पिनानी के ग्रामीणों ने राज्यपाल सहित गणमान्यों का पारंपरिक स्वागत किया।##एम्स में वर्ल्ड कांग्रेस ऑन क्रोनोमेडिसिन, उत्तराखंड कॉर्डियब कॉन कांफ्रेंस- 2019प्रारंभ। ##पुलिस व जिला प्रशासन आपसी तालमेल से काम कर दुर्घटना पर रोक लगाये-जिलाधिकारी।

शनिवार को प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य, मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री, डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक‘ के पैतृक गांव पिनानी पहुंचे। पिनानी में ग्रामीणों ने सभी अतिथियों का वाद्य यंत्र एवं फूल मालाओं से स्वागत किया। इस दौरान डॉ. निशंक द्वारा अपने गांव पिनानी में बनाये गए घर की विधिवत पूजा अर्चना के बाद अपने परिजनों के साथ गृह प्रवेश किया।
इस अवसर पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष /सांसद अजय भट्ट, सांसद तीरथ सिंह रावत, सहकारिता, प्रोटोकॉल, दुग्ध विकास एवं उच्च शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. धन सिंह रावत, अपर मुख्य सचिव ओम प्रकाश सहित भाजपा पदाधिकारी राजेन्द्र अंथ्वाल, राजेन्द्र प्रसाद टम्टा, नरेन्द्र रावत, बालकृष्ण चमोली, चण्डी प्रसाद पोखरियाल एवं अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने कार्यक्रम में शामिल होकर ग्राम वासियों के साथ सहभोज भी किया।
……………………..

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में मेडिसिन विभाग के तत्वावधान में दो दिवसीय वर्ल्ड कांग्रेस ऑन क्रोनोमेडिसिन, उत्तराखंड कॉर्डियब कॉन कांफ्रेंस- 2019 शनिवार को विधिवत संपन्न हो गई। जिसमें विशेषज्ञ चिकित्सकों ने अपने अनुसंधान व अध्ययन पर आधारित प्रयोगों पर चर्चा की। इस अवसर पर एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने संस्थान में आयोजित राष्ट्रीय सम्मेलन की सराहना की। उन्होंने कहा कि कैंसर की दवाइयां कोशिका चक्र पर आधारित हैं। कैंसर कीमोथैरेपी का असर विभिन्न कोशिका चक्र की फेस पर होता है। इस मौके पर एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने इस बात पर जोर दिया कि अधिक से अधिक साइंटिफिक पेपर क्रोनोमेडिसिन विषय में तैयार किए जाएं,जिससे मेडिकल के क्षेत्र में उचित स्तर पर कामयाबी मिल सके। कांफ्रेंस में निदेशक एम्स प्रो. रवि कांत ने न्यूरोफिजियोलॉजी के प्रो. बी.एस. शंकरनारायण राव को श्यामा कृष्णा मैमोरियल ओरेशन अवार्ड से सम्मानित किया। इस अवसर पर प्रो. राव ने बताया कि उन्होंने कई प्रयोगों व अध्ययन से सिद्ध किया है कि दुनिया में आने वाले अवसाद (डिप्रेशन) व तनाव( स्ट्रेस ) का दिमाग के किसी विशेष भाग पर बहुत बड़ा दुष्प्रभाव डालता है, उन्होंने इसी प्रयोग का अध्ययन चूहों पर भी किया और पाया कि दिमाग की विशेष तंत्रिकाओं पर अवसाद व तनाव का प्रभाव पड़ता है। सम्मेलन में 1300 से अधिक रिसर्च पेपर प्रकाशन कराने वाले डा. आर.बी. सिंह ने बताया कि दिनचर्या व व्यवहार का प्रभाव दिमाग के रास नामक विशेष हिस्से पर पड़ता है, जो कि उच्चरक्तचाप का कारण है। इस दौरान उन्होंने कई स्लाइड के माध्यम से मैटाबोलिक सिंड्रोम में नींद की गुणवत्ता की भूमिका, दिमागी तनाव, खाने का समय व शरीर का वजन आदि विषयों पर भी प्रकाश डाला। इस अवसर पर एम्स ऋषिकेश की बायो कैमिस्ट्री विभागाध्यक्ष डा. अनीसा आतिफ मिर्जा, डा. जेके शर्मा,डा. मीनल मोहित,डा. शिप्रा भारद्वाज, डा. अनिल गंगवार,डा. गौरव शेखर शर्मा,डा. संतोष,डा. सुनिल सैनी, डा. सुनीता मित्तल,डा. गुंजन त्रिवेदी, डा. मनीष गोयल आदि ने भी व्याख्यान दिया। कांफ्रेंस में आयोजन समिति की अध्यक्ष डा. मीनाक्षी धर,आयोजन सचिव डा. रविकांत,डा. मोनिका पठानिया,डा. राजेश पसरीचा,डा. राजेश काथरोटिया,डा.अनुपमा बहादुर,डा. मुकेश बैरवा,डा. महेंद्र कुमार मीणा,डा. मोहित गर्ग, डा. दिव्यांशी शर्मा,पीएचडी स्कॉलर हीना उसमानी,डाइबिटिक एजुकेटर पंकज आदि ने सहयोग प्रदान किया।
