मुख्यमंत्री ने किया टीकाकरण कार्यक्रम की व्यवस्थाओं का निरीक्षण।#मसूरी में 2 लेन टनल के लिये मिली 700 करोड़ की स्वीकृति।

मुख्यमंत्री ने किया टीकाकरण कार्यक्रम की व्यवस्थाओं का निरीक्षण।

मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने मंगलवार को सचिवालय में सचिवालय कर्मियों एवं उनके आश्रितों के लिये आयोजित किये जा रहे टीकाकरण कार्यक्रम की व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी से बचाव के लिये टीकाकरण आवश्यक है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में टीकाकरण अभियान में तेजी लायी जायेगी ताकि कोरोना महामारी के संक्रमण को रोकने में हम कामयाब हो सके। उन्होंने सभी से टीकाकरण के लिये आगे आने तथा कोविड नियमों का पालन करने की अपेक्षा की है।

————————————————–

  • मसूरी में 2 लेन टनल के लिये मिली 700 करोड़ की स्वीकृति।
  • केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री का मुख्यमंत्री ने जताया आभार।
  • इस सम्बन्ध में मुख्यमंत्री द्वारा केन्द्रीय मंत्री से किया गया था अनुरोध।

मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने मसूरी शहर की यातायात व्यवस्था की सुगमता एवं आवागमन की सुविधा के लिये माल रोड से लाल बहादुर शास्त्री प्रशासनिक अकादमी के मध्य 2.74 कि0मी0 लम्बी टनल निर्माण के लिये 700 करोड़ की स्वीकृति के लिये केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री श्री नितिन गड़करी का आभार व्यक्त किया है। इस सम्बन्ध में मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री से हुई भेंट के दौरान भी अनुरोध किया था।
केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री श्री नितिन गड़करी द्वारा इस सम्बन्ध में ट्वीट के माध्यम से जानकारी दी है कि राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 707 ए पर मसूरी में माल रोड से लाल बहादुर शास्त्री प्रशासनिक अकादमी तक 2.74 कि0मी0 लम्बी सुरंग के निर्माण के लिये 700 करोड़ की धनराशि स्वीकृत कर दी गई है।
मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने भी ट्वीट के माध्यम से केन्द्रीय मंत्री श्री गड़करी का आभार व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि इससे मसूरी शहर की यातायात व्यवस्था में सुधार तथा आवागमन में सुविधा होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस टू लेन टनल के निर्माण एवं इसके आसपास की सड़को के चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण से आम जनता को सुविधा होने के साथ ही आपदा की स्थिति में राहत व बचाव कार्यों में भी इससे मदद मिल सकेगी।
मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह ने कहा कि इस टनल के निर्माण एवं सड़कों के सुदृढ़ीकरण से जौनसार बावर क्षेत्र की कनेक्टिविटी और बेहतर होगी तथा इस क्षेत्र में विकास के नये द्वार खुलेंगे। इस पिछड़े क्षेत्र को विकास की मुख्यधारा से जोड़ने में भी इससे मदद मिलेगी। पर्यटन की दृष्टि से भी इस क्षेत्र को नई पहचान मिल सकेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.