मुख्यमंत्री से मिले प्रधानमंत्री के सलाहकार श्री भाष्कर खुल्बे। #लोकायुक्त कार्यालय पर जड़ा ताला। समर्थन में उक्रांद #श्रीनगर अदिति वेडिंग प्वाइंट में आज बहुउद्देश्यीय शिविर का आयोजन किया गया। -www.janswar.com(जनस्वर डॉट कॉम)

 मुख्यमंत्री से मिले प्रधानमंत्री के सलाहकार श्री भाष्कर खुल्बे।

केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों एवं बद्रीनाथ धाम के मास्टर प्लान के सम्बन्ध में की चर्चा।

  • पर्वतीय शिल्प कला के अनुरूप हो ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन के स्टेशन।

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी से शुक्रवार को सचिवालय में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सलाहकार श्री भाष्कर खुल्बे ने भेंट की। उन्होंने मुख्यमंत्री से केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों तथा बद्रीनाथ के सौन्दर्यीकरण से सम्बन्धित मास्टर प्लान पर चर्चा की। श्री खुल्बे ने मुख्यमंत्री से ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन के अन्तर्गत निर्मित होने वाले स्टेशनों को पर्वतीय शिल्प कला के अनुरूप बनाये जाने की बात कही, उन्होंने कहा कि इससे पर्वतीय क्षेत्र के शिल्पियों को रोजगार के अवसर भी उपलब्ध होंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में उत्तराखण्ड की राजधानी देहरादून से विश्वस्तरीय टिहरी झील जाने हेतु मसूरी-चम्बा कोटी कालोनी मोटर मार्ग के द्वारा कुल 105 किमी० की दूरी तय करनी पड़ती है, जिसमें सम्पूर्ण मार्ग पर्वतीय क्षेत्र में होने के कारण लगभग 3.30 घण्टे का समय लगता है। उक्त टनल देहरादून के राजपुर के निकट से प्रस्तावित है, जो कि टिहरी झील के निकट कोटी कालोनी में समाप्त होगी। टनल की कुल लंबाई लगभग 35 किमी० आयेगी।  टनल के निर्माण की अनुमानित लागत 8750 करोड़ रूपए आयेगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि एम्स ऋषिकेश होने के पश्चात भी राज्य के पर्वतीय दूरदराज कुमाऊं मंडल के इलाके,  भौगोलिक दूरी होने के कारण सुपरस्पेशियलिटी स्वास्थ्य सेवाओं से वंचित हैं। राज्य के कुमाऊं मंडल में एम्स की स्थापना करने से  कुमाऊं के नागरिकों के साथ ही उत्तर प्रदेश के निकटवर्ती जनपदों के लोगों को भी विश्वस्तरीय चिकित्सा सुविधायें उपलब्ध होगी।  एम्स के लिए भूमि उत्तराखंड राज्य सरकार द्वारा उपलब्ध कराई जाएगी। पूर्व में भी एक राज्य में दो एम्स जैसे विश्व स्तरीय संस्थान स्थापित किए गये हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के क्षेत्रीय सामाजिक सांस्कृतिक तथा पर्यटन के विकास और सामरिक दृष्टिकोण से  रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा टनकपुर और बागेश्वर के बीच नैरो गेज रेलवे लाइन हेतु सर्वे का आदेश निर्गत किया गया है। यह लाइन ब्राडगेज में होनी चाहिये। चीन और नेपाल की अंतर्राष्ट्रीय सीमा के निकट स्थित होने के कारण यह रेल लाइन सामरिक रूप से बहुत महत्वपूर्ण है। साथ ही यह नये व्यापार केन्द्रों को भी जोड़ेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सामरिक उद्देश्य और सीमांत जनपदों के विकास की आवश्यकता को देखते हुए  टनकपुर बागेश्वर रेलवे लाईन का नैरोगेज की बजाय ब्राडगेज लाईन का सर्वे किया जाए।
मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि चार धाम सड़क परियोजना के साथ ही ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की उत्तराखण्ड को बड़ी देन है। वह समय दूर नहीं, जब पहाड़ में रेल का सपना पूरा होगा। इससे राज्य की आर्थिकी में बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा। मार्च 2024 तक परियोजना को पूर्ण किए जाने के लक्ष्य के साथ काम किया जा रहा है। ऋषिकेश के बाद परियोजना मुख्यतः अंडरग्राउंड है। भूमि अधिग्रहण किया जा चुका है। इस रेल लाइन पर 12 स्टेशन और 17 टनल बनाये जा रहे हैं। काम निर्धारित समयावधि में पूरा किया जा सके, इसके लिए विभिन्न स्थानों पर एक साथ काम चल रहा है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी 7 अक्टूबर को जौलीग्रांट, देहरादून में बने नये टर्मिनल का लोकार्पण किया जायेगा। हेली समिट के दौरान देहरादून-पंतनगर-पिथौरागढ़-पंतनगर- देहरादून हवाई सेवा का फ्लैग ऑफ भी किया जायेगा। यह सेवा पवनहंस द्वारा दी जायेगी। देहरादून-पिथौरागढ़ हेली सेवा को जल्द स्वीकृति दिये जाने तथा नैनीसेनी हवाई पट्टी के विस्तार की उन्होंने जरूरत बतायी। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में उड़ान के तहत देहरादून -श्रीनगर-देहरादून, देहरादून- गौचर- देहरादून, हल्द्वानी-हरिद्वार हल्द्वानी, पंतनगर-पिथौरागढ़-पंतनगर, चिन्यालीसौड़ – सहस्त्रधारा-चिन्यालीयौड़, गौचर-सहस्त्रधारा -गौचर, हल्द्वानी -धारचूला- हल्द्वानी तथा गौचर – सहस्त्रधारा – गौचर हेली सेवाओं को स्वीकृति प्रदान की गई है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड के लिए जो 13 हेलीपोर्ट चिन्हित किये गये हैं, उनमें से 11 की डीपीआर तैयार हो चुकी है।
उन्होंने कहा कि देहरादून-पिथौरागढ़ हेली सेवा शुरू होने से सीमान्त क्षेत्र पिथौरागढ़ के विकास के लिए यह मील का पत्थर साबित होगा। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के मार्गदर्शन एवं केन्द्र सरकार के सहयोग से राज्य में कनेक्टिविटी के क्षेत्र में तेजी से विकास हो रहा है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि जी.एस.टी. क्षतिपूर्ति दिये जाने की अवधि जून 2022 में समाप्त हो रही है, राज्य की आर्थिक स्थिति की मजबूती के लिये जी.एस.टी कन्सेसन की अवधि को बढ़ाया जाना राज्य हित में है। इस सम्बन्ध में आवश्यक सहयोग का अनुरोध भी मुख्यमंत्री ने किया है।
इस अवसर पर मुख्य सचिव डॉ. एस.एस. सन्धु, अपर मुख्य सचिव श्री आनन्द बर्द्धन, सचिव श्री दिलीप जावलकर, विशेष सचिव मुख्यमंत्री डॉ. पराग मधुकर धकाते, प्रधानमंत्री कार्यालय के उप सचिव श्री मंगेश घिल्डियाल भी उपस्थित थे

