देश एवं प्रदेश वासी आजादी के अमृत महोत्सव के इस पर्व में बढ़-चढ़कर हिस्सा लें-राज्यपाल #राज्यपाल ने किया वीरता पुरस्कार विजेताओं का सम्मान# मुख्यमंत्री ने सीमांत गांव मंच में हर घर तिरंगा अभियान में शामिल हुए # एम्स ऋषिकेश में हुई आज प्रभात फेरी#रोडवेज में आउटसोर्सिंग भर्तियों पर यूकेडी मुखर।सौंपा ज्ञापन

 

राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने शनिवार से शुरू हुए “हर घर तिरंगा“ अभियान की सभी प्रदेश एवं देशवासियों को शुभकामनाएं दी हैं।

राज्यपाल ने कहा कि यह अभियान राष्ट्र के प्रति एक ऐसी उमंग को प्रदर्शित करता है जो हमें हर एक देशवासी को एक डोर में बांधता है। उन्होंने कहा कि तिरंगे को देखते ही राष्ट्र निर्माण और राष्ट्र को लेकर दिए जाने वाले योगदान की याद आती है।

राज्यपाल ने कहा कि तिरंगा हमको समरसता, समृद्धि, खुशहाली और सुरक्षा के लिए प्रेरित करता है। राज्यपाल ने कहा की यह लोक महत्व का एक ऐसा अभियान है जो हमारी उत्साह, उमंग, प्रेरणा को एक डोर से जोड़ता है। उन्होंने देश एवं प्रदेश वासियों से आजादी के अमृत महोत्सव के इस पर्व में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने की अपील की है।

******

राज्यपाल ने किया वीरता पुरस्कार विजेताओं का सम्मान

पूर्व सैनिकों और वीरांगनाओं का डाटा बेस करें तैयार- राज्यपाल

राजभवन देहरादून 13 अगस्त, 2022

राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने शनिवार को RIMC देहरादून में उत्तराखण्ड सब एरिया मुख्यालय द्वारा आयोजित वीरता पुरस्कार विजेता सम्मान समारोह में बतौर अतिथि प्रतिभाग कर शहीद सैनिकों के परिजनों व पूर्व सैनिकों को सम्मानित किया। इसके अलावा राज्यपाल ने छात्रों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का निरीक्षण किया और कार्यक्रम में मौजूद जवानों, छात्रों, शहीद सैनिकों के परिजनों व पूर्व सैनिकों से विस्तृत बातचीत भी की।

कार्यक्रम में संबोधन के दौरान राज्यप

लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने कहा कि आज का दिन बेहद भावुकता और गर्व का दिन है। उन्होंने कहा कि देश के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर करने वाले वीर योद्धाओं की वीरांगनाओं को देखकर मन वीरता और गर्व की अनुभूति हो रही है। उन्होंने कहा कि वीरांगनाओं का राष्ट्र निर्माण के लिए जो समर्पण है उसे कभी भुलाया नहीं जा सकता है।
राजपाल ने कहा कि वीर योद्धाओं को सम्मान देने में दिल से खुशी होती है, उन्होंने कहा कि सबसे बड़ी सौभाग्य की बात यह है कि यह कार्यक्रम ऐसे स्थान पर हो रहा है जिस स्थान से देश को पहला परमवीर चक्र विजेता हासिल वीर योद्धा निकाला है।

वीर भूमि है उत्तराखण्ड

राज्यपाल ने कहा कि उत्तराखण्ड वीरों की भूमि है और यह बड़े सौभाग्य की बात है कि आजादी के 75 वर्ष पूरे होने के मौके पर हम सब यहां मौजूद हैं। राज्यपाल ने कहा कि हमारा धर्म है कि हम वीरों के प्रति आभार, प्रशंसा और धन्यवाद ज्ञापित करें। राज्यपाल ने गलवान घाटी के घटनाक्रम का जिक्र करते हुए कहा कि गलवान घाटी में भारत के 20 वीर सपूतों ने अपना सर्वोच्च बलिदान दिया जोकि शौर्य, वीरता और पराक्रम को दर्शाता है। राज्यपाल ने कार्यक्रम के आयोजनकर्ताओं को बधाई देते हुए कहा कि आज़ादी के अमृत महोत्सव के मौक़े पर वीर जवानों व उनके परिजनों को सम्मानित करना प्रशंसनीय कार्य है।

