मुख्यमंत्री ने डीजीपी को निर्देशित किया कि वे ट्रैफिक पुलिस द्वारा वाहन चालकों को अनावश्यक परेशान न करने के निर्देश दें#उत्तराखण्ड में हवाई सेवाओं को बढ़ाने के लिए मुख्यमंत्री ने वर्चुअल माध्यम से नागर विमानन मंत्री के साथ बैठक की।#जिलाधिकारी गढवाल की अध्यक्षता में आयोजित तहसील दिवस मे श्रीनगर में 31 शिकायतें दर्ज हुई।-www.Janswar.com(जनस्वर डॉट कॉम)

-अरुणाभ रतूड़ी

 

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी से मंगलवार को मुख्यमंत्री आवास में पुलिस महानिदेशक श्री अशोक कुमार ने भेंट की। डीजीपी ने मुख्यमंत्री को राज्य में क़ानून व्यवस्था से सम्बंधित विभिन्न मुद्दों से अवगत कराया। इस दौरान मुख्यमंत्री श्री धामी ने पुलिस महानिदेशक को निर्देश दिए कि ट्रैफिक पुलिस को निर्देशित किया जाय कि अनावश्यक रूप से वाहन चालकों को परेशान न किया जाय।


मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को सचिवालय से वर्चुअल माध्यम से नागर विमानन मंत्री, भारत सरकार श्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया के साथ उत्तराखण्ड में हवाई सेवाओं को बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण बैठक की।
नागर विमानन मंत्री, भारत सरकार श्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया ने कहा कि 07 अक्टूबर को मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी के साथ जौलीग्रांट, देहरादून में बने नये टर्मिनल का लोकार्पण किया जायेगा। हेली समिट के दौरान देहरादून-पंतनगर-पिथौरागढ़-पंतनगर- देहरादून हवाई सेवा का फ्लैग ऑफ भी किया जायेगा। यह सेवा पवनहंस द्वारा दी जायेगी। देहरादून-पिथौरागढ़ हेली सेवा को जल्द स्वीकृति दी जायेगी।
केन्द्रीय नागर विमानन मंत्री श्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया ने कहा कि उत्तराखण्ड में उड़ान के तहत देहरादून -श्रीनगर-देहरादून, देहरादून- गौचर- देहरादून, हल्द्वानी-हरिद्वार हल्द्वानी, पंतनगर-पिथौरागढ़-पंतनगर, चिन्यालीसौड़ – सहस्त्रधारा-चिन्यालीयौड़, गौचर-सहस्त्रधारा -गौचर, हल्द्वानी -धारचूला- हल्द्वानी तथा गौचर – सहस्त्रधारा – गौचर हेली सेवाओं को स्वीकृति प्रदान की गई है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड के लिए जो 13 हेलीपोर्ट चिन्हित किये गये हैं, उनमें से 11 की डीपीआर तैयार हो चुकी है। मसूरी हेलीपोर्ट की डीपीआर भी जल्द तैयार हो जायेगी। जौलीग्रांट एयरपोर्ट से शहरों की कनेक्टिविटी और बढ़ाई जायेगी। पंतनगर ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट की कार्यवाही में और तेजी लाई जायेगी। उन्होंने सुझाव दिया कि उत्तराखण्ड में वैट के चार्जेज एटीएफ पर अधिक हैं, इस चार्ज को कम किया जाय तो राज्य में एयर कनेक्टिविटी और तेजी से बढ़ेगी और राजस्व में भी वृद्धि होगी।
मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने उत्तराखण्ड को एयर कनेक्टिविटी के क्षेत्र में दी गई इन सौगातों के लिए केन्द्रीय नागर विमानन मंत्री श्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया का आभार व्यक्त किया।  उन्होंने देहरादून-पिथौरागढ़ हेली सेवा की स्वीकृति पर कहा कि इस सेवा के शुरू होने से सीमान्त क्षेत्र पिथौरागढ़ के विकास के लिए यह मील का पत्थर साबित होगा। इस हेली सेवा की मांग मुख्यमंत्री ने केन्द्र सरकार से पहले भी कर चुके थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस तेजी से नागर विमानन मंत्री द्वारा निर्णय लेकर कार्यरूप में परिणीत किया इससे मैं अभिभूत हूं। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के मार्गदर्शन एवं केन्द्र सरकार के सहयोग से राज्य में कनेक्टिविटी के क्षेत्र में तेजी से विकास हो रहा है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में चिन्हित 13 हेलीपोर्ट में से 08 पर टेंडर प्रक्रिया गतिमान है, जो 20 अक्टूबर तक पूर्ण हो जायेंगे। ये सभी कार्य इस वित्तीय वर्ष में पूर्ण करने के प्रयास किये जा रहे हैं। 11 जुलाई 2021 को मुख्यमंत्री ने नागर विमानन मंत्री से भेंट के दौरान पवनहंस की हेलीकॉप्टर सेवा यात्रियों को मंहगी पड़ने का मुद्दा उठाया गया। केन्द्रीय मंत्री द्वारा इसका शीघ्र समाधान करने एवं देहरादून से श्रीनगर 42 प्रतिशत एवं देहरादून से गौचर 50 प्रतिशत किराया कम करने पर मुख्यमंत्री ने उनका आभार व्यक्त किया।
इस अवसर पर सचिव नागरिक उड्डयन श्री दिलीप जावलकर, अपर सचिव श्रीमती स्वाति एस. भदौरिया भी मौजूद थे।