————————–
जिलाधिकारी ने पुलिस व जिला प्रशासन को आपसी तालमेलकर दुर्घटना रोकने के निर्देश दिए
हल्द्वानी – वाहन दुर्घटनाओं पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए पुलिस तथा जिला प्रशासन आपसी तालमेल से जनपद की यातायात व्यवस्था को सुदृढ़ करना सुनिश्चित करें। यह बात जिलाधिकारी श्री सविन बंसल ने सड़क सुरक्षा तथा शहर की यातायात व्यवस्था की समीक्षा करते हुए कही।
श्री बंसल ने निर्देशित करते हुए कहा कि वाहन दुर्घटनाओं के कारण होने वाली अकाल मृत्यु एवं अन्य हानियों पर अंकुश लगाने के लिए यातायात के नियमों का पालन न करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ सख्ती से अभियान चलाना सुनिश्चित करें तथा वाहन सीज करने के साथ ही नियमानुसार सम्बन्धितों का लाईसेंस भी निरस्त करने की प्रबल संस्तुति करें। उन्होंने एआरटीओ को निर्देशित करते हुए कहा कि सड़कों के अनुसार ऑटो पर कलर कोडिंग कराना सुनिश्चित करें ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि ऑटो सम्बन्धित रोड पर ही चलाया जा रहा है। मण्डी गेट के पास से ट्रांसफार्मर हटाने के लिए विद्युत विभाग से पत्राचार करने के निर्देश आआरटीओ को दिए। श्री बंसल ने सुशीला तिवारी अस्पताल के सामने वन भूमि हस्तान्तरण का प्रस्ताव 15 दिन के भीतर ऑनलाईन करने के निर्देश अधिशासी अभियंता लोनिवि को दिए।
शहर की यातायात व्यवस्था को सुव्यवस्थित बनाने तथा जाम की स्थिति न उत्पन्न हो इसके लिए पुलिस विभाग द्वारा सुझाव दिये कि रेलवे बाजार के पास ट्रायल बेस पर बेरीकेटिंग की जाए, वर्कशाॅप लाईन में बनी दुकानों/शेड्स की जाॅच की जाए तथा डिवाईडर लगाए जाए, दवलचैड़ में रेडलाईट लगाने का प्रस्ताव दिया जाए, गैस गौदाम चैराहे पर बिछी जालियों को पाट दिया जाए, कुसुमखेड़ा तिराहे के पास लगे विद्युत पोल को अन्यत्र शिफ्ट किया जाए। अल्मोड़ा अर्बन काॅ-आॅपरेटिव बैंक के पास डिवाईडर की लम्बाई बढ़ाई जाए, नैनीताल जाने वालों के लिए तीनपानी-गोलाबाईपास रास्ते को हाईलाईट किया जाए, मंगल पड़ाव में रोड डिवाईडर लगाने, कालू शाही मंदिर के सामने डिवाईडर पर रेलिंग लगाई जाए।
बैठक में एआरटीओ गुरदेव सिंह ने बताया कि विगत वर्ष की तुलना में वाहन दुर्घटना में 75 के सापेक्ष 71 व्यक्तियों की अकाल मृत्यु हुई है। उन्होंने बताया कि रेडलाईट जम्पिंग, ओवर लोडिंग, ओवर स्पीडिंग, मोबाईल पर बात करना, भार वाहन में यात्री ढोना, नशे की हालत में वाहन चलाने में माह सितम्बर में कुल 1489 चालान के साथ ही 957 डीएल एवं परमिट निरस्तीकरण की कार्यवाही की गई है। बिना सीट बेल्ट वाहन चलाने में 250 तथा बिना हैलमेट के दुपहिया वाहन चलाने में 4399 चालान काटे गए हैं।
बैठक में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार मीणा, एसपी सिटी अमित श्रीवास्तव, एसपी रचिता जुयाल, अपर जिलाधिकारी एसएस जंगपांगी, मुख्य नगर आयुक्त सीएस मर्तोलिया, सचिव जिला विकास प्राधिकरण पंकज उपाध्याय सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.