मुख्यमंत्री ने सुभाषरोड़ स्थित होटल में आयोजित कार्यक्रम ‘राईज इन उत्तराखण्ड’में प्रतिभाग किया #केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री ने देहरादून में आवास,जनधन,मुद्रा आदि योजनाओं से संबंधित अधिकारियों की बैठक ली #एम्स ऋषिकेश-1- नयी निदेशक प्रो.डा.मीनूसिंह ने कार्यभार संभाला#चिकित्सकों ने युवक के घुटने से 700 ग्राम ट्यूमर निकाला

 

-नागेन्द्र प्रसाद रतूड़ी

 

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरुवार को सुभाष रोड स्थित एक होटल में आज़ादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर आयोजित “राइज़ इन उत्तराखण्ड” कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। मुख्यमंत्री ने इस दौरान केंद्र एवं राज्य सरकार के विभिन्न उपक्रम एवं विभागों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया।

मुख्यमंत्री ने आयोजकों को बधाई देते हुए कहा कि इस तरह के आयोजनों से युवाओं को कुछ नया करने की प्रेरणा मिलती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश लगातार आगे बढ़ रहा है। वर्ष 2014 के बाद भारत को नई पहचान मिली है देश में कोविड टीकाकरण महाअभियान, आयुष्मान योजना, उज्जवला योजना, स्किल इंडिया जैसी तमाम योजनाओं से करोड़ों लोगों को लाभ मिला है।  मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में स्वरोजगार और स्टार्टअप की अपार संभावनाएं हैं। आज हमारा प्रदेश बड़े राज्यों की तुलना में तेजी से स्टार्टअप और स्किल डेवलपमेंट की दिशा में आगे बढ़ रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में उत्तराखण्ड लगातार प्रगति के पथ पर आगे बढ रहा है। केदारनाथ धाम का पुनर्निर्माण का कार्य तेजी से चल रहा है, वहीं बदरीनाथ धाम में 265 करोड़ की लागत से नया मास्टर प्लान बनाया जा रहा है इसके अलावा दिल्ली से देहरादून एलिवेटेड सड़क निर्माण, का कार्य भी जल्द पूरा हो जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत सरकार द्वारा भारत माला प्रोजेक्ट, पर्वत माला प्रोजेक्ट, ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन जैसे अनेक महा परियोजना संचालित हो रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार भी प्रदेश में “विकल्प रहित संकल्प” के मूल मंत्र पर काम कर रही है। प्रदेश में युवाओं और महिलाओं के लिए अनेक कल्याणकारी योजनाएं संचालित की जा रही हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि महिलाओं की आर्थिकी को मजबूत करने के लिए सरकार स्वयं सहायता समूहों को प्रोत्साहित कर रही है, इसके लिये बजट में भी व्यवस्था की गई है। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में मौजूद लोगों का आवाहन करते हुए कहा कि वर्ष 2025 के रजत जयंती वर्ष को हम सब महाअभियान के तहत मनाएंगे।  यह वर्ष उत्तराखंड के 25 वर्ष पूरे होने के साथ ही विभिन्न क्षेत्रों में देश का सर्वश्रेष्ठ राज्य बनने का मार्ग प्रशस्त करेगा। मुख्यमंत्री श्री धामी ने कहा कि प्रधानमंत्री जी के कल्पना के अनुरूप उत्तराखंड को सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाने का हमारा प्रयास है।

इस अवसर पर केन्द्रीय मंत्री श्री रामदास अठावले ने कहा कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी युवा नेता के तौर पर उत्तराखंड में बहुत बेहतर कार्य कर रहे हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में कई विकास योजनाएं आगे बढ़ रही हैं और उत्तराखंड भी मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व में प्रगति के पथ पर अग्रसर है।

राज्यसभा सांसद श्री नरेश बंसल ने मुख्यमंत्री का आभार जताते हुए कहा के ऐसे आयोजन छात्र-छात्राओं के लिए भी बेहतर सिद्ध होंगे।

