मुख्यमंत्री ने देश के उद्योगपतियों से कोविड में सहायता का किया अनुरोध,उद्योगपतियों ने दिया मदद का आश्वासन#कोविड संबंधी व्यवस्थाओं के लिएनोडल अधिकारी नियुक्त#जनपद पौड़ी गढवाल पढिए में वर्तमान समय में 216 रोगी डेडिकेटेड अस्पताल में भर्ती है।पढिए Janswar.com में।द्वारा-अरुणाभ रतूड़ी

मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने राज्य में कोविड के खिलाफ लङाई में उद्योगों से सहयोग लेने के लिये देश के जाने माने उद्योगपतियों से वार्ता की है। उन्होंने अडाणी ग्रुप के श्री गौतम अडाणी और आदित्य बिड़ला ग्रुप के चेयरमैन कुमार आदित्य बिड़ला से बात कर देवभूमि उत्तराखंड की विषम भौगोलिक परिस्थिति से अवगत कराया साथ ही कोविड 19 संक्रमण के तेज़ी से बड़ते प्रभाव से भी अवगत कराया। मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने सीएसआर में कोविड से संबंधित मेडिकल इक्वीपमेंट देने का अनुरोध किया। दोनों उद्योगपतियों ने मुख्यमंत्री को हर सम्भव सहयोग के प्रति आश्वस्त किया।
इसी क्रम में महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन श्री आनंद महेंद्रा और पेटीएम के श्री विजय शेखर शर्मा के साथ वर्चुअल मीटिंग करते हुए प्रदेश में कोविड से लङाई में सीएसआर के तहत राज्य सरकार का सहयोग करने का अनुरोध किया। मुख्यमंत्री ने सहायता मेडिकल उपकरणों के रूप में दिये जाने की अपेक्षा की। उन्होंने कहा कि सीधे आवश्यक मेडिकल इक्वीपमेंट देने से राज्य सरकार को सरकारी औपचारिकताएं नहीं करनी पङेंगी और अनावश्यक विलम्ब नहीं होगा।
श्री आनंद महिंद्रा के साथ वार्ता में मुख्यमंत्री ने 1000 आक्सीजन सिलेंडर, 1000 आक्सीजन कन्सन्ट्रेटर्स, एमआरई मशीन, 10 मेडिकल ऑक्सिजन जेनरेटर ( छोटा अक्सीज़न प्लांट)  500 बी.आइ.पी.ए.पी 500 सी.पीए.पी, मॉनिटर इत्यादि सहित करोना संक्रमण से बचाव के अन्य उपकरण उपलब्ध कराने का आग्रह किया। श्री आनंद महिंद्रा ने हर सम्भव सहयोग देने के प्रति मुख्यमंत्री को आश्वस्त किया। वर्चुअल मीटिंग मे महेंद्रा ग्रूप के वरिष्ठ अधिकारी अनीश शाह, मनोज, श्रुति, कवींद्र सिंह व उज़्बेक ईरानी मौजूद थे।
एक अन्य वर्चूअल मीटिंग में पेटीएम के सीईओ श्री विजय शेखर शर्मा से मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने वार्ता की। मुख्यमंत्री ने उन्हें भी राज्य की आवश्यकताओं से अवगत कराया। पेटीएम के सीईओ ने 100 आक्सीजन कन्सन्ट्रेटर्स उत्तराखण्ड को शीघ्र उपलब्ध कराने की बात कही।
मुख्यमंत्री ने श्री आनंद महिंद्रा और श्री विजय शेखर शर्मा का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि सभी के सहयोग से कोविड से लड़ाई में अवश्य जीत हासिल करेंगे। वर्चुअल मीटिंग में उद्योग जगत से समन्वय हेतु नोडल अधिकारी श्री नीरज खैरवाल भी उपस्थित थे।