—————————————————-

जन समस्याओं के निस्तारण को लेकर आज जिलाधिकारी गढ़वाल डॉ. विजय कुमार जोगदण्डे की अध्यक्षता में श्रीनगर तहसील सभागार में तहसील दिवस आयोजित किया गया, जिसमें लगभग 31 शिकायतें दर्ज की गई। अधिकांश शिकातयों का मौके पर निस्तारण किया गया जबकि कुछ शिकायतों पर जांच कमेटी गठित की गई है, जिन पर जांच के उपरान्त कार्यवाही की जायेगी। दर्ज शिकायतों में अधिकतर शिकायतें नगर पालिका एवं लोक निर्माण विभाग सहित पेयजल निगम, जल संस्थान, विद्युत, रेलवे निर्माण सहित अन्य विभागों की शिकायतें शामिल हैं, जिनका संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी ने 15 दिनों के भीतर शिकायतों/समस्याओं का निस्तारण करने के निर्र्देश संबंधित अधिकारियों को दिये। इस दौरान खण्ड शिक्षा अधिकारी के अनुपस्थिति रहने पर स्पष्टीकरण तलब करने के निर्देश सम्बन्धित अधिकारी को दिए। 
जिलाधिकारी डॉ. जोगदण्डे ने दर्ज शिकायतों के सम्बन्ध में अधिकारियों से चर्चा करते हुए सभी विभागों को निर्देशित किया कि निर्माण कार्यों से संबंधित जिन प्रकरणों पर प्रस्ताव तैयार किये गये हैं, उन पर शीघ्रता से कार्यवाही करते हुए प्रस्ताव शासन को प्रेषित करना सुनिश्चित करें। जिलाधिकारी ने उपजिलाधिकारी श्रीनगर को निर्देशित किया कि जांच प्रकरण से संबंधित शिकातयों का व्यक्तिगत रूप से निरीक्षण करना सुनिश्चित करें। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि लोगों की समस्याओं का निस्तारण तहसील स्तर पर ही करना सुनिश्चित करें, ताकि उन्हें परेशानियों का सामना करते हुए जनपद मुख्यालय न आना पड़ें। साथ ही उन्होंने विवादस्त मामलों की जांच आख्या भी उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद स्तरीय अधिकारी अपने-अपने अधीनस्थ कार्यलयों का समय-समय पर निरीक्षण करना सुनिश्चित करें, जिससे हो रहे कार्यों की जानकारी मिल सकेगी। जिलाधिकारी ने सम्बन्धित अधिकारी को निर्देशित किया कि जिन गांव में स्वच्छता कमेटी गठित नहीं हुई है वहाँ तत्काल कमेटी बनाना सुनिश्चित करें। श्रीकोेट में विद्युत आपूर्ति बाधित होने की शिकायत पर संबंधित अधिकारी को निर्देशित किया कि जिस ठेकेदार द्वारा सही कार्य नही किया जा रहा है, उसका स्पष्टीकरण करना सुनिश्चित करें। अधिशासी अधिकारी नगर पालिका श्रीनगर को निर्देशित किया कि घर-घर जाकर लोगों को जागरूक करते हुए कूड़ा उठवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने एसडीएम को निर्देशित किया कि जो प्रकरण लंबित है उनकी जांच करना सुनिश्चित करें। उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया कि बेहतर गुणवत्ता के साथ कार्य करना सुनिश्चित करें। 
जिलाधिकारी डॉ. जोगदण्डे ने कहा कि जिस भी विभाग के पास जो शिकायत आती है, उसको दर्ज कर यथासम्भव अपने स्तर पर ही निस्तारण करना सुनिश्चित करें और यदि आपके स्तर पर सम्भव न हो लिखित रूप में अपने उच्चाधिकारी के संज्ञान में लाते हुए शासन को प्रेषित करना सुनिश्चित करें। जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि जांच के प्रकरणों में शिकायतकर्ता को मौके पर बुलाकर उनके कथन को लिखित में लेकर उनकी उपस्थित में जांच करायें, ताकि उनके मन में दुविधा न रहे। उन्होंने कहा कि तहसील दिवस के अवसर पर सभी विभागों के अधिकारी मौजूद होते है और एक ही जगह पर समन्वय बनाकर सभी समस्याओं का हल निकालकर समस्याओं का निस्तारण किया जाता है। इसलिए सबको तहसील दिवसों में अधिक से अधिक संख्या में पहुंचकर इनका लाभ लेना चाहिए। पेयजल व विद्युत की शिकायत मिलने पर जिलाधिकारी ने सम्बन्धित अधिकारी को तत्काल निरीक्षण कर समस्या का निस्तारण करने के निर्देश दिए। 
मुख्य विकास अधिकारी प्रशांत कुमार आर्य ने कहा कि आम जनमानस की समस्या हेतु तहसील दिवस का आयोजन किया जाता है। उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया कि समस्या मिलते ही निस्तारण करने की कोशिस करें, जिसमे आमजन को दिक्कतों का सामना न करना पड़े। साथ ही कहा कि जिन प्रकरणों में दिक्कतें आ रही हैं उनकी रिपोर्ट उपलब्ध कराएं, जिससे उनका समाधान भी जल्द से जल्द किया जा सके। 
इस अवसर पर प्रभागीय वनाधिकारी मुकेश कुमार शर्मा, जिला विकास अधिकारी वेद प्रकाश, एसडीएम अजयवीर सिंह, महाप्रबंधक उद्योग मृत्युंजय सिंह, मुख्य कृषि अधिकारी डीएस राणा, मत्स्य अधिकारी अभिषेक मिश्रा, सिंचाई अधिकारी राजीव रंजन, जिला पूर्ति अधिकारी कोहली, बाल विकास अधिकारी जितेंद्र कुमार, एडीपीआरओ नितिन नौटियाल, सहायक समाज कल्याण अधिकारी अनिल सेमवाल सहित अन्य उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.