इस दौरान ऋषिकेश नगर निगम के महापौर अनीता मंमगाई, राज्य एवं केंद्र सरकार कि प्रतिनिधि व बड़ी संख्या में छात्र छात्राएँ मौजूद मौजूद रहे।

*******

केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री श्री रामदास अठावले द्वारा गुरूवार को बीजापुर अतिथि गृह सभागार में प्रधानमंत्री आवास योजना, जनधन योजना, मुद्रा योजना. एस०सी०/ओ.बी.सी. छात्रवृत्ति योजना, ओल्ड ऐज होम और आवासीय स्कूल के सम्बन्ध में उच्चाधिकारियों के साथ विचार विमर्श किया गया। बैठक में केन्द्रीय मंत्री द्वारा निर्देश दिये गये कि ओवरसीज स्कॉलरशिप योजना (  Overseas scholarship) का राज्य में प्रचार-प्रसार किया जाये ताकि विदेश में उच्च शिक्षा प्राप्त करने वाले छात्रों को इस योजना का लाभ दिया जा सके। इसके अतिरिक्त उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि अन्य राज्यों एवं सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा संचालित अन्य कल्याणकारी योजनाओं को उत्तराखण्ड में लागू किये जाने पर विचार किया जाय।
केन्द्रीय मंत्री ने अन्तर्जातीय विवाह योजना के सम्बन्ध में राज्य में संचालित योजना का संज्ञान लेते हुए सुझाव दिया गया कि डा० अम्बेडकर फॉउण्डेशन द्वारा संचालित योजना का राज्य में शिविर, समाचारपत्रों आदि के माध्यम से प्रचार प्रसार किया जाय ताकि अन्य पात्र लोग योजना का लाभ उठा सके।इसके अतिरिक्त योजना से आच्छादित नहीं हो पाने वाले लोगों का भी डेटा एकत्र करने का प्रयास किया जाना चाहिए। केन्द्रीय मंत्री श्री अठावले द्वारा बाबू जगजीवन राम छात्रावास योजना में भारत सरकार में लम्बित प्रस्तावों पर शीघ्र कार्यवाही किये जाने का भी आश्वासन दिया गया।
बैठक में प्रमुख सचिव श्री एल फैनई, अपर सचिव श्री आनन्द स्वरूप, श्री रोहित मीणा, सुश्री झरना कमठान, श्री राजेन्द्र कुमार, श्री चन्द्र सिंह धर्मसक्तु सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान(एम्स )ऋषिकेश में बृहस्पतिवार को संस्थान की नवनियुक्त निदेशक प्रोफेसर डा. मीनू सिंह ने पदभार ग्रहण कर लिया है। इस दौरान संस्थान के फैकल्टी सदस्यों व अधिकारियों ने उनका स्वागत किया। बृहस्पतिवार को एम्स निदेशक प्रो. मीनू सिंह ने संस्थान में विधिवत ज्वाइनिंग ले ली। इस दौरान संस्थान के डीन प्रोफेसर मनोज गुप्ता, मेडिकल सुपरिटेंडेंट प्रो. संजीव मित्तल समेत फैकल्टी सदस्यों, चिकित्सकों व अधिकारियों ने निदेशक का जोरदार स्वागत किया। गौरतलब है कि प्रोफेसर मीनू सिंह इससे पूर्व पीजीआईएमईआर, चंडीगढ़ में पीडियाट्रिक पल्मोनोलॉजी विभागाध्यक्ष व टेलीमेडिसिन की हेड रही हैं। प्रो. मीनू सिंह ने डब्ल्यूएचओ के साथ भी कार्य किया है। इसके अलावा उनका बच्चों में अस्थमा, तपेदिक व सिस्टिक फाइब्रोसिस आदि विषयों में महत्वपूर्ण शोध व योगदान रहा है।

*******

एम्स में हुआ घुटने के ट्यूमर का सफल ऑपरेशन
ऑर्थो विभाग के चिकित्सकों ने निकाला 700 ग्राम का ट्यूमर
18 वर्षीय युवक को पिछले दो साल से थी समस्या

