मुख्यमंत्री ने प्रदान की विभिन्न निर्माण कार्यों के लिए वित्तीय स्वीकृति#सात ईकोटूरिज्म प्रस्तावों हेतु ₹ 79.83 लाख स्वीकृत# मुख्यसचिव ने कोविड की सम्भावित तीसरी लहर हेतु तैयारियों के सम्बन्ध में बैठक ली।#जनपद पौड़ी गढवाल में कुल 213130 व्यक्तियों को लग चुके हैं कोविड टीका।पढिए Janswar.com में। को

-अरुणाभ रतूड़ी
मुख्यमंत्री ने प्रदान की विभिन्न निर्माण कार्यों के लिए वित्तीय स्वीकृति
फोटो-फाईल

(फोटो – फाईल)

मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने राज्य योजना के अंतर्गत जनपद अल्मोड़ा के विधानसभा क्षेत्र सोमेश्वर के 02 मोटर मार्ग के निर्माण हेतु रूपये 03 करोड़ 14 लाख, जनपद देहरादून के विधानसभा क्षेत्र धर्मपुर के 02 विभिन्न मोटर मार्ग के निर्माण हेतु रूपये 1 करोड़ 69 लाख, जनपद पिथौरागढ़ के विधानसभा क्षेत्र गंगोलीहाट में सुकल्याड़ी बैण्ड से पभ्या मनतोली गुरैनो आगर मोटर मार्ग के निर्माण हेतु रूपये 1 करोड़ 02 लाख, जनपद देहरादून के विधानसभा क्षेत्र विकासनगर में एनएच-74 से खुशालपुर होते हुए लांघा रोड़ तक लिंक मार्ग के निर्माण हेतु रूपये 29.62 लाख, बागेश्वर के पालडीछीना-जैनकरास मोटर मार्ग 01 से 02 में डामरीकरण के कार्य हेतु रूपये 1 करोड़ 23 लाख, विधानसभा क्षेत्र रानीखेत के अंतर्गत मॉसी भिकियासैण के स्थान पटियाचौरा से गाँव नौगाँव सिमुड़ा में मोटर मार्ग के निर्माण हेतु रूपये 27.80 लाख, विधानसभा क्षेत्र विकासनगर के बरोटीवाला-अम्बाड़ी मोटर मार्ग के स्पान सेतु के निर्माण हेतु रूपये 10.12 लाख, विधानसभा क्षेत्र पिथौरागढ़ में मोस्टामानू से हलपाती मोटर मार्ग का सुधारीकरण का कार्य हेतु रूपये 1 करोड़ 30 लाख, जनपद पौड़ी गढ़वाल के विधानसभा क्षेत्र यमकेश्वर के अन्तर्गत राजबाट से रिंगवाडगांव तक मोटर मार्ग के नव निर्माण हेतु रूपये 72.54 लाख, एससीएसपी के अंतर्गत जनपद पौड़ी गढ़वाल के विधानसभा क्षेत्र पौड़ी के विकासखण्ड कोट में सिण्डी जसकोट मोटर मार्ग का अनुसूचित जाति ग्राम कमरगढ़ तक मोटर मार्ग के विस्तार कार्य हेतु रूपये 24 लाख, विधानसभा क्षेत्र रूद्रप्रयाग के विकासखण्ड जखोली में छेनागाढ घघांसू मोटर मार्ग का सुदृढ़ीकरण एवं डामरीकरण के कार्य हेतु रूपये 3 करोड़ 32 लाख, विधानसभा क्षेत्र टिहरी के अंतर्गत जौल देवरी बाईपास/वन विश्राम को जोड़ने वाली सड़क से चम्बा की ओर आरक्षित 900 मी0 मोटर मार्ग के निर्माण कार्य हेतु रूपये 1.11 लाख की प्रशासकीय एवं वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है।
इसके साथ ही मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने राज्य योजना के अंतर्गत जनपद हरिद्वार के विधानसभा क्षेत्र बीएचईएल रानीपुर के अंतर्गत विभिन्न 03 निर्माण कार्यों के लिये रूपये 2 करोड़ 03 लाख, विधानसभा क्षेत्र पौड़ी के अंतर्गत विभिन्न 03 निर्माण कार्यों के संबंध में रूपये 1 करोड़ 90 लाख, विधानसभा क्षेत्र लालकुआ के अन्तर्गत विभिन्न ग्यारह कार्यो हेतु रूपये 3 करोड़ 49 लाख, विधानसभा क्षेत्र लक्सर के अंतर्गत विभिन्न 03 निर्माण कार्यों हेतु रूपये 1 करोड़ 59 लाख, विधानसभा क्षेत्र राजपुर में विभिन्न 02 निर्माण कार्यों हेतु रूपये 2 करोड़ 73 लाख, विधानसभा क्षेत्र गंगोलीहाट में विभिन्न दो कार्यो की स्वीकृति हेतु रूपये 2 करोड़ 81 लाख, जनपद ऊधमसिंहनगर के विधानसभा क्षेत्र नानकमत्ता में विभिन्न 05 कार्यों हेतु रूपये 6.48 लाख, विधानसभा क्षेत्र अल्मोड़ा के अंतर्गत विभिन्न 02 निर्माण कार्यों हेतु रूपये 01 करोड़ 62 लाख, विधानसभा क्षेत्र रायपुर के अंतर्गत विभिन्न 02 निर्माण कार्यों हेतु रूपये 2 करोड़ 84 लाख, विधानसभा क्षेत्र झबरेड़ा में विभिन्न 05 कार्यों हेतु रूपये 2 करोड़ 36 लाख, जनपद हरिद्वार के विधानसभा क्षेत्र खानपुर के विभिन्न 20 कार्यों के निर्माण काये हेतु रूपये 5 करोड़ 27 लाख, विधानसभा क्षेत्र भगवानपुर के अंतर्गत विभिन्न 05 निर्माण कार्यों हेतु रूपये 4 करोड़ 54 लाख, राज्य योजना के अंतर्गत जनपद पौड़ी के विधानसभा क्षेत्र चौबट्टाखाल के अंतर्गत विभिन्न दो निर्माण कार्यो हेतु रूपये 2 करोड़ 41 लाख, विधानसभा क्षेत्र किच्छा के अंतर्गत विभिन्न 02 निर्माण कार्यों हेतु रूपये 73.40 लाख की प्रशासकीय एवं वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है।

