मुख्यमंत्री ने सीडीएस जनरल विपिनरावत के परिजनों सेमिलकर अपनी संवेदना प्रकट की#सचिवालय में मुख्य सचिव ने जिलाधिकारियों के साथ विधानसभा चुनाव की तैयारी बैठक ली # मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की-Janswar.com

-अरुणाभ रतूड़ी

 

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में स्वर्गीय जनरल बिपिन रावत जी के आवास पर उनके परिवार जनों से भेंट कर शोक संवेदना प्रकट की। मुख्यमंत्री ने जनरल बिपिन रावत जी और उनकी धर्मपत्नी श्रीमती मधुलिका रावत के असामयिक निधन पर शोक व्यक्त करते हुए ईश्वर से दिवंगत आत्माओं को शांति प्रदान करने की प्रार्थना की।
मुख्यमंत्री ने कहा कि जनरल बिपिन रावत जी का निधन बहुत बड़ी अपूरणीय क्षति है। उनका निधन देश के लिए विशेषकर उत्तराखण्ड राज्य की बहुत बड़ी हानि है, साथ ही मेरे लिए भी। सैनिक पुत्र होने के नाते हमेशा मेरा मार्ग दर्शन करते रहते थे। उनकी सादगी, सहजता हमेशा हमारे दिलों में रहेंगी। कभी लगता नहीं था कि किसी जनरल से मिल रहे हैं। पहली बार मुख्य सेवक बनने के बाद जब मिले तो मेरे पिताजी की रेजीमेंट (महार रेजिमेंट) सागर जाने का कार्यक्रम उन्होंने बनाया हुआ था। लेकिन नियति को कुछ और ही मंजूर था। आप हमेशा हमारे दिलों में रहेंगे। भगवना उन्हें अपने श्री चरणों में स्थान दे।

————————————————-मुख्य सचिव डॉ. एस.एस. संधु की अध्यक्षता में गुरूवार को सचिवालय में सभी जिलाधिकारियों के साथ विधानसभा चुनाव की तैयारियों के सम्बन्ध में बैठक आयोजित की गयी। मुख्य सचिव ने सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिए कि चुनाव हेतु प्रत्येक बूथ कनेक्टेड हो इसके लिए सभी सड़कों एवं ट्रैकिंग रूटों की मरम्मत 31 दिसम्बर तक कर ली जाए, ताकि पोलिंग टीम और मतदाताओं को कोई परेशानी न हो।
मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि रिटर्निंग ऑफिसर, असिस्टेंट रिटर्निंग ऑफिसर और नोडल ऑफिसर की तैनाती 12 दिसम्बर तक सुनिश्चित कर ली जाए, इसके साथ ही जिन अधिकारियों की तैनाती गृह जनपदों में है या जिन्हें एक ही स्थान पर 3 वर्ष से अधिक हो गए हैं, उन्हें अनिवार्य रूप से शीघ्रीतिशीघ्र स्थानान्तरित कर लिया जाए।
मुख्य सचिव ने प्रत्येक बूथ में एश्योर्ड मिनिमन फैसिलिटी (रैंप, बिजली, पेयजल, टॉयलेट आदि) की उपलब्धता 21 दिसम्बर, 2021 तक सुनिश्चित किए जाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि चुनाव की    दृष्टि से संवेदनशील एवं अतिसंवेदनशील क्षेत्रों को चिन्हित कर लिया जाए। इसके साथ ही अन्य राज्यों से लगे जनपद सहयोग हेतु 20 दिसम्बर तक बॉर्डर कॉर्डिनेशन मीटिंग्स आयोजित कर लें।
इस अवसर पर मुख्य चुनाव अधिकारी श्रीमती सौजन्या सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारी भी उपस्थित थे

 

————————————————-मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की

विभिन्न प्रक्रियाओं और नियमों से अवगत कराया

मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्रीमती सौजन्या ने गुरूवार को राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि आगामी विधानसभा निर्वाचन के लिए राज्य में पूरी तैयारियां की जा रही हैं। मतदाता संक्षिप्त पुनरीक्षण 2022 सम्पन्न हो चुका है। जल्द ही निर्वाचन आयोग इलैक्टोरल रोल का प्रकाशन करेगा। इस बार लगभग 4 लाख नए पंजीकरण किए गए हैं।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि इस बार निर्वाचन आयोग द्वारा नई पहल की जा रही है, जिसके अन्तर्गत 80 वर्ष अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों एवं निर्वाचक नामावली में फ्लैग्ड किए गए दिव्यांगजनों को पोस्टल बैलट के माध्यम से मतदान की सुविधा भी प्रदान की जायेगी। उन्होंने इसके लिए निर्धारित प्रक्रिया की जानकारी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों को दी।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कोरोना प्रोटोकॉल के संबंध में भारत निर्वाचन आयोग की गाइड लाइन के बारे में भी अवगत कराया। इसके लिए प्रत्येक स्तर पर तैयारी की गई है। मास्क, सैनेटाइजर, हैण्ड ग्लब्स तथा दिव्यांगजनों के लिए व्हील चेयर, रैम्प, दृष्टिबाधितों के लिए ब्रेल लिपि प्रति भी बूथ पर उपलब्ध रहेगी।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बैठक में उपस्थित राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से भी फीडबैक लिया और उनके सुझाव सुने। उन्होंने कहा कि पूरा प्रयास किया जाएगा कि राजनीतिक दलों और उम्मीदवारों को जरूरी अनुमतियां आसानी से मिल सकें। निर्वाचन व्यय, विज्ञापनों के प्री-सर्टिफिकेशन आदि के संबंध में भी जानकारी दी गई।
बैठक में अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्री सी. रविशंकर, संयुक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्री प्रताप शाह, उप मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्री जीतेंद्र कुमार, निर्वाचन व्यय के नोडल अधिकारी श्री मनमोहन मैनाली, आईटी के नोडल श्री शैलेंद्र नेगी, सहायक मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्री मस्तूदास सहित राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

