उत्तराखण्ड के 18 से 45 वयवर्ग के लोगों को 10मई से लगेंगे कोविड टीके- स्वास्थ्य सचिव#प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना एवं राज्य सरकार स्वास्थ्य योजना के लाभार्थियों को निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार कोविड के लिए सभी प्रकार का निःशुल्क उपचार ## प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना -3 का माह मई का खाद्यान्न वितरण प्रारम्भ#जनपद पौड़ी गढवाल में 3972 एक्टिव केस #पढिए Janswar.com में।द्वारा-नागेन्द्र रतूड़ी

मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत के निर्देश पर 18 से 44 आयु वर्ग के नागरिकों के लिए राज्य में 10 मई 2021 से टीकाकरण का कार्य आरम्भ किया जा रहा है।
उत्तराखण्ड में 18 से 44 आयु वर्ग के लोगों के टीकाकरण के लिए राज्य सरकार द्वारा कोविड वैक्सीन का क्रय किया जा रहा है तथा कोविड 19 वैक्सीन की निर्माता कम्पनी द्वारा कोविड वैक्सीन की आंशिक आपूर्ति कर दी गयी है। सचिव स्वास्थ्य श्री अमित नेगी ने वैक्सीन प्राप्त होने की जानकारी देते हुए बताया कि आज 08 मई 2021 को अपराह्न 4ः20 बजे कोविशील्ड वैक्सीन की 1 लाख डोज इंडिगो एयरलाईन की उड़ान संख्या 68 953/04881236 से देहरादून जौलीग्रांट पहुंची, जहां से उसे प्राप्त कर राज्य औषधि भण्डार केन्द्र, चन्दरनगर के कोल्ड स्टोर/वॉक इन कूलर में रख दिया गया है और सभी जनपदों को आपूर्ति की जा रही है।
सचिव श्री अमित नेगी ने बताया कि यह वैक्सीन 18 से 44 आयु वर्ग के नागरिकों के लिए है और अब राज्य में 10 मई 2021 से टीकाकरण का कार्य आरम्भ कर दिया जायेगा। श्री अमित नेगी के अनुसार कोविड-19 टीकाकरण अभियान के इस आयु वर्ग के अन्तर्गत उत्तराखण्ड के लगभग 50 लाख लोगों को निशुल्क वैक्सीन दी जायेगी। यह टीकाकरण केन्द्रों पर होगा जिसकी जानकारी कोविन पोर्टल पर लाभार्थियों को मिलेगी। ज्ञातव्य है कि टीकाकरण के लिए 18 से 44 आयु वर्ग के लाभार्थियों हेतु 28 अप्रैल 2021 से कोविन पोर्टल और आरोग्य सेतू पर रजिस्ट्रेशन की सुविधा आरम्भ कर दी गयी थी जिसमें रजिस्ट्रेशन कराने वाले लाभार्थियों को टीकाकरण कराने से पूर्व ऑनलाईन अपॉइंटमेंट लेना अनिवार्य है। लाभार्थियों को अपॉइंटमेंट प्राप्त होने के पश्चात् ही टीकाकरण केन्द्रों पर वैक्सीनेशन के लिए जाना होगा।
वैक्सीन केवल CoWin या आरोग्य सेतु के माध्यम से स्व पंजीकरण एवं अग्रिम अपॉइंटमेंट के बाद दी जायेगी। पंजीकरण के लिए selfregistration.cowin.gov.in पर लॉगइन करना आवश्यक है। रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया कोविन पोर्टल पर उपलब्ध है।′

—————————————————-

प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना एवं राज्य सरकार स्वास्थ्य योजना के लाभार्थियों को निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार कोविड के लिए सभी प्रकार का निःशुल्क उपचार मिलेगा।
राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री अरुणेंद्र सिंह चौहान ने बताया कि संज्ञान में आया है कि आयुष्मान भारत एवं अटल आयुष्मान योजना में सूचीबद्ध अस्पतालों द्वारा कोविड रोगियों को कैशलेस उपचार की सुविधा नहीं दी जा रही है। यह कोविड के समय में बिल्कुल उचित नहीं है। उन्होंने कहा कि आयुष्मान योजना के आईटी सिस्टम में कोविड-19 पैकेज का चयन कर लाभार्थियों को चिकित्सा उपचार की सुविधा पूर्व से उपलब्ध है। इसके अलावा अस्पतालों को समय से उपचार करने में दिक्कत न हो इसलिए प्राधिकरण चिकित्सालयों के बिल सिस्टम में अपलोड होने के एक सप्ताह में भुगतान किया जा रहा है।
श्री चौहान ने बताया कि कोरोना महामारी को देखते हर योजनाओं के लाभार्थियों को सभी प्रकार की चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए प्राधिकरण ने सभी सूचीबद्ध अस्पतालों को विशेष दिशा-निर्देश दिए हैं। साथ ही लाभार्थियों को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो इसके लिए अस्पतालों से कहा गया है कि यदि कोविड मरीज अस्पताल में आता है तो हर हाल में योजना के अंतर्गत निर्धारित पैकेज के अनुसार निशुल्क उपचार दिया जाये। आयुष्मान योजना के अंतर्गत एनएबीएल मान्यता वाले अस्पतालों को आइसोलेशन बेड के लिए 8000, बिना आईसीयू के वेंटिलेटर केअर पर 12 हजार व आईसीयू के साथ वेंटिलेटर केअर के लिए 14,400 रुपये प्रति का भुगतान जबकि गैर एनएबीएल मान्यता वाले अस्पतालों को क्रमशः 6400, 10,400 व 12000 का भुगतान किया जाएगा। इसके अलावा लाभार्थियों की जांच, उपचार, भोजन एवं पीपीई किट पर होने वाला व्यय पैकेज में शामिल है। जबकि गंभीर कोविड रोगियों को उपचार की दवाएं जैसे रेमडीसीवीर, फेवीपीरवीर, टाकलीज़ुअमब उक्त पैकेज की दरों से अतिरिक्त वास्तविक दर पर ही सूचीबद्ध अस्पताल को उपलब्ध होगी। सभी अस्पतालों को यह भी निर्देश दिए गए हैं कि किसी भी रोगी या तीमारदार से धनराशि लेना नियम विरुद्ध है और ऐसी स्थिति में अस्पताल की सूचीबद्धता समाप्त करने की कार्रवाई की जाएगी। साथ ही क्लीनिकल एस्टेब्लिशमेंट एक्ट के तहत समुचित प्राधिकारी को भी सूचित किया जा सकता है।

 


प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएमजीकेएवाई-3) के तीसरे फेज के अंतर्गत भारत सरकार द्वारा उत्तराखण्ड को दो माह (मई और जून) हेतु आवंटन प्राप्त हो गया है। इस आवंटन के साथ ही राज्य सरकार द्वारा मई माह का वितरण प्रारम्भ हो गया है, जबकि जून माह का अगले महीने किया जाएगा। इस योजना के अंतर्गत उत्तराखण्ड के राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के अंतर्गत 13 लाख 84 हजार परिवारों के 61 लाख 94 हजार लोगों को निशुल्क राशन प्राप्त होगी। यह राशन प्रति यूनिट 5 किलो दी जाएगी, जिसमें 3 किलो  गेहूं और 2 किलो चावल दिया जा रहा है।
खाद्य आयुक्त सुशील कुमार ने बताया कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के अंतर्गत अंत्योदय परिवार (गुलाबी कार्ड) व प्राथमिक परिवार (सफेद कार्ड) अपने सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान से राशन प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना एवं राज्य खाद्य योजना के अंतर्गत नियमित खाद्यान्न भी राज्य सरकार द्वारा वितरित किया जा रहा है।
खाद्य और नागरिक आपूर्ति आयुक्त सुशील कुमार ने बताया कि ऐसे प्रवासी जो अन्य राज्यों से उत्तराखण्ड में कार्य हेतु प्रवास कर रहे हैं और जिनका अपने राज्य में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना का राशन कार्ड है वह भी “वन नेशन वन राशन कार्ड योजना” के अंतर्गत उत्तराखण्ड में राशन प्राप्त कर सकते हैं। इसके साथ ही उत्तराखण्ड के निवासी अगर अन्य राज्य में काम कर रहे हैं तो वह भी “वन नेशन वन राशन कार्ड” के माध्यम से अन्य राज्यों में लाभ प्राप्त कर सकते हैं।