राज्यपाल ने कहा कि हम सब पूर्व सैनिक के रूप में एक परिवार हैं, हमारा कर्तव्य है कि हम एक दूसरे की मदद करते रहें। उन्होंने कहा कि सेना, सैनिक और सैनिकों के परिवारजन मेरे सबसे अधिक करीब हैं और सर्वोच्च प्राथमिकता में हैं। उन्होंने कहा जीवन के चालीस वर्ष सेना में बिताये हैं, इसलिए सेना, सैनिक और सैनिकों के हर बात और जज्बातों से वे वाकिफ हैं, यही कारण है कि सेना, सैनिक और सैनिक परिवार को अपना अहम हिस्सा मानता हूँ।

पूर्व सैनिकों और वीरांगनाओं का डाटा बेस हो तैयार

राज्यपाल ने सब एरिया मुख्यालय के अधिकारियों को सुझाव देते हुए कहा कि उत्तराखंड सैनिक कल्याण बोर्ड की भांति वे भी सभी पूर्व सैनिक, वीरांगनाओं और शहीदों के परिजनों की जानकारी एकत्र कर एक डाटाबेस तैयार कर सकते हैं।
उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड सरकार द्वारा प्रदेश के सैनिकों एवं वीर नारियों के लिए विभिन्न कल्याणकारी योजनायें संचालित की जा रही हैं और सैनिकों के सम्मान को अत्यधिक महत्व दिया है।

इस दौरान उत्तराखण्ड सब एरिया मुख्यालय के डिप्टी जीओसी ब्रिगे. अनिरवान दत्ता, IMA कमांडेंट ले ज हरेन्दर सिंह, NCC के वरिष्ठ अधिकारी व RIMC के छात्र, पूर्व सैनिक एवं शहीद जवानों के परिजन मौजूद रहे।

*********

सीएम पुष्कर सिंह धामी सीमांत गांव मंच में हर घर तिरंगा अभियान में शामिल हुए

 


नेपाल सीमा पर मंच गांव पहुंचकर सीएम ने ग्रामीणों का हौसला बढ़ाया

हर घर तिरंगा कार्यक्रम को लेकर सीमांत गांवों  के निवासियों में जबरदस्त उत्साह और उमंग

तिरंगा हमारी आन बान  शान : मुख्यमंत्री धामी

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी 13 अगस्त से 15 अगस्त तक आयोजित  ’हर घर तिरंगा अभियान’ के तहत चंपावत जिले के दूरस्थ सीमांत क्षेत्र राजकीय इंटर कॉलेज मंच पहुंचकर तिरंगा अभियान में शामिल हुए।

बाबा गोरखनाथ की पूज्य भूमि से हर घर तिरंगा का दिया गया संदेश

सर्व प्रथम मुख्यमंत्री ने बाबा गोरखनाथ को दोनों हाथ जोड़कर शीश झुकाकर प्रणाम किया और कहा यह क्षेत्र, तल्लादेश का क्षेत्र, बाबा गोरखनाथ की भूमि वास्तव में बहुत पूज्य भूमि है और बाबा गोरखनाथ की कृपा से आपने मुझे उत्तराखंड प्रदेश की सेवा करने का अवसर दिया है, जिसके लिये मैं सदैव यहां की जनता का दिल से आभारी रहुंगा। उन्होंने कहा कि मेरे द्वारा घोषणा की थी कि मंच में उप तहसील का संचालन करेंगे और आज बाबा गोरखनाथ की कृपा से उप तहसील का संचालन शुरू हो गया है और हम कोशिश करेंगे उप तहसील का संचालन और प्रभावी तरीके से हो।