वन विभाग द्वारा मा. मुख्यमंत्री घोषणा संबंधित 7 ईकोटूरिज्म प्रस्तावों हेतू ₹ 79.83 लाख स्वीकृत

प्रमुख वन संरक्षक (हॉफ) श्री राजीव भरतरी की अध्यक्षता में राजपुर रोड स्थित वन विभाग के मुख्यालय में  ईकोटूरिज्म कोर कमेटी की बैठक आयोजित की गई। बैठक में मा. मुख्यमंत्री घोषणाओं के 79.83 लाख रूपये के 07 प्रस्ताव पारित कर संबंधित डीएफओ को निर्देश दिये गये कि मुख्यमंत्री घोषणाओं के इन स्वीकृत प्रस्तावों पर शीघ्र कार्य पूर्ण किये जाए।
मुख्यमंत्री घोषणाओं के जिन प्रस्तावों को स्वीकृति दी गई उनमें 15.83 लाख की लागत से चन्द्रबनी खालसा में कुमांऊनी मंदिर के पास वन विभाग द्वारा पार्क का निर्माण किया जायेगा। 10 लाख रूपये की लागत से क्यारी नागटिब्बा सुरकण्डा तक ट्रेक रूट का निर्माण किया जायेगा। तराई पश्चिमी वन प्रभाग के अन्तर्गत फांटो क्षेत्र में सफारी जोन बनाने के लिए 15 लाख रूपये की धनराशि स्वीकृत की गई। बार्सू से दयारा बुग्याल एवं रैथल से दयारा बुग्याल वाले ट्रेक रूट का सुदृढ़ीकरण किया जायेगा। 10 लाख रूपये से ऋषिकेश क्षेत्र में संजय झील का सौन्दर्यीकरण कर इसे साहसिक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जायेगा। भराड़सैंण में ईको ट्रेल/ ईको पार्क की स्थापना के लिए 20 लाख रूपये की स्वीकृति दी गई जबकि नागटिब्बा, एन्दी, बुराष्टी में कैम्पिंग साइट विकास, व्यू प्वाइन्ट निर्माण, नागटिब्बा ताल की सफाई एवं सौन्दर्यीकरण के लिए 19 लाख रूपये की स्वीकृति शामिल है।
ईकोटूरिज्म कोर कमेटी के सदस्य सचिव डॉ पराग मधुकर धकाते, मुख्य वन संरक्षक ईकोटूरिज्म एवं प्रचार प्रसार ने अवगत कराया कि वित्तीय वर्ष 2021-22 हेतु राज्य सेक्टर ईकोटूरिज्म योजना के अंतर्गत यह धनराशि प्रभागीय वनाधिकारीओं को जारी की जा रही है।
बैठक में अपर प्रमुख वन संरक्षक परियोजना डॉ समीर सिन्हा, अपर प्रमुख वन संरक्षक नियोजन एवं वित्तीय प्रबंधन श्री जी एस पांडे, मुख्य वन संरक्षक कुमाऊँ डॉ तेजस्विनी पाटील