————————————————

लोकायुक्त कार्यालय पर जड़ा ताला। समर्थन में उक्रांद

लोकायुक्त की नियुक्ति करने की मांग को लेकर देहरादून में लोकायुक्त कार्यालय के बाहर धरने पर बैठे आंदोलनकारियों ने आज लोकायुक्त कार्यालय पर तालाबंदी कर दी।

उत्तराखंड क्रांति दल के कार्यकर्ताओं ने तालाबंदी के समर्थन में कार्यालय के बाहर धरना प्रदर्शन किया और नारेबाजी की।

लोकायुक्त अभियान के नेता परमानंद बलोदी और सुमन बडोनी 17 सितंबर से लोकायुक्त की मांग को लेकर धरने पर बैठे हैं। इससे पहले यह दोनों एकता विहार स्थित धरना स्थल पर 56 दिन तक आंदोलन कर चुके हैं।

उत्तराखंड क्रांति दल के नेता शिव प्रसाद सेमवाल ने कहा कि दिल्ली वाले दलों की मनसा लोकायुक्त बनाने की नहीं है। सेमवाल ने कहा कि भाजपा सौ दिन में लोकायुक्त बनाने का वादा करके सत्ता में आई थी लेकिन अभी तक इस दिशा में कोई काम नहीं हुआ।

उत्तराखंड क्रांति दल के जिलाध्यक्ष परवादून संजय डोभाल ने कहा कि सरकार खुद ही भ्रष्टाचार में डूबी हुई है, इसलिए डर के मारे  लोकायुक्त नहीं बनाना चाहती। कांग्रेस ने भी लोकायुक्त की फाइल दबा कर रखी।

लोकायुक्त अभियान के संयोजक सुमन बडोनी ने कहा कि वे सर पर कफन बांध कर धरने पर बैठे हैं। अगले चरण में आमरण अनशन शुरू किया जाएगा।

लोकायुक्त के गठन करने की मांग को लेकर चल रहे इस आंदोलन को अब तक कई जन संगठनों का समर्थन मिल चुका है। आज इस आंदोलन को अपना समर्थन देने वालों में उत्तराखंड क्रांति दल के जिला अध्यक्ष संजय डोभाल, वरिष्ठ  उपाध्यक्ष धर्मवीर गुसाईं, वरिष्ठ यूकेडी नेत्री मीनाक्षी घिल्डियाल, नगर उपाध्यक्ष राकेश तोपवाल,  प्रमोद डोभाल आदि पदाधिकारी और कार्यकर्ता शामिल थे।