सीमांत क्षेत्रों के विकास के लिये सरकार दृढ़ संकल्पित

उन्होंने कहा कि यहां पर लोगों की सुविधाओं हेतु अस्पतालों में डाक्टरों की कोई कमी न हो जिसके लिए हमेशा प्रयास किया है और अभी अस्पतालों में डाक्टरों की तैनाती भी होने लगी है। उन्होंने कहा कि स्कूलों की व्यवस्था, संपर्क मार्गों, बिजली, कनैक्टिविटी की यहां जो भी दिक्कत है उसे पूरा करने के लिये प्रस्ताव दिये है और उन पर कार्य हो रहा है। यह मेरा संकल्प है कि आने वाले समय में यहां के लोगों को शिक्षा, स्वास्थ्य आदि की सुविधाओं में किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत न हो ईधर-उधर जाना न पड़े इसके लिए सरकार कार्य कर रही है, और आने वाले समय में यह सीमान्त क्षेत्र विकास की धाराओं में आयेगा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के आह्वान पर हर घर तिरंगा अभियान बना जन आंदोलन

भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के आहवाहन पर आज पूरे देश में आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि तिरंगा हमारी आन, बान और शान है इसलिए इसे घरों में प्रदर्शित करें। क्योंकि तिरंगा हमारा मान-सम्मान और स्वाभिमान है। इस तिरंगे के लिए, भारत की आजादी के लिए न जाने कितने लोगों ने अपना बलिदान दिया। यह अमृत महोत्सव उन सबको स्मरण करने का समय है। उन्होंने कहा कि आज से 25 साल बाद जब देश आजादी के 100 वर्ष मानायेगा तो इन 25 सालों के कालखण्ड को अमृत काल नाम दिया जायेगा।   उन्होंने  कहा कि वर्ष 2014 से इन 08 सालों में जो भी सरकार द्वारा योजनाएं चलायी जा रही हैं वह गरीबों के कल्याण एवं उत्थान के लिए चलायी जा रही हैं। उन्होंने कहा देश के गृहमंत्री जी से  इस सीमान्त क्षेत्र में विकास के लिए बजट की धनराशि बढ़ाने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा कि कनेक्टिविटी के लिए भारत सरकार को 1200 टावरों मिलने का प्रस्ताव गया है जिसे भारत सरकार ने स्वीकृती दे दी है।

स्थानीय महिलाओं ने सीएम को राखी बांध दीर्घायु की कामना की

मुख्यमंत्री ने रक्षाबंधन की सभी को बधाई दी और वहां उपस्थित महिलाओं ने मुख्यमंत्री को रक्षा धागा बांधा और उनके दीर्घायु की कामना की।

क्षेत्र के विकास के लिये मुख्यमंत्री ने महत्वपूर्ण घोषणाएं कीं

मुख्यमंत्री ने तामली मुख्य मोटर मार्ग से राजकीय इण्टर कालेज मंच में स्थाई हैलीपेड का निर्माण एवं सड़क का निर्माण, राजकीय इण्टर कालेज मंच में फील्ड का विस्तारिकरण, राजकीय इण्टर कालेज मंच में विज्ञान वर्ग की स्वीकृति प्रदान की जायेगी, राजकीय इण्टर कालेज मंच और तामली में एनसीसी की स्वीकृति की जायेगी, गोरखनाथ मंदिर गेट से सौराई भनार मॉ रणकुंची मंदिर क्षेत्र के लिए सड़क प्रस्तावित की जायेगी, तल्लादेश में दूर संचार की व्यवस्था हेतु जो भी जरूरी कदम है उठाये जायेंगे की घोषणा की ।

इस अवसर पर वन विकास निगम अध्यक्ष कैलाश चन्द्र गहतोड़ी, दलीप सिंह महर, दीपक महर, आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन कमल रावत ने किया।

********

एम्स ‌ऋषिकेश में  प्रभातफेरी का आयोजन किया गया।

आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत एम्स, ऋषिकेश में चल रहे कार्यक्रमों की श्रंखला में शनिवार को प्रभातफेरी का आयोजन किया गया। जिसमें एमबीबीएस, पैरामेडिकल व नर्सिंग छात्र-छात्राओं ने प्रतिभाग किया। देशभक्ति के जज्बे के साथ प्रभातफेरी में हाथों में तिरंगा लिए भारत माता की जय के उद्घोष के साथ विद्यार्थियों ने लोगों को देशप्रेम का संदेश दिया। आजादी के अमृत महोत्सव के तहत शनिवार को एम्स निदेशक प्रोफेसर डा. मीनू सिंह के मार्गदर्शन में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान परिसर में प्रभातफेरी का आयोजन किया गया। प्रभातफेरी एसआर- जेआर हॉस्टल से विधिवत शुरू हुई, इस दौरान देशभक्ति के जयघोष के साथ प्रभात फेरी संस्थान के रेसिडेंशियल कैंपस होते हुए निदेशक आवास पर संपन्न हुई।