—————————————————सचिवालय में मीडिया ब्रीफिंग करते हुए अपर मुख्य सचिव श्रीमती मनीषा पंवार ने बताया कि प्रदेश में कोविड संबंधी व्यवस्थाओं मे और तेजी लाने के लिए नोडल अफसरों की तैनाती है की गई है। राज्य सरकार अपनी व्यवस्थाओं के साथ ही सीएसआर के माध्यम से भी मेडिकल इक्विपमेंट्स जुटाने के प्रयास किये जा रहे हैं। इसके लिए विभिन्न स्तरों पर तमाम सामाजिक संगठनों से भी सहयोग लिया जा रहा है।
सचिव स्वास्थ्य श्री अमित नेगी ने बताया कि प्रदेश में राज्य सरकार लगातार ऑक्सीजन बेड, आईसीयू की व्यवस्था कर रही है। अगले कुछ दिनों में 1400 ऑक्सीजन बैड तैयार हो जाएंगे, जिसके लिए राज्य सरकार ने 40 करोड़ की धनराशि डीआरडीओ को जारी कर दी है। अब तक प्रदेश में 39 लाख लोगों के सैंपल टेस्ट किये जा चुके है।
सचिव श्री अमित नेगी ने प्रदेश में कोविड वैक्सीनेशन को लेकर जानकारी देते हुए बताया कि राज्य सरकार को 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के वैक्सीनेशन हेतु तीन लाख वैक्सीन प्राप्त हो चुकी है। इसके अलावा 18 साल से 45 वर्ष की उम्र में लोगों के वैक्सीनेशन हेतु 100 करोड़ रुपए मुख्यमंत्री राहत कोष से जारी कर दिए गए हैं। सचिव नेगी ने बताया कि प्लाज्मा डोनेशन हेतु पोर्टल की व्यवस्था की गई है जिसका अच्छा रेस्पोंस मिलने लगा है। इसके साथ ही ई- संजीवनी पोर्टल के माध्यम से रोजाना दो हजार से ज़्यादा लोगों को घर बैठे मुफ़्त उपचार मिल रहा है।
सचिव स्वास्थ्य श्री अमित नेगी ने बताया कि प्रदेश के प्राइवेट अस्पतालों को कहा रेमेडिसविर  इंजेक्शन का इस्तेमाल तय एसओपी के अनुसार ही करने को कहा गया है। हालांकि हमारे पास ये पर्याप्त संख्या में हैं। बड़े अस्पताल अपनी आक्सीजन संबंधित मांग की सूचना 24 घंटे पहले प्रशासन को दे दें ताकि समय से ऑक्सीजन की आपूर्ति कर दी जाए। इसके साथ ही अस्पतालों में प्रयोग की जा रही ऑक्सीजन का ऑडिट हेतु जिला अधिकारी को निर्देशित दिए गए हैं ।
कोविड संक्रमण को रोकने के लिये आम जनता का सहयोग बहुत जरूरी है। जब आवश्यक हो तभी घर से निकले और कोविड गाइड लाइन का अक्षरशः पालन करें। प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाओं हेतु मानव संसाधन उपलब्ध कराने हेतु अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। प्रदेश में आउटसोर्स, पीआरडी, उपनल के जरिए व्यवस्था की जा रही है। 375 नए डॉक्टरों की भी नियुक्ति हो चुकी है, इसके अलावा 185 एमएनएचपी की तैनाती की जा रही है।
सचिव डॉ. पंकज कुमार पांडेय ने बताया कि कोविड उपचार में एक विशेष दवाई  TOCILIZUMAB का इस्तेमाल किया जा रहा है, जिसको बहुत ही विशेष परिस्थिति में दिया जाता है। राज्य सरकार  को फ़िलहाल केंद्र से इस दवा के 125 डोज की अनुमति मिली थी, जिसमें से अभी तक 25 डोज प्रदेश को पहुंच सके हैं। इस दवा अनुमति हेतु गढ़वाल क्षेत्र के लिए दून मेडिकल कॉलेज एवं कुमाऊं क्षेत्र के लिए सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन डिपार्टमेंट को नामित किया गया है।