——————————————-

आमजन लोगों की समस्याओं का निस्तारण हेतु श्रीनगर अदिति वेडिंग प्वाइंट में आज बहुउद्देश्यीय शिविर का आयोजन किया गया। जिससे विभिन्न विभागों द्वारा स्टाल लगाकर लोगों  लाभान्वित किया गया, साथ ही लोगों को विभागों में संचालित योजनाओं की जानकारी भी दी गई एवं उनकी समस्याओं को भी प्राप्त करते हुए निस्तारण किया गया, आयोजित शिविर में  करीब 65 शिकायत आए जिनमें से अधिकांश शिकायतों का मौके पर ही निस्तारण किया गया, बहुउद्देश्यीय शिविर में प्रदेश के चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा, उच्च शिक्षा, सहकारिता, प्रोटोकॉल, आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने मुख्य अतिथि के रूप में प्रतिभाग किया।  आयोजित शिविर का विधिवत शुभारंभ किया गया, जिलाधिकारी डॉ. विजय कुमार जोगदण्डे, मुख्य विकास अधिकारी प्रशान्त कुमार आर्य व जनप्रतिनिधि आदि गणमान्य ने भी प्रतिभाग किया। इस दौरान मंत्री ने किसानों को कृषि यंत्र तथा गर्भवती महिलाओं को वैष्णवी किट, पोषण किट वितरित किया।
आयोजित शिविर को संबोधित करते हुए माननीय मंत्री डॉ रावत ने कहा कि आमजन लोगों की समस्याओं के लिए शिविर का आयोजन किया गया। जिससे लोगों की समस्याओं का मौके पर निस्तारण किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि जनपद के हर ब्लॉक स्तर पर भी बहुउद्देश्यीय शिविरों का आयोजन किया जाएगा, जिससे लोगों को मुख्यालय के चक्कर नही काटने पड़ेंगे। साथ ही कहा कि पंचायत स्तर पर कैम्प लगाकर आधार कार्ड बनाये जाएंगे। मंत्री ने कहा कि जनदप गढ़वाल में 93 प्रतिशत तथा प्रदेशभर में 65 दिनों में 66 लाख लोगों ने टीकाकरण किया। कहा कि दिसम्बर माह तक शतप्रतिशत टीकाकरण किया जाएगा, उन्होंने आमजनमानस को अधिक से अधिक संख्या में टीकाकरण तथा अन्य लोगों को जागरूक करने की बात कही। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार लगातार जनता की हितों में कार्य कर रही है।
मा. मंत्री डॉ. रावत ने कहा कि जब तक लोगों की समस्याओं का निस्तारण नहीं किया जाता है तब तक निरंतर रूप से शिविरों का आयोजन किया जाएगा। आयोजित शिविर में विद्युत, पेयजल, रेलवे, सड़क, बंदरों का आतंक सहित अन्य समस्याएं स्थानीय लोगों द्वारा मंत्री के समुख रखी गयी। माननीय मंत्री ने डीएफओ को निर्देशित किया कि बंदरों से निजात पाने हेतु पिंजरा लगाना सुनिश्चित करें। साथ ही उन्होंने कहा कि नगर निगम की लॉन्चिंग तथा धारी देवी मंदिर का उद्घाटन जल्द किया जाएगा। कहा कि श्रीनगर नगर पालिका को नगर निगम घोषित होने पर विकास कार्यों में तेजी आएगी। जिससे स्थानीय लोगों को काफी फायदा मिलेगा। कहा कि मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में सरकार बेहतर कार्य करने जा रही है तथा श्रीनगर अस्पताल से अब कोई भी मरीज रेफर होकर बाहर अस्पतालों में नही जा रहे हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि खुशियों की सवारी गर्भवती महिलाओं की जांच करवाने तथा जच्चा-बच्चा को लाने लेजाने का कार्य करेगी। उन्होंने कहा कि जल्द ही श्रीनगर से हैली सेवा शुभारंभ की जाएगी जबकि किराए काफी कम होगी जिससे लोगों को काफी फायदा मिलेगा,
