प्रदेश के कृषि मंत्री सुबोध उनियाल ने विभागीय समीक्षा बैठक की।#प्रदेश के वन एवं पर्यावरण तथा ऊर्जा मंत्री ने विधान सभा कक्ष में विधायक देवप्रयाग व श्रीनगर जल विद्युत परियोजना के कार्यदायी संस्था जीवीके कम्पनी के प्रतिनिधि के साथ प्रभावित ग्रामीणों के हितार्थ समीक्षा बैठक आयोजित की।#स्वरोजगार योजना शिविर लगा रिखणीखाल में।-Janswar.com

-अरुणाभ रतूड़ी

 

प्रदेश के कृषि, एवं कृषक कल्याण मंत्री सुबोध उनियाल ने विधान सभा कक्ष में में विभागीय समीक्षा बैठक की।

बैठक में मा. मंत्री ने कृषि और उद्यान विभाग के कार्यो में तेजी लाने का निर्देश दिया। उन्होने इससे सम्बन्धित विभिन्न अधिनियम, अध्यादेश और सेवा नियमावली पर होमवर्क करने का निर्देश देते हुए कहा कि अवश्यकतानुसार इसे कैबिनेट में लाया जाय। बैठक में बताया गया कि उद्यान सहायक (माली) केन्द्र गजा की स्थापना से सम्बन्धित बाधायें दूर कर ली गई, इसके सम्बन्ध में शीध्र ही मुख्य सचिव की अध्यक्षता में बैठक की जायेगी।

उद्यान विभाग के अन्तर्गत राजकीय उद्यानों की हस्तान्तरण की क्रमिक प्रगति की जानकारी ली गई। मधुग्राम स्थापना, पीएमएफएमई के तहत प्रोसिसिंग यूनिट स्थापना का रिब्यू एवं राज्य की खाद्य प्रसंस्करण नीति,  मुख्यमंत्री मशरूम विकास योजना, लॉगी इस्टेट (मसूरी) परिसर के स्वामित्व हस्तानान्तरण, नाबार्ड वित्त पोषित/सहायतित के अन्तर्गत ड्रीप उद्यान/कोल्ड रूम निर्माण के सम्बन्ध में तथा नर्सरी एक्ट आदि के सम्बन्ध में विभागीय अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये गये।

इस अवसर पर सचिव आर. मीनाक्षी सुन्दरम, अपर सचिव राम विलास यादव, निदेशक उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण हरविन्दर सिंह बावेजा, निदेशक कृषि गौरी शंकर मिश्रा, सहित अन्य विभागीय अधिकारी मौजूद थे।


प्रदेश के वन एवं पर्यावरण तथा ऊर्जा मंत्री डॉ0 हरक सिंह रावत ने विधान सभा कक्ष में विधायक देवप्रयाग श्री विनोद कण्डारी तथा श्रीनगर जल विद्युत परियोजना के कार्यदायी संस्था जीवीके कम्पनी के प्रतिनिधि के साथ द्वारा गॉव वासियों की समस्याओं के निराकरण के लिए समीक्षा बैठक आयोजित की गई।

मा0 मंत्री द्वारा कम्पनी से निकाले गये 90 कार्मिकों को पुनः समायोजित करने अथवा वन टाईम सेटेलमेन्ट के लिए एक कमेटी का गठन करने का निर्देश दिया। डीएम टिहरी की अध्यक्षता में कमेटी बनाने तथा इस कमेटी में पर्यावरण बोर्ड के प्रतिनिधि, श्रमायुक्त और जेवीके कम्पनी के प्रतिनिधि भी शामिल रहेंगे। यह कमेटी 15 दिनांे में इससे सम्बन्धित समस्याओं के समाधान के लिए ठोस प्रस्ताव देगी। इस प्रस्ताव पर सरकार अपनी निर्णय लेगी। इसके अलावा इस क्षेत्र में बनाए गये अधूरे सड़क का निर्माण, लाईट का प्रबन्ध और लीकेज ठीक करने के लिए इत्यादि क्षेत्रीय समस्याओं के निराकरण के लिए 15 नवम्बर 2021 तक का समय दिया गया।