मुख्य सचिव श्री ओमप्रकाश ने गुरुवार को सचिवालय में कोविड की सम्भावित तीसरी लहर हेतु तैयारियों के सम्बन्ध में बैठक ली। मुख्य सचिव ने कहा कि कोविड की अगली लहर हेतु सभी तैयारियां समय रहते पूर्ण कर ली जाएं। मुख्य सचिव ने अधिकारियों को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि प्रदेश में कोविड केसों में कमी आने के बावजूद टेस्टिंग को किसी भी हाल में कम न किया जाए। उन्होंने 40 हजार टेस्ट प्रतिदिन का टारगेट पूरा किये जाने के निर्देश दिए।
मुख्य सचिव ने कोविड की अगली लहर के लिए पूर्ण तैयारियां करते हुए क्लीनिकल प्रोटोकोल के अनुसार बाल चिकित्सकों एवं नर्सों का कोविड केयर के सम्बन्ध में प्रशिक्षण करा लिए जाने के निर्देश भी दिए। उन्होंने सम्भावनाओं के अनुरूप अगली लहर के लिए चिकित्सालयों में बच्चों के ऑक्सीजन मास्क एवं मेडिसिन आदि की समस्त व्यवस्थाओं की तैयारी हेतु 30 जून तक प्लान तैयार करने के निर्देश दिए।
मुख्य सचिव ने कहा कि प्रदेश में ऑक्सीजन की उपलब्धता में काफी सुधार हुआ है, आने वाले समय में और अधिक ऑक्सीजन प्लान्ट्स राज्य में स्थापित हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों में मार्ग अवरूद्ध होने के कारण ऑक्सीजन के ट्रांसपोर्टेशन में समस्या आ सकती है, इसलिए प्रत्येक जनपद में ऑक्सीजन की स्टोरेज एवं ऑक्सीजन कन्सन्ट्रेटर पर अधिक फोकस किए जाने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि इससे पर्वतीय क्षेत्रों में विषम परिस्थितियों में भी ऑक्सीजन की उपलब्धता बनी रहेगी।
इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव श्रीमती मनीषा पंवार, सचिव श्री अमित नेगी, श्री आर. मीनाक्षी सुन्दरम, डॉ. पंकज कुमार पाण्डेय, श्रीमती सौजन्या एवं डीजी हेल्थ डॉ. तृप्ति बहुगुणा सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


जनपद पौड़ी गढवाल में वर्तमान समय में 339 रोगी डेडिकेटेड अस्पताल में भर्ती है। भर्ती रोगी इस प्रकार है जिला अस्पताल पौड़ी में 38 रोगी ऑक्सीजन बेड में एवं 01 आईसीयू बेड में, बेस अस्पताल श्रीकोट श्रीनगर में 195 ऑक्सीजन बेड में एवं 26 रोगी आईसीयू पर भर्ती है। वहीं बेस अस्पताल कोटद्वार में 65 रोगी आॅक्सीजन बेड, 12 जनरल बेड पर एवं 02 आईसीयू बेड मंे भर्ती है। जनपद में तीनों अस्पताल में कुल 298 आॅक्सीजन बेड, 29 आईसीयू बेड तथा 12 जनरल बेड सहित कुल 421 बेड उपलब्ध है। 124 वेंटिलेटर हैं, जिनमें 100 बेस हाॅस्पिटल श्रीकोट, 13 बेस हाॅस्पिटल कोटद्वार तथा 11 जिला चिकित्सालय पौड़ी शामिल है।
टीकाकरण कार्यक्रम के तहत जनपद पौड़ी गढ़वाल में अब तक 213130 लाभार्थी को प्रथम एवं द्वितीय डोज विभिन्न कोविड-19 टीकाकरण स्थलों पर टीका लगाये गये है। जिनमें जनपद वासियों के अलावा 22722 स्वास्थ्य वर्कर एवं फ्रंट लाईन वारियर शामिल है। कल बुधवार को 07 को प्रथम तथा 02 को द्वितीय डोज लगाये गये है। अब तक 155557 सिटीजन को प्रथम तथा 34851 को द्वितीय डोज लगाई गयी। जिला प्रशासन द्वारा चिन्हित होम क्वारंटाइन, पंचायत घरों एवं स्कूलों में रखे गये लोगों को जिला प्रशासन/स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टरों द्वारा उचित समय अवधि तक आइसोलेशन पर रहने की आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये। साथ ही नियत समय पर खाॅसी, जुखाम, बुखार, कफ, साॅस की तकलीफ आदि रोग की लक्षण होने पर करीब के स्वास्थ्य केन्द्र अथवा आपदा कन्ट्रोल रूम दूरभाष नम्बर 01368-221840, तथा वार रूम कोविड 19 दूरभाष नम्बर 01368-222213, पर सूचित करने की निर्देश दी गई। जबकि ग्राम प्रधान एवं ग्राम विकास अधिकारियांें को भी क्वारंटाइन में रहने वाले लोगों स्वास्थ्य खराब होने पर तत्काल सूचना देने को निर्देशित की गई है।
जिलाधिकारी गढ़वाल डाॅ. विजय कुमार जोगदण्डे ने कोविड-19 संक्रमण से रोकथाम एवं प्रभावी नियंत्रण हेतु जनपद में बाहर से आये लोगों को नियत अवधि के लिए आइसोलेशन पर रहने वाले लोगों द्वारा कोविड 19 के नियमावली से संबंधित नियमों का उल्लघन किया जाता है, तो संबंधित के विरूद्ध ब्लाक स्तर पर तैनात नोडल अधिकारी एवं गठित टीम के संपर्क नम्बर पर काॅल कर शिकायत दर्ज करने को कहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.