प्रधानमंत्री ने शिक्षक दिवस पर शिक्षकों को बधाई दी तथा वे 7 सितंबर को शिक्षक पर्व के पहले सम्मेलन को संबोधित करेंगे#मुख्यमंत्री ने वर्चुअल माध्यम से सल्ट में होनेवाले शहीद दिवस कार्यक्रम में प्रतिभाग किया।-Janswar.com

प्रधानमंत्री ने शिक्षक दिवस पर शिक्षकों को बधाई दी, पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की

सितंबर 05, 2021

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षक समुदाय को बधाई दी है। प्रधानमंत्री ने पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन को भी उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि दी हैI

प्रधानमंत्री ने ट्वीट्स की एक श्रृंखला में कहा,

‘शिक्षक दिवस के अवसर पर पूरे शिक्षक समुदाय को बधाई जिन्होंने हमेशा युवाओं में बौद्धिक क्षमता के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। यह काफी सराहनीय है कि शिक्षकों ने कैसे नवाचार किया और सुनिश्चित किया कि कोविड-19 के समय में भी छात्रों की शिक्षा यात्रा जारी रहे।

मैं डॉ. एस. राधाकृष्णन को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं और उनकी विशिष्ट विद्वता और देश के लिए उनके योगदान को याद करता हूं।‘

On Teachers’ Day, greetings to the entire teaching fraternity, which has always played a pivotal role in nurturing young minds. It is commendable how teachers have innovated and ensured the education journey of students continues in the COVID-19 times.

— Narendra Modi (@narendramodi)

प्रधानमंत्री 7 सितंबर को शिक्षक पर्व के पहले सम्मेलन को संबोधित करेंगे

प्रधानमंत्री शिक्षा क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण पहलोंका शुभारंभ करेंगे

Posted Date:- Sep 05, 2021

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी 7 सितंबर, 2021 को सुबह 10:30 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से शिक्षक पर्व के पहले सम्मेलन को संबोधित करेंगे। कार्यक्रम के दौरान शिक्षा क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण पहलों का भी शुभारंभ करेंगे।

प्रधानमंत्री भारतीय सांकेतिक भाषा शब्दकोश (श्रवण बाधितों के लिए ऑडियो और अंतर्निहित पाठ सांकेतिक भाषा वीडियो, ज्ञान के सार्वभौमिक डिजाइन के अनुरूप), बोलने वाली किताबें (टॉकिंग बुक्स, नेत्रहीनों के लिए ऑडियो किताबें), सीबीएसईकी स्कूल गुणवत्ता आश्वासन और आकलन रूपरेखा,निपुणभारतके लिए ‘निष्ठा’ शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम और विद्यांजलि पोर्टल (विद्यालय के विकास के लिए शिक्षा स्वयंसेवकों/ दाताओं/ सीएसआर योगदानकर्ताओं की सुविधा के लिए) का शुभारंभ करेंगे।

‘शिक्षक पर्व-2021’ का विषय “गुणवत्ता और सतत विद्यालय: भारत में विद्यालयों से ज्ञान प्राप्ति” है। यह सम्मलेन न केवल सभी स्तरों पर शिक्षा की निरंतरता सुनिश्चित करने, बल्कि देश भर के स्कूलों में गुणवत्ता, समावेशी प्रथाओं और स्थायित्व में सुधार के लिए नवीन तौर-तरीकों को प्रोत्साहित करेगा।

 

कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय शिक्षा मंत्री और केंद्रीय शिक्षा राज्य मंत्री भी उपस्थित रहेंगे।

—————————————————-

 

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने मुख्यमंत्री आवास से वर्चुअल माध्यम से सल्ट विधानसभा क्षेत्र में शहीद दिवस के अवसर आयोजित कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। इस अवसर पर उन्होंने देश की आजादी के लिए शहादत देने वाले स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों एवं आन्दोलनकारियों को नमन करते हुए कहा कि 05 सितम्बर 1942 को खुमाड़ में स्वतंत्रता सेनानियों की भीड़ में तत्कालीन एसडीएम जानसन व गोरी पुलिस ने अधांधुध गोली चलाई जिसमें श्री खीमानन्द, श्री गंगाराम, श्री चूड़ामणि तथा श्री बहादुर सिंह मेहरा की शहादत हुई। इस शहादत के बाद महात्मा गांधी ने खुमाड़ को कुमाऊँ का बारदोली नाम दिया। इस क्षेत्र में सविनय अवज्ञा आंदोलन, नमक सत्याग्रह, कुली बेगार तथा अंग्रेजो भारत छोड़ो आन्दोलन सर्वव्यापी रहा। उन्होंने कहा कि इन सेनानियों के जज्बे एवं बलिदान को हमें अपनी स्मृतियों में संजोकर रखना होगा।
मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि भारत की आजादी के लिए अनेक लोगों ने अपना बलिदान दिया। देशभर में आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में देश हर क्षेत्र में तेजी से प्रगति कर रहा है। आज देश आत्मनिर्भर भारत की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है। ज्ञान, विज्ञान एवं अनुसंधान के क्षेत्र में भी भारत ने अलग पहचान बनाई है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे 02 माह पूर्व राज्य के मुख्य सेवक की जिम्मेदारी दी गई। इस दौरान राज्य के हित में अनेक निर्णय लिये गये। राज्य सरकार का प्रयास है कि अगले 10 सालों में राज्य को हर क्षेत्र में अग्रणी राज्य बनाया जाय। शिक्षा, स्वास्थ्य, पर्यटन, परिवहन, कृषि, बागवानी के क्षेत्र में राज्य को अग्रणी बनाने के लिए प्रयास किये जा रहे हैं। जिसके लिए पूरा रोडमैप बनाया जा रहा है। समाज के अंतिम पंक्ति के लोगों तक सरकार की योजनाओं का लाभ पहुंचे इसके सरकार जनता की भागीदार के रूप में कार्य कर रही है। जन समस्याओं के त्वरित निदान के लिए सभी अधिकारियों को प्रत्येक कार्य दिवस में 10 से 12 बजे तक जनससमयाओं को सुनने और उनका समाधान करने के निर्देश दिये गये हैं। कार्यों के सरलीकरण, समाधान और निस्तारण पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है।
इस अवसर पर सल्ट के विधायक श्री महेश सिंह जीना, स्थानीय जनप्रतिनिधि एवं गणमान्य उपस्थित थे

Leave a Reply

Your email address will not be published.