—————————————————-

जिलाधिकारी गढ़वाल डॉ. विजय कुमार जोगदण्डे ने आज मा. मुख्यमंत्री उत्तराखण्ड के प्रतिनिधित्व के रूप में देश के प्रथम सीडीएस जनरल बिपिन सिंह रावत के पैतृक गांव विकासखण्ड द्वारीखाल के सैंणा में उनके परिजनों के पास पहुंच कर शहीद जनरल बिपिन सिंह रावत व उनकी पत्नी मधुलिका रावत की फोटो पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की तथा उनकी आत्मा की शांति के लिए उपस्थित लोगों के साथ 02 मिनट का मौन रखा। जिलाधिकारी ने उनके परिजनों से मुलाकात कर शोक संवेदना व्यक्त करते हुए उन्हें सांत्वना दी। जिलाधिकारी ने कहा कि जनरल बिपिन सिंह रावत जी का निधन देश के लिए अपूरणीय क्षति है। कहा कि उन्हें हमेशा याद किया जाएगा तथा वह सदैव अमर रहेंगे और हमारी स्मृति में रहेंगे। जिलाधिकारी ने उनके परिजनों को हर सम्भव मदद दिलाने का भरोसा भी दिलाया।
मा. मुख्यमंत्री उत्तराखण्ड के प्रतिनिधित्व के रूप में जनरल बिपिन सिंह रावत के पैतृक गांव सैंणा पहुंचे जिलाधिकारी डॉ. जोगदण्डे ने उनके परिजनों से कहा कि वे माननीय मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि रूप में पहुंचे है। कहा कि मा. मुख्यमंत्री जी स्वयं उनके अंतिम संस्कार कार्यक्रम हेतु दिल्ली रवाना हुए है। कहा कि राज्य स्तर पर विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से श्री रावत को श्रद्धांजलि अर्पित की जा रही है। वहीं जनपद के समस्त विभागों/कार्यालयों में भी अधिकारियों/कर्मचारियों द्वारा 02 मिनट का मौन धारण कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की गई। जिलाधिकारी ने कहा कि जनरल बिपिन रावत का देश के लिए अहम योगदान रहा है। परिजनों के साथ बातचीत के दौरान उनको याद करते हुए कहा कि पिछले सप्ताह उनके द्वारा एचएनबी गढ़वाल विश्व विद्यालय के दीक्षान्त समारोह कार्यक्रम में प्रतिभाग कर छात्रों को प्रमाण पत्र आदि वितरित कर बच्चों का आर्शीवाद दिया गया। कहा कि जनरल रावत का जनपद में समय-समय पर आना-जाना रहता था और इस दौरान वे जनपद की समस्याओं से भी अवगत कराते रहते थे और क्षेत्र विकास के लिए प्रयासरत रहते थे।
जिलाधिकारी ने कहा कि शहीद सीडीएस श्री रावत जी के गांव को जोड़ने वाली सड़क लोक निर्माण विभाग दुगड्डा द्वारा पूर्व में डीपीआर तैयार किया गया था। उन्होंने कहा कि लोक निर्माण विभाग दुगड्डा से वार्ता कर एक किमी सड़क निर्माण का कार्य जल्द प्रारम्भ किया जाएगा। कहा कि सीडीएस बिपिन रावत की स्मृति में कुछ निर्माण कार्य या अन्य कार्य किये जायेंगे, उसके लिए परिवार से वार्ता की जाएगी तथा प्रस्ताव शासन को भेजा जाएगा।
जिलाधिकारी ने उनके परिजन भरत सिंह (चाचा), सुशीला देवी (चाची) , हरीनंदन रावत (चाचा), श्रीमती संतोष (चाची) , रवींद्र सिंह, देवेंद्र सिंह, संजय व अजय रावत (भाई), कुसुम (भाई की बहु) एवं आरबी (भतीजी) आदि परिवार के सदस्यों के साथ शोक संवेदना व्यक्त किया।
इस अवसर पर उप जिलाधिकारी संदीप कुमार, सहायक निदेशक सूचना बद्री चंद नेगी, तहसीलदार कोटद्वार विकास अवस्थी  सहित अन्य लोग मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.