मा0 विधायक श्री विनोद कण्डारी द्वारा मा0 मंत्री को अवगत कराया कि श्रीनगर जल विद्युत परियोजना के कार्यदायी सस्था जीवीके कम्पनी को जमीन देने के बावजूद भी कम्पनी द्वारा गॉववासियों के रोजगार छीन लिये गये है। कम्पनी द्वारा बिना नोटिस दिये बगैर, 90 कार्मिको को बिना कारण के हटा दिया गया है। जिससे उक्त कार्मिकों को परिवार के भरण पोषण में कठिनाई उत्पन्न हो गई है।  मा0 विधायक देवप्रयाग बिनोद कण्डारी द्वारा मा0 मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत से विस्तार चर्चा करते हुए उक्त समस्याओं के निराकरण किये जाने हेतु मा0 मंत्री से अनुरोध किया।

इस अवसर पर बैठक में सचिव ऊर्जा श्रीमंत सौजन्या, जिलाधिकारी टिहरी श्रीमंती ईवा श्रीवास्तव, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के निदेशक श्री सुबुद्धि जी सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

—————————————————-
प्रदेश के बेरोजगार युवाओ को स्वरोजगार से जोड़ने हेतु जनपद के विकास खण्ड परिसर रिखणीखाल में आज मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना शिविर आयोजन किया गया। शिविर में 30 अभ्यर्थियों का पंजीकरण किया गया, जिसमें से एमएसवाई के अन्तर्गत 15 अभ्यर्थियों ने, पीएमईजीपी के अन्तर्गत 05 अभ्यर्थियों तथा होम स्टे के अन्तर्गत 01 अभ्यर्थी ने पंजीकरण करवाया, जबकि 09 ने अन्य जन कल्याणकारी योजना के लिए पंजीकरण करवाया। शिविर में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत गठित 14 स्वयं सहायता समूह के सीसीएल आवेदन पत्रों का निस्तारण भी किया गया।
शिविर में जनपद के विभिन्न रेखीय विभागों द्वारा अपने-अपने विभागीय योजनाओं की जानकारी दी गई। सरकार द्वारा विभिन्न जनपदों में संचालित विभिन्न रोजगारपरक योजनाओं से उन्हें लाभान्वित करने के उद्देश्य से बेरोजगार युवाओं को अपना स्वरोजगार शुरू करने के लिए ऋण उपलब्ध कराया जा रहा हैं। शिविर में कृषि विभाग द्वारा पीएम किसान सम्मान निधि, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना आदि योजनाओं के बारे में जानकारी दी गई। जबकि पर्यटन विभाग द्वारा वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली पर्यटन स्वरोजगार योजना तथा दीनदयाल उपाध्याय होम स्टे योजना के बारे में जानकारी देते हुए अधिक से अधिक संख्या में इन योजनाओं लाभ उठाकर अपनी आर्थिकी मजबूत करने की बात कही। उद्योग विभाग द्वारा मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना, प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना की जानकारी दी गई। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना रोजगार सृजन की दृष्टि से यह एक महत्वपूर्ण योजना है, जिसके अन्तर्गत 18 वर्ष से अधिक आयु का कोई भी व्यक्ति सेवा क्षेत्र/व्यवसाय क्षेत्र व विनिर्माण क्षेत्र के उद्यमों हेतु कमशः रू0 10.00 लाख तथा रू० 25.00 लाख का ऋण बैंकों के माध्यम से प्राप्त कर सकता है।
इस अवसर पर जिला पर्यटन एवं विकास अधिकारी खुशाल सिंह नेगी, खण्ड विकास अधिकारी एस.पी. थपलियाल, प्रमुख रिखणीखाल दीपक भण्डारी, ग्राम प्रधान राजपाल सिंह सहित कृषि एवं भूमि संरक्षण अधिकारी धूमाकोट, एसबीआई देवीयोखाल, प्रबन्धक डीसीबी रिखणीखल सहित संबंधित अधिकारी एवं आवेदक उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.