एम्स ऋषिकेश का सेवन प्लस वन अभियान को प्रदेश के स्वास्थ्य एवं चिकित्सा विभाग ने सभी जिलों में किया लागू#जिलाधिकारी ने होटल एसोसिएशन के पदाधिकारियों से वार्ता कर कई निर्देश दिए-www.janswar.com

-अरुणाभ रतूड़ी

एम्स ऋषिकेश का सेवन प्लस वन अभियान को प्रदेश के स्वास्थ्य एवं चिकित्सा विभाग ने सभी जिलों में किया लागू

डेंगू से बचाव और रोकथाम के लिए एम्स ऋषिकेश के सोशल आउटरीच सेल की ओर से चलाए गए सेवन प्लस वन अभियान को अंततः उत्तराखंड सरकार के चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा राज्य के सभी जिलों में लागू कर दिया गया है। राज्य सरकार के स्वास्थ्य महकमे की ओर से यह निर्णय एम्स की इस मुहिम के पूर्णतः सफल होने पर लिया गया है। लिहाजा सरकार द्वारा न सिर्फ इस अभियान को अपनी स्वीकारोक्ति दी गई है, वरन इसे राज्य के प्रत्येक जनपद में संचालित करने का भी निर्णय लिया गया है। यदि सबकुछ मुहिम के तहत हुआ तो वह दिन दूर नहीं है जब उत्तराखंड से डेंगू की बीमारी की विदाई हो जाएगी।
एम्स ऋषिकेश की कार्यकारी निदेशक प्रोफेसर( डॉ.) मीनू सिंह ने इस उपलब्धि के लिए अभियान में जुटी सेवन प्लस टीम को बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं। साथ ही उन्होंने जनमानस से आग्रह किया है कि डेंगू जैसी बीमारी को रोकने के लिए आगे बढ़कर अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें।
संस्थान की सामुदायिक एवं पारिवारिक चिकित्सा विभागाध्यक्ष प्रोफेसर वर्तिका सक्सेना ने इस कार्यक्रम की सराहना करते हुए कहा कि जनस्वास्थ्य से जुड़े ऐसे कार्यक्रमों के लिए डॉक्टर संतोष कुमार काे सीएफएम विभाग की ओर से समय समय पर हरसंभव सहयोग दिया जाएगा।
सामुदायिक एवं पारिवारिक चिकित्सा विभाग के अपर आचार्य एवं सोशल आउटरीच सेल के नोडल अधिकारी डॉक्टर संतोष कुमार ने चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के महानिदेशक व अपर निदेशक के साथ ही नेशनल वेक्टर बोन डिजीज कंट्रोल प्रोग्राम के नोडल अधिकारी डॉ. पंकज सिंह का एम्स के इस सेवन प्लस वन अभियान को उत्तराखंड के हरेक जिले में पहुंचाने के वृहद जनहित के निर्णय के लिए आभार व्यक्त किया है।
इंसेट क्या है एम्स का सेवन प्लस वन अभियान
सेवन प्लस वन मॉडल का मुख्य उद्देश्य डेंगू जैसे मच्छर जनित बीमारी को समाज और लोगों की सामुहिक भागीदारी व सहयोग से मच्छर को प्रजनन से पहले ही समाप्त करना है। सेवन प्लस वन मॉडल को तैयार करने वाले एम्स सीएफएम विभाग के अपर आचार्य एवं सोशल आउटरीच सेल के नोडल अधिकारी डॉक्टर संतोष कुमार एवं उनकी टीम के नेतृत्व में इस मॉडल का प्रारूप तैयार किया गया है। ऋषिकेश में डेंगू के प्रकोप को देखते हुए वर्ष- 2019 में सेवन प्लस वन अभियान को प्रथम चरण एम्स परिसर में और उसके बाद नगर निगम ऋषिकेश और एम्स के संयुक्त तत्वावधान में ऋषिकेश के शहरी क्षेत्रों एवं आसपास के डेंगू संभावित क्षेत्रों में लागू किया गया था, जिसके बाद डेंगू के मामलों को कम करने व इसकी रोकथाम में इसके मुहिम के परिणाम संतोषजनक देखने को मिले।
इसके बाद से हर वर्ष बरसात एवं शीतकाल में डेंगू के प्रकोप की आशंका के मद्देनजर इस मॉडल को ऋषिकेश के विभिन्न क्षेत्रों में लागू किया गया। इस मॉडल की विशेषता यह है कि इससे समाज के सभी वर्ग जैसे स्थानीय विद्यालयों के छात्र-छात्राओं, स्वयंसेवी संगठनों ,आशा एवं ए.एन.एम. कार्यकत्रियों और राज्य सरकार के स्वास्थ्य कर्मियों के साथ मिलकर इस अभियान को लागू किया जा सता है। साथ ही प्रतिदिन सभी लोग मिलकर दिन में एक घंटा आपसी भागीदारी से अपने क्षेत्र में डेंगू के लारवा के प्रजनन स्थलों को नष्ट करके डेंगू को समाप्त किया जा सकता है। मॉडल के अनुसार अभियान के तहत यह प्रक्रिया लगातार 7 दिन तक बनाए रखने से डेंगू की रोकथाम में सकारात्मक परिणाम देखने को मिलते हैं। इस मॉडल को समय-समय पर लागू करने पर डेंगू के प्रकोप को बढ़ने से रोका जा सकता है साथ ही इसके वैज्ञानिक परिणाम भी उपलब्ध हो सकते हैं।

**********

जिलाधिकारी ने होटल एसोसिएशन के पदाधिकारियों से वार्ता कर कई निर्देश दिए

जिलाधिकारी डॉ0 आशीष चौहान की अध्यक्षता में होटल एसोसिएशन की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित हुई। जिलाधिकारी ने होटल संचालकों को होटल में अग्निशमन यंत्र, सीसीटीवी कैमरे, साफ-सफाई, खाने की बेहतर गुणवत्ता, रेट लिस्ट चस्पा करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जनपद के अंतर्गत राफ्टिंग की अपार संभावनाएं हैं जिसे व्यवस्थित तरिके से संचालन की आवश्यकता हैं।
जिलाधिकारी ने आयोजित बैठक में होटल एसोसिएशन के संचालकों को कहा कि जनपद क्षेत्रांतर्गत साहसिक खेल गतिविधि राफ्टिंग की अपार संभावनाएं है जिसे व्यवस्थित तरीके से संचालित करते हुए रोजगार का सृजन किया जाएगा। साथ ही उन्होंने होटल एसोसिएशन के संचालकों  को ऑनलाइन बिजनेस बढ़ावा दिए जाने के  लिए संयुक्त रूप से एक प्लान तैयार करने का भी विकल्प दिया जिसे बाद में किसी एप के माध्यम से संचालित किया जा सकेगा। उन्होंने पर्यटकों को बढ़ावा दिये जाने के लिए होटल व्यवसाहियों के साथ निरंतर रूप से बैठक किये जाने की बात कही। इस दौरान होटल एसोसिएशन ने जिलाधिकारी के सम्मुख कूड़ा निस्तारण, पेयजल, वाहन पार्किंग जैसी बुनियादी समस्या अवगत कराई। जिसपर जिलाधिकारी ने सकारात्मक प्रयास किये जाने की बात कही ।बैठक में होटल एसोसिएशन के पदाधिकारी व जिला पर्यटन अधिकारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.