प्रदेश में है कोविड संबंधित दवाओं की कालाबाजारी को लेकर आइजी श्री अमित सिन्हा ने जानकारी दी कि नैनीताल, उधम सिंह नगर, देहरादून और हरिद्वार में लगातार राज्य सरकार द्वारा कार्रवाई की जा रही है। बीते 2 दिन में चार लोग कालाबाजारी के मामले में गिरफ्तार किए गए हैं। इसके साथ ही साथ ऑक्सीजन सिलेंडर भी पुलिस द्वारा बरामद किये गये है। प्रदेश की जनता को जहां भी कालाबाजारी जैसे सूचना मिले तत्काल पुलिस को संपर्क करें जिसके लिए 112 पर जानकारी दी जा सकती है।


जनपद में वर्तमान समय में 216 रोगी डेडिकेटेड अस्पताल में भर्ती है।

कोरोना वायरस कोविड-19 संक्रमण-दैनिक सूचना, मेडिकल हेल्थ बुलेटिन
जनपद में कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण से रोकथाम एवं बचाव हेतु जिला प्रशासन हर स्थिति से निपटने के लिए सक्रियता से कार्य में जुटी है। महामारी के दृष्टिगत कोविड 19 कर्फ्यू को लेकर जनपद में जिला मजिस्टेªट डा0 विजय कुमार जोगदण्डे द्वारा जारी अधिसूचना का अनुपालन संबंधित अधिकारियों एवं पुलिस प्रशासन द्वारा गंभीरता से संपादित किया जा रहा है। जनपद के समस्त क्षेत्रों में जनपद वासियों ने अपने बाजार/क्षेत्रान्तर्गत दुकानों से सामाजिक दूरी का अनुपालन करते हुए, आवश्यक वस्तुओं की खरीदारी की।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय परिसर में स्थापित वार रूम से प्राप्त सूचना के अनुसार जनपद में वर्तमान समय में 216 रोगी डेडिकेटेड अस्पताल में भर्ती है। भर्ती रोगी इस प्रकार है जिला अस्पताल पौड़ी में 32 रोगी ऑक्सीजन बेड में भर्ती है। जबकि बेस अस्पताल श्रीकोट श्रीनगर में 104 आॅक्सीजन बेड में तथा 35 रोगी आईसीयू पर भर्ती है। वहीं बेस अस्पताल कोटद्वार में 45 रोगी आॅक्सीजन बेड पर भर्ती है। जनपद में तीनों अस्पताल में 362 आॅक्सीजन बेड, 50 आईसीयू बेड तथा 12 जनरल बेड सहित कुल 424 बेड उपलब्ध है। वर्तमान समय में 208 बेड कोरोना मरीज के लिए उपलब्ध जिनमें 15 आईसीयू तथा 12 जनरल बेड शामिल है।
जनपद डेडिकेटेड कोविड केयर सेन्टर में 66 लोगों को रखा गया है, जिनमें से 10 लागों को आॅक्सीजन बेड पर है। जनपद में समस्त स्थापित डेडिकेटेड कोविड केयर सेन्टर में 22 आॅक्सीजन बेड तथा 444 जनरल बेड सहित कुल 466 बेड उपलब्ध है, जिनमें से 400 बेड रिक्त है। जो कि डेडिकेटेड बारात घर पौड़ी में 49 जनरल बेड तथा 1 आॅक्सीजन बेड बनाये गये है। वहीं परमार्थ निकेतन स्वर्गाश्रम ट्रस्ट 74 बेड में से 72 जनरल तथा 2 आॅक्सीजन बेड है, कौड़िया कैंप में 92 बेड में से 90 जनरल तथा 2 आॅक्सीजन बेड बनाये गये है। गीता भवन स्वर्गाश्रम ट्रस्ट में 200 बेड में से 185 जनरल बेड तथा 15 आॅक्सीजन बेड बनाये गये है। कोविड केयर सेन्टर सतपुली में 50 बेड बनाये गये है जिनमें 48 जनरल तथा 2 आॅक्सीजन बेड है।
जनपद में 2 कोविड 19 निजी सुविधा केन्द्रों में हंस फाउंडेशन सतपुली में 50 बेड बनाये गये है जिनमें से 35 जनरल तथा 5 आॅक्सीजन बेड व 10 आईसीयू बेड शामिल है। जिनमें 14 रोगी भर्ती है, 9 जनरल बेड, 3 ऑक्सीजन बेड तथा 2 रोगी आईसीयू बेड में है। वहीं मां कामाख्या हॉस्पिटल कोटद्वार में 30 बेड कोरोना रोगियों के लिए बनाये गये है। जिनमें से 10 ऑक्सीजन तथा 20 आईसीयू बेड शामिल है। सभी बेड में रोगी भर्ती है।