*********

रोडवेज में आउटसोर्सिंग भर्तियों पर यूकेडी मुखर। सौंपा ज्ञापन

 

उत्तराखंड क्रांति दल ने चालक परिचालकों को आउटसोर्सिंग के माध्यम से तैनात किए जाने के विरोध में मुखर तेवर अपना लिए हैं।

सिटी मजिस्ट्रेट कुसुम चौहान के माध्यम से मुख्यमंत्री को उत्तराखंड क्रांति दल ने इस संबंध में एक ज्ञापन भी प्रेषित किया है।

उत्तराखंड क्रांति दल के केंद्रीय मीडिया प्रभारी शिव प्रसाद सेमवाल ने चालक और परिचालकों के पदों को विभागीय नियुक्ति अथवा सरकारी एजेंसियों से आउटसोर्स करने की मांग की है। उन्होंने इन पदों पर उत्तराखंड के ही निवासियों को भर्ती करने की मांग की है। चालक परिचालक जैसे पदों पर उत्तराखंड से बाहर के लोगों को भर्ती किए जाने पर उन्होंने आंदोलन की भी चेतावनी दी है।

उत्तराखंड क्रांति दल ने परिवहन विभाग में प्राइवेट एजेंसी के मार्फत आउटसोर्सिंग किए जाने पर आंदोलन की चेतावनी दी है।

यूकेडी नेता सेमवाल ने कहा कि आउटसोर्सिंग के  परिणाम स्वरुप लंबे समय से नियमित नियुक्ति की मांग कर रहे संविदा चालक परिचालकों का सपना टूट जाएगा।

इसके साथ ही यूकेडी नेता सेमवाल ने पहले मृतक आश्रितों को नियुक्त करने की मांग की है।

गौरतलब हैं कि  रोडवेज मे रुड़की की एक आउटसोर्स एजेंसी MKSSSS के संचालक शहजाद अहमद माध्यम से 589 ड्राइवर कंडक्टर की भर्ती होने जा रही है।

सेमवाल ने सवाल उठाया है कि उत्तराखंड मे UPNL, PRD और सेवायोजन विभाग जैसी सरकारी आउटसोर्सिंग एजेंसियों  के बावजूद ये भर्ती एक प्राइवेट आउटसोर्स एजेंसी के माध्यम से क्यों हो रही है !!

ड्राइवर कंडक्टर की हमेशा जरूरत है फिर इन पदों पर आउटसोर्सिग क्यों हो रही है !!

यूकेडी नेता राजेंद्र सिंह गुसाई ने कहा कि यह आउटसोर्सिंग एजेंसी एक नौसिखिया एजेंसी लगती है, इसकी वेबसाइट भी लागइन करने पर अंडर कंस्ट्रक्शन बता रही है। पहले भी परिवहन विभाग में प्राइवेट आउटसोर्सिंग एजेंसियों के माध्यम से कर्मचारी रखने का इतिहास अच्छा नहीं रहा है इससे सरकार की छवि खराब हो सकती है।

यूकेडी ने पहले संविदा पर नौकरी कर रहे कर्मचारियों को नियमित नियुक्ति देने की मांग की है तथा मृतक आश्रितों को नियुक्ति करने की मांग की है।

शिव प्रसाद सेमवाल ने कहा कि नई भर्तियों  को एजेंसी से आउटसोर्सिंग करने के बजाए विभागीय नियुक्ति की जाए अथवा सरकारी आउटसोर्सिंग एजेंसी जैसे उपनल, पीआरडी ,सेवायोजन कार्यालय आदि माध्यम से अथवा विभागीय संविदा पर किया जाए। ऐसा न करने पर उत्तराखंड क्रांति दल ने आंदोलन की चेतावनी दी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.