माननीय मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने कहा कि श्रीनगर में आयोजित बहुउद्देशीय शिविर में 18 विभागों ने प्रतिभाग किया। मा0  मंत्री  ने जिलाधिकारी को निर्देशित किया कि जनपद के प्रत्येक ब्लॉक व प्रत्येक नगरीय क्षेत्र में 15-30 दिनों के अंदर इस तरह के बहुउद्देश्य शिविरों का आयोजन करें। माननीय मंत्री  ने कहा कि आगामी 3 तारीख को रेलवे प्रभावित गांवों की समस्या के निस्तारण के लिए ग्रामीणों, राजस्व सचिव व कमिश्नर के साथ संयुक्त बैठक कर ग्रामीणों की समस्या का समाधान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि श्रीनगर को नगर निगम बनाया जाना एक ऐतिहासिक निर्णय हैं, श्रीनगर वर्तमान में शिक्षा और चिकित्सा का केंद्र बन गया है। नगर निगम बनने के बाद श्रीनगर के विकास में तेजी आयेगी। नगर निगम बनने के बाद श्रीनगर के स्थानीय निवासियों ओर कर्मचारियों को फायदा मिलेगा। साथ ही श्रीनगर नगर निगम बनने से 300 पर्यावरण मित्रों की संख्या होगी। साथ ही कर्मचारियों के वेतन में भी इजाफा होगा कहा कि श्रीनगर उत्तराखंड का पहला पर्वतीय नगर निगम होगा। कहा कि उड़ान योजना के अंतर्गत उत्तराखंड के कई स्थानों पर हेली सेवा प्रारंभ की गई है, इसमें श्रीनगर में भी हेली सेवा प्रारंभ की जा रही है, जिससे स्थानीय निवासियों को फायदा मिलेगा। साथ ही  उन्होंने कहा कि पेशावर  काण्ड के नायक वीर चंद्र सिंह गढ़वाली की पुण्यतिथि पर उनके गांव में बनाए गये भव्य स्मारक का लोकार्पण देश के माननीय रक्षा मंत्री, रक्षा राज्य मंत्री, प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री, प्रदेश के सांसद, मंत्री व जनपद के सभी विधायक उपस्थित रहेंगे।
जिलाधिकारी गढ़वाल डॉ विजय कुमार जोगदण्डे ने कहा कि आयोजित बहुउद्देशीय शिविर में विभागों द्वारा लगभग 20 स्टाल लगाए गए थे। विभागों के पास 60 से अधिक शिकायतें आयी, जिनमें से अधिकतर शिकायतों का निस्तारण मौके पर ही किया गया। जबकि कुछ विभागों से सबंधित शिकायतें उन्हें प्रेषित कर निर्देशित किया गया है कि शिकायतों शीघ्र निस्तारण करें। जिलाधिकारी ने बताया कि आयोजित  बहुउद्देशीय शिविर में 31 लोगों को कोविड-19 वेक्सीन लगाई गयी। 35 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। उद्यान विभाग के द्वारा 16 लाभार्थियों का पंजीकरण, आधार कार्ड के स्टॉल पर 20 लोगों का पंजीकरण, वैष्णवी पोषण किट का लाभ 80 परिवारों के बालक बालिकाओं तथा 26 लोगों ने कृषि यंत्र तथा 78 लोगों ने पशुपालन विभाग में पंजीकरण कराया। शिविर में कुल 380 लाभार्थियों को लाभान्वित किया गया। जिलाधिकारी ने सभी विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया कि शिकायतों का तत्काल निस्तारण करें व संबंधित शिकायतकर्ता को भी जानकारी उपलब्ध कराएं। कहा कि इस तरह के शिविर सभी विकास खंडों में आयोजित किये जाएंगे, जिससे आम जनमानस की समस्याओं का समाधान किया जा सकेगा।
इस अवसर जिलाध्यक्ष भाजपा सम्पत सिंह रावत, दर्जाधारी मंत्री अतर सिंह असवाल, मुख्य विकास अधिकारी प्रशांत कुमार आर्य, पूर्व नगर पालिकाध्यक्ष राजेन्द्र प्रसाद टम्टा, विधायक प्रतिनिधि जय सिंह भंडारी, उपजिलाधिकारी अजयवीर सिंह, डीएफओ गढ़वाल मुकेश कुमार, जिला विकास अधिकारी वेद प्रकाश, पीडी संजीव कुमार रॉय, सीएमओ डॉ. मनोज शर्मा, एसीएमओ डॉ. जीएस तालियान, ब्लॉक प्रमुख खिर्सू भवानी गायत्री, वन क्षेत्राधिकारी अनिल भट्ट, सेवायोजन अधिकारी मुकेश रयाल, मीडिया प्रभारी गणेश भट्ट सहित अनुगृह मिश्र, विनीत पोस्ती, सुधीर जोशी आदि उपस्थित थे।
आयोजित शिविर के उपरांत मा0 मंत्री0 डॉ धन सिंह रावत  उपजिला चिकित्सा श्रीनगर  में  पहुंचे जहां उन्होंने दीन दयाल उपाध्याय की जयंती के अवसर पर अस्पताल में भर्ती मरीजों को फल वितरित कर उनका हालचाल जाना। इस अवसर पर भाजपा जिला अध्यक्ष संपत्ति है रावत सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.