वर्तमान समय में जनपद में 3819 एक्टिव केस है, जिनकी डेडिकेटेड अस्पतालों, कोविड केयर सेन्टर, होम आइसोलेशन आदि में उपचार चल रही है। जबकि 6179 लोग ठीक होकर अपने घरों को चले गये है। जनपद पौड़ी गढ़वाल में एक्टीव केस 3819 में से 1125 एक्टीव केस अन्य जनपद/राज्य के शामिल है।
जनपद के अस्पतालों, क्षेत्रों एवं सैंपलिंग बेरियर से अब तक कुल 209857 सैंपल को आरटी-पीसीआर, रेपिड एन्टिजेन टस्ट एवं ट्रूनट में जांच हेतु भेजा गया है। जिनमें से 184730 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव तथा 10085 कोरोना पाॅजिटिव पाये गये है। जबकि 2228 सैंपल को रिजेक्ट किया गया है। मंगलवार को 1322 सैंपल जांच हेतु भेजा गया है। आज एक रोगी की मृत्यु सहित 87 रोगी की अब तक मृत्यु हो गये है।
जनपद में 175 पीपीई किट, 1620 एन 95 मास्क,  29920 थ्री लेयर मास्क, 809 ऑक्सीजन सिलेंडर, 42 एम्बुलेंस तथा 8450 वीटीएम ता 12 कोविड केयर सेन्टर में 943 बेड उपलब्ध है। जिनमें से 4 कोविड केयर सेंटर संचालित हो रही है।
टीकाकरण कार्यक्रम के तहत जनपद पौड़ी गढ़वाल में अब तक 164853 लाभार्थी को प्रथम एवं द्वितीय डोज विभिन्न वैक्सीनेशन स्थलों पर टिका लगाये गये है। जिनमें जनपद वासियों के अलावा 12014 स्वास्थ्य वर्कर एवं फ्रंट लाईन वारियर शामिल है। मंगल वार को 49 को प्रथम तथा 33 को द्वितीय डोज लगाये गये है। अब तक 123675 लोगों को प्रथम तथा 19931 लोगों को द्वितीय प्रथम डोज लग चुका है। जबकि मंगलवार को 633 लोगों को प्रथम तथा 1489 लोगों को द्वितीय डोज लग चुके है।
वहीं जनपद में दिनांक 05 मई 2021 तक जनपद के समस्त ब्लाकों के गांवों में बाहर से पहुंचे करीब 10809 लोगों का जिला प्रशासन द्वारा चिन्हित होम आइसोलेशन व अपने घरों में होम आइसोलेशन  पर रखा गया है। निवासरत लोगों को जिला प्रशासन/स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टरों द्वारा उचित समय अवधि तक आइसोलेशन पर रहने की आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये। साथ ही नियत समय पर खांसी, जुकाम, बुखार, कफ, साॅस की तकलीफ आदि रोग की लक्षण होने पर करीब के स्वास्थ्य केन्द्र अथवा आपदा कन्ट्रोल रूम दूरभाष नम्बर 01368-221840, तथा वार रूम कोविड 19 दूरभाष नम्बर 01368-222213, पर सूचित करने की निर्देश दी गई। जबकि ग्राम प्रधान एवं ग्राम विकास अधिकारियों को भी क्वारंटाइन में रहने वाले लोगों स्वास्थ्य खराब होने पर तत्काल सूचना देने को निर्देशित की गई है।
जिलाधिकारी गढ़वाल डा0 विजय कुमार जोगदण्डे ने कोविड-19 संक्रमण से रोकथाम एवं प्रभावी नियंत्रण हेतु जनपद में बाहर से आये लोगों को नियत अवधि के लिए आइसोलेशन पर रहने वाले लोगों द्वारा कोविड 19 के नियमावली से संबंधित नियमों का उल्लघन किया जाता है, तो संबंधित के विरूद्ध ब्लाक स्तर पर तैनात नोडल अधिकारी एवं गठित टीम के संपर्क नम्बर पर काॅल कर शिकायत दर्ज करने को कहा

Leave a Reply

Your email address will not be published.