ममता बहुगुणा की ससुराल वालों पर ममता की हत्या का आरोप,क्या हत्या का राज खुलेगा?-शिवप्रसाद सेमवाल-www.janswar.com

 

क्या ममता बहुगुणा की हत्या का खुलेगा राज !-शिवप्रसाद सेमवाल

 

-शिवप्रसाद सेमवाल                                      (श्री सेमवाल पत्रकारिता व यूकेडी से जूड़े हैं।)

• तीन साल से न्याय की आस में ममता की मां..                                                    • • •    • ससुराल वालों पर हत्या का आरोप..            • दो बार ममता से जबरन करवा चुके थे कन्या भ्रूण हत्या..                                                  • पुलिस ने मायके वालों को सौंपी ममता की बता कर किसी और की लाश..

 

25 नवंबर 2019 को सुबह 8 बजे ममता के पति गिरीश बहुगुणा ने ममता के पिता राजाराम जोशी को कॉल करके बताया कि ममता सुबह 5 बजे से गायब है. ममता के पिता और दो भाई ममता के परिवार से और आसपास पता करने ममता के घर एजेंसी मोहल्ला पहुंचे. पूछताछ करते हुए ममता के बड़े भाई दीपक जोशी श्रीनगर के नैथाणा पुल में पंहुचे. यहां उनको एक जोड़ी चप्पल मिली. ममता के परिवार ने बताया कि यह चप्पल ममता की ही है. दीपक जोशी ने श्रीनगर कोतवाली जाकर ममता की गुमशुदगी की एफआईआर दर्ज करवाई.
पुलिस ने ममता के परिवार से पूछताछ की तो उन्होंने इस मामले को आत्महत्या बताने की कवायद शुरू की. राजाराम जोशी ममता के पति और जेठ अजय बहुगुणा पर उनकी बेटी की हत्या का आरोप लगाते हुए कहते हैं कि ममता किसी भी हाल में आत्महत्या नहीं कर सकती. दर असल ममता को उसके परिवार द्वारा बहुत समय से मानसिक रूप से परेशान किया जा रहा था.
ममता के दूसरे भाई प्रदीप जोशी ने बताया कि 2008 में ममता की शादी के बाद 2009 में ममता को एक बेटी हुयी. उसके बाद परिवार वालों ने जबरन ममता की मर्जी के खिलाफ दो बार बेटियों की कोख में ही हत्या करवा दी. 2018 में ममता चौथी बार मां बनने वाली थी, परिवार वालों ने फिर भ्रूण जांच कर बेटी होने का पता किया और फिर ममता पर इस अजन्मी बच्ची की हत्या का दबाव बनाने लगे. इस बार ममता परिवार के फैसले के खिलाफ खड़ी हुई और हर हाल में इस बच्ची को जन्म देने की ठान ली. फरवरी 2019 को ममता ने इस बच्ची को जन्म दिया. इस दौरान ममता परिवार के साथ मेरठ में रहती थी. तब से परिवार वाले ममता को शारिरिक और मानसिक रूप से और भी प्रताड़ित करने लगे. ममता के गायब होने से एक महीने पहले ही वे श्रीनगर लौटे थे.
मेरठ में ममता के पड़ोस में रहने वाली सहेली सुमिता बताती हैं कि ममता का पति ममता से अक्सर मारपीट और गाली गलौज किया करता था. सुमिता ने कहा कि ममता कभी भी आत्महत्या नहीं कर सकती. वह बहुत परेशान रहती थी लेकिन वह कहती थी कि मुझे अपनी बच्चियों के लिए जिंदा रहना है.
ममता के पिता राजाराम जोशी पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहते हैं कि तत्कालीन श्रीनगर कोतवाल नरेन्द्र बिष्ट ने मामले को जरा भी गंभीरता से नहीं लिया. ससुराल वालों ने उनके घर से गायब हुयी ममता की शिकायत तक दर्ज करवाना जरूरी नहीं समझा. पुलिस ममता के ससुरालियों पर सख्ती बरतने के बजाय हमसे ही बदसलूकी किया करते थे. ममता के भाई को पुल पर मिली चप्पलों की बरामदगी पुलिस ने 40 दिन बाद अपने पास ली, जिनकी किसी भी प्रकार की जांच नहीं करवायी गयी. प्रदीप जोशी ने बताया कि एसडीआरएफ की टीम ने ममता को ढूंढने के लिए अलकनंदा नदी में बिना गोताखोरों के एक ऐसा कांटा लेकर सर्च अभियान चलाया जिसमें मछली फंसना भी मुश्किल था. प्रदीप जोशी आरोप लगाते हैं कि पुलिस ने यह मामला इतने हल्के में लिया जैसे कोई साइकिल चोरी हुई हो.
ममता की गुमशुदगी के 10 महीनों बाद पुलिस को अलकनंदा में मिली एक लाश को ममता बहुगुणा की बताया गया. पुलिस ने लाश मायके वालों को सौंपी और उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया. हैरत की बात यह है कि जब 4 महीने बाद उस लाश की डीएनए टेस्ट की रिपोर्ट आई और मायके वालों से मैच करवाई गई तो पता चला कि वह लाश ममता बहुगुणा की नहीं थी. अब मायके वालों का शक गहराया कि ममता के ससुराल वालों ने उसकी हत्या कर कहीं और दफनाया है. ममता की तब दस साल की बड़ी बेटी ने अपने नाना को बताया था कि घटना से पहली रात को उसकी मां के साथ उसके पिता और ताऊ ने मारपीट और गाली गलौज की. ममता की दोनों बेटियां अब अलग अलग अपनी बुआओं के घर रहती हैं.
मायके वालों ने ममता के ससुराल पक्ष के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है जिसकी तारीखें चल रही हैं. पुलिस ने ससुराल वालों के खिलाफ कोई सबूत पेश नहीं किए. पुलिस के लापरवाह रवैये से मामला कमजोर पड़ा है. ममता की मां न्याय की आस लगाये बैठी है और बुजुर्ग पिता कोर्ट की दहलीज पर घुटनों के बल पहुंच रहे हैं.
justiceformamtabahuguna

(श्री शिवप्रसाद सेमवाल की फेसबुक वॉल से साभार)

Leave a Reply

Your email address will not be published.