जनपद पौड़ी गढवाल में

कोरोना वायरस कोविड-19 संक्रमण-दैनिक सूचना, मेडिकल हेल्थ बुलेटिन
जनपद में कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण से रोकथाम एवं बचाव हेतु जिला प्रशासन हर स्थिति से निपटने के लिए सक्रियता से कार्य में जुटी है। महामारी के दृष्टिगत कोविड 19 कफ्र्यू को लेकर जनपद में जिला मजिस्टेªट डाॅ. विजय कुमार जोगदण्डे द्वारा जारी अधिसूचना का अनुपालन संबंधित अधिकारियों एवं पुलिस प्रशासन द्वारा गंभीरता से संपादित किया जा रहा है। जनपद के समस्त क्षेत्रों में जनपद वासियों ने अपने बाजार/क्षेत्रान्तर्गत दुकानों में सामाजिक दूरी का अनुपालन करते हुए, आवश्यक वस्तुओं की खरीदारी की।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय परिसर में स्थापित वार रूम से प्राप्त सूचना के अनुसार जनपद में वर्तमान समय में 279 रोगी डेडिकेटेड अस्पताल में भर्ती है। भर्ती रोगी इस प्रकार है जिला अस्पताल पौड़ी में 34 रोगी ऑक्सीजन बेड में भर्ती है। जबकि बेस अस्पताल श्रीकोट श्रीनगर में 123 ऑक्सीजन बेड में तथा 38 रोगी आईसीयू पर भर्ती है। वहीं बेस अस्पताल कोटद्वार में 84 रोगी आॅक्सीजन बेड पर भर्ती है। जनपद में तीनों अस्पताल में 362 आॅक्सीजन बेड, 50 आईसीयू बेड तथा 12 जनरल बेड सहित कुल 424 बेड उपलब्ध है। 170 वेंटिलेटर हैं, जिनमें 146 बेस हाॅस्पिटल श्रीकोट, 13 बेस हाॅस्पिटल कोटद्वार तथा 11 जिला चिकित्सालय पौड़ी शामिल है।
जनपद डेडिकेटेड कोविड केयर सेन्टर में 46 लोगों को रखा गया है, जिनमें से 31 जनरल बेड में तथा 15 रोगी आॅक्सीजन बेड पर है।
जनपद में स्थापित समस्त डेडिकेटेड कोविड केयर सेन्टर में 22 आॅक्सीजन बेड तथा 444 जनरल बेड सहित कुल 466 बेड उपलब्ध है, जिनमें से 420 बेड रिक्त है। डीसीसीसी बारात घर पौड़ी में 50 बेड मंे से 49 जनरल बेड तथा 1 आॅक्सीजन बेड बनाये गये है। वहीं परमार्थ निकेतन स्वर्गाश्रम ट्रस्ट 74 बेड में से 72 जनरल तथा 2 आॅक्सीजन बेड है, सीसीसी कौड़िया कैंप में 92 बेड में से 90 जनरल तथा 2 आॅक्सीजन बेड बनाये गये है। गीता भवन स्वर्गाश्रम ट्रस्ट में 200 बेड में से 185 जनरल बेड तथा 15 आॅक्सीजन बेड बनाये गये है। डीसीसीसी सतपुली में 50 बेड बनाये गये है जिनमें 48 जनरल तथा 2 आॅक्सीजन बेड है।
जनपद में 2 कोविड-19 निजी सुविधा केन्द्रों में हंस फाउंडेशन सतपुली में 50 बेड बनाये गये है जिनमें से 35 जनरल तथा 5 आॅक्सीजन बेड व 10 आईसीयू बेड शामिल है। जिनमें 12 रोगी भर्ती है, 8 जनरल बेड, 1 ऑक्सीजन बेड तथा 3 रोगी आईसीयू बेड में है। वहीं मां कामाख्या हॉस्पिटल कोटद्वार में 30 बेड कोरोना रोगियों के लिए बनाये गये है। जिनमें से 10 ऑक्सीजन तथा 20 आईसीयू बेड शामिल है। सभी बेड में रोगी भर्ती है।
