपस्थित थे।

 

**********

डीएम पौड़ी गढवाल ने कोटद्वार के गुण्डे शाहरुख को  जिला बदर करने के दिये आदेश

जिला मजिस्ट्रेट डॉ0 आशीष चौहान ने गुण्डा एक्ट के तहत कार्यवाही करते हुए जनपद के शाहरूख को 6 माह के लिए जिला बदर करने के आदेश जारी किये हैं। जिला बदर किये गये अपराधी शाहरूख पुत्र मो0 अतीक, निवासी स्टेडियम कॉलोनी, लकड़ी पड़ाव थाना कोटद्वार का समाज में भय व्याप्त है। जिसके चलते जिला मजिस्ट्रेट ने संबंधित अपराधी को 6 माह के लिए जिला बदर किया है। उन्होंने निष्कासन अवधि के दौरान अपराधी पर कड़ी नजर रखने तथा जनपद की सीमा में प्रवेश न करने हेतु संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया है।

*******

एम्स ऋषिकेश में अंगदान जागरूकता कार्यक्रम संपन्न

अंगदान के प्रति आम लोगोें को प्रेरित करने के उद्देश्य से एम्स ऋषिकेश में शनिवार को जनजागरुकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान दूसरों का जीवन बचाने हेतु 25 लोगों ने स्वेच्छा से अंगदान करने का संकल्प लिया।

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की कार्यकारी निदेशक प्रोफेसर( डॉ.) मीनू सिंह के मार्गदर्शन में ओपीडी ब्लॉक स्थित एडवांस यूरोलॉजी सेंटर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान अंगदान करने हेतु जनजागरुकता के विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए। इस दौरान कार्यकारी निदेशक प्रोफेसर डा. मीनू सिंह ने कहा कि अंग प्रत्यारोपित व्यक्ति के जीवन में अंग दान करने वाला व्यक्ति ईश्वर की भूमिका निभाता है। उन्होंने कहा कि यह दिन दूसरों के जीवन का उत्थान करने के लिए अंगदान के संकल्प हेतु हमें एक बेहतरीन अवसर प्रदान करता है।उन्होंने कहा कि हमें चाहिए कि हम आम लोगों को अंगदान की जरूरत के बारे में विस्तृत तरीके से समझाएं और अंगदान करने के प्रति लोगों में हिचकिचाहट दूर कर उन्हें अंगदान करने के लिए प्रोत्साहित करें।

डीन एकेडेमिक प्रो. जया चतुर्वेदी ने अंगदान को जीवन का सबसे बड़ा दान बताया। उन्होंने कहा कि अंगदान करने वाला व्यक्ति दूसरों का जीवन बचाकर हमेशा के लिए अमर हो जाता है। चिकित्सा विज्ञान ने अंगदान के क्षेत्र में सुधार कर सभी मिथकों को समाप्त कर दिया है। अब किसी भी उम्र का व्यक्ति अपने अंगों का दान कर सकता है। यूरोलॉजी विभागाध्यक्ष डॉ. अंकुर मित्तल ने बताया कि जागरुकता कार्यक्रम के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के 25 लोगों ने अंगदान करने हेतु फार्म भरा है। उनकी इच्छा है कि उनके निधन के बाद उनके अंग जरूरतमंद व्यक्तियों को दान कर दिए जाएं। डॉ.मित्तल ने कहा कि अंगदान करने के लिए व्यक्ति का स्वस्थ होना जरूरी है। अंगदान करने वाले व्यक्ति को एचआईवी, कैंसर, डायबिटीज, किडनी और हृदय रोगों से पीड़ित नहीं होना चाहिए। कहा कि अंगदान दो तरह से किया जा सकता है। पहला यह कि जब इंसान का ब्रेन डेड हो जाए लेकिन दिल का धड़कना बंद नहीं हुई हो, ऐसे लोग अपने ऑर्गन डोनेट कर सकते हैं। दूसरा यह कि हेड इंजुरी, स्ट्रोक, ब्रेन ट्यूमर जैसी गंभीर बीमारी से ग्रसित वह व्यक्ति जिसका ब्रेन डैमेज हो चुका हो वह भी अंगदान कर सकता है।
कार्यक्रम में नर्सिंग कॉलेज के छात्र-छात्राओं द्वारा पोस्टर प्रदर्शनी के माध्यम से रोगियों और उनके तीमारदारों को अंगदान करने हेतु जागरूक कर उन्हें विस्तार से समझाया गया। कार्यक्रम का आयोजन मूत्रोरोग विभाग, गुर्दा रोग और कॉलेज ऑफ नर्सिंग  ने  संयुक्त रूप से किया।तत्वावधान में आयोजित इस कार्यक्रम के दौरान प्रिंसिपल कॉलेज ऑफ नर्सिंग  यूरोलॉजी विभाग के  नेफ्रोलॉजी विभाग,सर्जरी विभाग के डॉक्टर,नर्सिंग अधिकारियों सहित 150 से अधिक मरीज और उनके तीमारदार मौजूद थे।

********

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *