पंचायती राज एक्ट संशोधित बिल में अलग अलग शैक्षिक योग्यता समझ से परे-एन0के0गुसाईं।स्वामीसत्यमित्रानन्द गिरि को अनेक लोगों ने श्रद्धांजली दी।

पंचायती राज एक्ट संशोधित बिल में अलग अलग शैक्षिक योग्यता समझ से परे।

प्रस्तुति-नागेन्द्र प्रसाद रतूड़ी

उत्तराखंड क्रांति दल के पूर्व केन्द्रीय उपाध्यक्ष एडवोकेट एन के गुसाईं ने राज्य की विधानसभा में बिना चर्चा के पंचायती राज एक्ट संशोधित बिल के पास होने को आधा अधूरा करार दिया ।कहा कि यदि सरकार इस संशोधन विधेयक को सदन में चर्चा से पहले सर्वदलीय बैठक बुलाकर इस पर चर्चा करवाती।सामान्य वर्ग के लिए अलग व महिला तथा एस सी एस टी के लिए अलग शैक्षिक योग्यता को भी समझ से परे बताया, कहा कि क्या सामान्य वर्ग का अधिक पढा लिखा व्यक्ति महिला तथा एस सी एस टी वर्ग के कम पढ़े लिखे व्यक्ति का मानसिक स्तर बराबर होता है ? गुसाईं ने कहा कि सरकार को पंचायत चुनाव लड़ने हेतु महिला, एस-सी, एस टी व सामान्य वर्ग सहित सभी के लिए समान न्यूनतम शैक्षिक योग्यता द्वितीय श्रेणी के साथ इण्टरमीडिएट रखनी चाहिए थी और ब्लाक प्रमुख व जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए स्नातक।
उन्होंने विपक्ष के नियम 310 में मुख्यमंत्री के करीबियों के स्टिंग पर चर्चा की माँग का समर्थन किया।कहा कि जीरो टाॅलरेंस केवल शब्दों में ही नहीं अपितु आम जनता को धरातल पर भी दिखना चाहिए।
इससे पूर्व श्री गुसाईं ने दल की ओर से
संत सत्यमित्रानंद महाराज को श्रद्धांजलि अर्पित की।
शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय के पुत्र अंकुर पांडेय के आकस्मिक निधन पर भी गहरा दुःख जताया।
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

भारत माता जनहित ट्रस्ट के संस्थापक पद्मभूषण ब्रहमलीन स्वामी सत्यमित्रानन्द गिरि को भारत माता ट्रस्ट राघव कुटीर हरीपुर कला हरिद्वार में  बुधवार को बडी संख्या में संत समाज, देश विदेश से आए उनके अनुयायियों नें उन्हें श्रद्धांजली अर्पित की। 
ब्रहमलीन स्वामी सत्यमित्रानन्द गिरि को देश के रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह, केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री डा. रमेश पोखरियाल निशंक, राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य, विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेमचन्द अग्रवाल, मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ, ने उन्हें श्रद्धांजली दी। 
ब्रहमलीन स्वामी सत्यमित्रानन्द गिरि को श्रद्धांजली देते हुए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि स्वामी सत्यमित्रानन्द गिरी जी महाराज ने पूरे विश्व में ज्ञान, धर्म व आध्यात्म की पताका फहराकर सनातन संस्कृति के प्रसार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनका जीवन जनकल्याण के लिए समर्पित रहा है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हरिद्वार में उनके द्वारा स्थापित भारत माता मन्दिर उनके देश प्रेम, सैन्य व सन्त परम्परा के सम्मान के साथ ही देश के आध्यात्मिक, सामाजिक व सांस्कृतिक विरासत से भावी पीढ़ी को अपनी समृद्ध विरासत से जोड़ने में निश्चित रूप से मददगार रहेगा। यह मन्दिर उनकी स्मृतियों को भी चिरस्थायी बनाये रखेगा। 
केबीनेट मंत्री श्री सतपाल महाराज, श्री मदन कौशिक, मेयर श्रीमती अनीता शर्मा, सांसद एवं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री अजय भट्ट, पूर्व मुख्यमंत्री श्री भगत सिंह कोश्यारी, स्वामी रामदेव, आचार्य बालकृष्ण, ने भी महन्त स्वामी सत्यमित्रा नन्द  गिरि को श्रंदाजली अर्पित की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.