वर्तमान समय में जनपद में 3972 एक्टिव केस है, जिनकी डेडिकेटेड अस्पतालों, कोविड केयर सेन्टर, होम आइसोलेशन आदि में उपचार चल रही है, 6840 लोग ठीक हो गये है। जनपद पौड़ी गढ़वाल में एक्टीव केस 2688 है,  जबकि 1064 एक्टीव केस अन्य जनपद/राज्य के है।
जनपद के अस्पतालों, क्षेत्रों एवं सैंपलिंग बेरियर से अब तक कुल 212780 सैंपल को आरटी-पीसीआर, रेपिड एन्टिजेन टस्ट एवं ट्रूनट में जांच हेतु भेजा गया है। जिनमें से 187108 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव तथा 10918 कोरोना पाॅजिटिव पाये गये है। जबकि 2120 सैंपल को रिजेक्ट किया गया है। शुक्रवार को 1476 सैंपल जांच हेतु भेजा गया है। आज 2 रोगी की मृत्यु सहित 106 रोगी की अब तक मृत्यु हुई है। जनपद में 1047 पीपीई किट, 4440 एन 95 मास्क,  80100 थ्री लेयर मास्क, 809 आॅक्सीजन सिलेण्डर, 42 एम्बुलेंस तथा 5500 वीटीएम एवं 12 कोविड केयर सेन्टर में 943 बेड उपलब्ध है।
टीकाकरण कार्यक्रम के तहत जनपद पौड़ी गढ़वाल में अब तक 176141 लाभार्थी को प्रथम एवं द्वितीय डोज विभिन्न वैक्सीनेशन स्थलों पर टिका लगाये गये है। जिनमें जनपद वासियों के अलावा 9350 स्वास्थ्य वर्कर एवं फ्रंट लाईन वारियर शामिल है। शुक्रवार को 69 को प्रथम तथा 21 को द्वितीय डोज लगाये गये है। अब तक 126632 लोगों को प्रथम तथा 27991 लोगों को द्वितीय प्रथम डोज लग चुका है। जबकि शुक्रवार को 315 सिटीजन को प्रथम तथा 2131 को द्वितीय डोज लगाई गयी। जिला प्रशासन द्वारा चिन्हित होम क्वारंटाइन, पंचायत घरों एवं स्कूलों में रखे गये लोगों को जिला प्रशासन/स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टरों द्वारा उचित समय अवधि तक आइसोलेशन पर रहने की आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये। साथ ही नियत समय पर खाॅसी, जुखाम, बुखार, कफ, साॅस की तकलीफ आदि रोग की लक्षण होने पर करीब के स्वास्थ्य केन्द्र अथवा आपदा कन्ट्रोल रूम दूरभाष नम्बर 01368-221840, तथा वार रूम कोविड 19 दूरभाष नम्बर 01368-222213, पर सूचित करने की निर्देश दी गई। जबकि ग्राम प्रधान एवं ग्राम विकास अधिकारियांें को भी क्वारंटाइन में रहने वाले लोगों स्वास्थ्य खराब होने पर तत्काल सूचना देने को निर्देशित की गई है।
जिलाधिकारी गढ़वाल डाॅ. विजय कुमार जोगदण्डे ने कोविड-19 संक्रमण से रोकथाम एवं प्रभावी नियंत्रण हेतु जनपद में बाहर से आये लोगों को नियत अवधि के लिए आइसोलेशन पर रहने वाले लोगों द्वारा कोविड 19 के नियमावली से संबंधित नियमों का उल्लघन किया जाता है, तो संबंधित के विरूद्ध ब्लाक स्तर पर तैनात नोडल अधिकारी एवं गठित टीम के संपर्क नम्बर पर काॅल कर शिकायत दर्ज करने को कहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.