एम्स ऋषिकेश के ऑर्थो विभाग के चिकित्सकों ने 18 वर्षीय युवक के घुटने में उभरे ट्यूमर का सफलतापूर्वक ऑपरेशन किया है। पिछले 2 साल से मरीज इस समस्या से परेशान था और उपचार नहीं होने पर यह समस्या कैंसर में परिवर्तित हो सकती थी। सफल सर्जरी के बाद मरीज को अब आराम है और उसे अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है।

शाहपुर जिला मुरादाबाद (यूपी) निवासी एक 18 वर्षीय युवक पिछले तीन साल से अपने एक घुटने के समीप बनी गांठ से परेशान था और असहनीय दर्द होने के कारण चलने-फिरने में असमर्थ हो गया था। युवक तीन महीने पहले एम्स ऋषिकेश के ऑर्थो विभाग की ओपीडी में पहुंचा, जहां उसने चिकित्सकों को अपनी समस्या से अवगत कराया।

ऑर्थो विभाग के चिकित्सकों के अनुसार मरीज की जांच के उपरांत पता चला कि इस मरीज के घुटने और जांघ के मध्य एक बड़ी गांठ उभर आई है जिसने ट्यूमर का रूप ले लिया है। चिकित्सकों ने परीक्षण में पाया कि ट्यूमर का वजन लगभग 700 ग्राम है। ऑर्थो विभागध्यक्ष प्रोफसर पंकज कण्डवाल के अनुसार इसे ऑस्टियोक्रॉन्डोमा कहते हैं। उन्होंने बताया कि मरीज के पैर में जिस स्थान पर ट्यूमर बन गया था, ठीक उसी स्थान पर पॉपलीटल धमनियां भी थी। ऐसे में सर्जरी करना अत्यंत जोखिमभरा था, लिहाजा यह सर्जरी किसी चुनौती से कम नहीं थी। कारण है कि यदि सर्जरी के दौरान धमनियों को नुकसान पहुंच जाता तो अत्यधिक रक्तस्राव होने के कारण मरीज का जीवन बचना बहुत मुश्किल था।

बावजूद इसके चिकित्सकों ने हाई रिस्क होते हुए भी सर्जरी करने का निर्णय लिया। सर्जरी के बाबत जानकारी देते हुए ऑर्थो विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. मोहित धींगड़ा ने बताया कि सर्जरी के दौरान यदि पैरों की नसों (पॉपलीटल धमनी) में चीरा लग जाता तो मरीज का जीवन जोखिम में आ सकता था। उन्होंने बताया कि वैसे भी पॉपलीटल धमनी घुटने से सटी होती है। उन्होंने बताया कि यह एक तरह की जटिल एवं चुनौतीपूर्ण सर्जरी थी क्योंकि यह ट्यूमर घुटने और उससे सटे पॉपलीटल धमनियों के प्रवाह मार्ग में बन गया था। सफल सर्जरी करने वाली टीम में आर्थो विभाग के डॉ. मोहित धींगरा के अलावा प्लास्टिक सर्जरी विभाग की एसोसिएट प्रोफेसर डा. मधुवरी, एनेस्थेसिया विभागाध्यक्ष डॉ. संजय अग्रवाल सहित ऑर्थो विभाग के डॉ. अर्घव, डॉ. विकास, डॉ. सप्तर्शी आदि शामिल थे।

एम्स के चिकित्सा अधीक्षक प्रोफेसर संजीव मित्तल ने सर्जरी करने वाली चिकित्सकों की टीम को इस सफलता के लिए बधाई दी और बताया कि संस्थान में अस्थि रोगों से संबंधित बीमारियों के उपचार और उनके निदान के लिए उच्च स्तर की सभी आधुनिक मेडिकल सुविधाएं उपलब्ध हैं। उन्होंने बताया कि एम्स ऋषिकेश मरीजों के बेहतर इलाज के लिए कृतसंकल्पित है और अस्पताल के सभी विभागों में विशेषज्ञ चिकित्सकों की पर्याप्त टीम उपलब्ध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.