मुख्यमंत्री ने महिला प्रौद्योगिकी संस्थान देहरादून की तीन छात्राओं को चेक प्रदान किये।#सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण पौड़ी गढ़वाल संदीप कुमार तिवारी ने जिला कारागार का निरीक्षण किया-Janswar.com

-अरुणाभ रतूड़ी

मुख्यमंत्री  पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत मुख्यमंत्री आवास में महिला प्रौद्योगिकी संस्थान देहरादून की तीन छात्राओं को चेक प्रदान किये। मुख्यमंत्री द्वारा कम्प्यूटर साइंस एवं इंजीनियरिंग की तृतीय वर्ष की छात्रा कु. गरिमा शर्मा को 01 लाख 70 हजार 950 रुपये का चेक प्रदान किया गया। इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की चतुर्थ वर्ष की छात्रा कु. अलविना खानम को 56 हजार 100 रुपये का चेक प्रदान किया गया। इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की चतुर्थ वर्ष की छात्रा कु. शिप्रा नेगी को 27 हजार 500 रुपये का चेक प्रदान किया गया। मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत इन छात्राओं का 01 मार्च 2020 से 31 मार्च 2022 की अवधि का लिया गया शुल्क महिला प्रौद्योगिकी संस्थान देहरादून द्वारा वापस किया गया है। भविष्य में भी संस्थान द्वारा इन छात्राओं से कोई शुल्क नहीं लिया जायेगा।
मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा 02 अगस्त 2021 को कोविड-19 में अपने अभिभावकों को खोने वाले बच्चों के लिए मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना शुरू की गई।  मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना काल में जिन बच्चों ने अपने अभिभावकों को खोया, इस कमी को कभी पूरा नहीं किया जा सकता, लेकिन सरकार का प्रयास है कि इन बच्चों की जो भी मदद हो सकती है, वह राज्य सरकार करेगी।
इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी, निदेशक महिला प्रौद्योगिकी संस्थान देहरादून प्रो. आर.पी.एस. गंगवार, एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. अंकुर दुम्का भी मौजूद थे।


उत्तरखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण नैनीताल के निर्देशों के अनुपालन में सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण पौड़ी गढ़वाल संदीप कुमार तिवारी द्वारा मंगलवार को जिला कारागार पौडी का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान प्रभारी जेल अधीक्षक, जिला कारागार डी०पी० सिन्हा उपस्थित रहे।
सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण पौड़ी गढ़वाल संदीप कुमार तिवारी ने मंगलवार को जिला कारागार पौडी का निरीक्षण किया। इस दौरान प्रभारी जेल अधीक्षक, डी०पी० सिन्हा जिला द्वारा अवगत कराया गया कि उक्त तिथि को जिला कारागार पौड़ी में (134 विचाराधीन बन्दी एवं 59 सिद्धदोष बन्दी ) कुल-193 बन्दी निरूद्ध हैं। निरीक्षण के दौरान पाया गया कि बन्दियों को निर्धारित मैन्यू के अनुसार प्रातः दोपहर एवं सांय को भोजन उपलब्ध कराया जाता है। भोजन पकाने के लिये अलग स्थान नियत है, जिसमें साफ-सफाई की दशा सही है। जिला कारागार में पीने के पानी के लिये मुख्य पानी के टैंक पर फिल्टर लगा है, जिससे पूरे कारागार में पानी की सप्लाई होती है। उन्होंने जानकारी दी कि जिला कारागार में निरूद्ध बन्दी एवं जिला कारागार का स्टाफ पीने के लिये इसी पानी का इस्तेमाल करते हैं। सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण पौड़ी संदीप कुमार तिवारी द्वारा प्रत्येक बैरक का निरीक्षण किया गया, जिनमें साफ-सफाई सही थी। जेलर डी०पी० सिन्हा द्वारा जानकारी दी गयी कि बैरक में निरूद्ध बन्दी बैरक की साफ-सफाई स्वंय करते है। बैरक के अन्दर बने रात्रि कालीन शौचालय एवं बैरक के बाहर बने शौचालय जिनका प्रयोग बन्दी दिन में करते हैं की साफ-सफाई जिला कारागार में नियुक्त सफाई कर्मचारी के द्वारा की जाती है। उक्त शौचालयों में भी साफ-सफाई उचित थी। विजिट के दौरान जेलर द्वारा जानकारी दी गयी कि मुख्य चिकित्साधिकारी पौड़ी गढ़वाल के आदेशानुसार जिला कारागार पौड़ी में 01 फार्मासिस्ट की पूरे समय के लिये तैनाती की गयी है तथा 02 चिकित्सक रोटेशन बेसिस पर नियुक्त किये गये हैं। जिला कारागार में औषधालय की व्यवस्था है। निरीक्षण के दौरान जेलर द्वारा जानकारी दी गयी कि जिला कारागार पौड़ी में प्रत्येक बन्दी के साथ सप्ताह में अधिकतम दो बार मुलाकात की व्यवस्था है। मुलाकात का समय अधिकतम 30 मिनट है जिस दौरान बन्दियों के परिवार जन मुलाकात के समय जेल अधीक्षक की अनुमति से पैक खाद्यय-पदार्थ बन्दियों को दे सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.