आगामी सत्र में वार्षिक स्थानांतरण अधिनियम के तहत होंगे तबादले#मुख्यमंत्री ने मुख्यमंत्री घोषणाओं की समीक्षा की। पढिएJanswar.Com में।

मुख्यमंत्री ने विभिन्न निर्माण कार्यों को दी मंजूरी
      मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों में निर्माण कार्यों के साथ ही संबंधित योजनाओं के लिए धनराशि की मंजूरी दी है।
      उधमसिंह नगर के विधानसभा क्षेत्र बाजपुर के अंतर्गत लोक निर्माण विभाग के तहत 12 सड़कों के निर्माण कार्यों के लिए दूसरे चरण में 11.50 करोड़ की स्वीकृति दी है।
      देहरादून जिले में मसूरी विधानसभा क्षेत्र में अनारवाला से मालसी मोटर मार्ग पर अतिक्रमण हटाने के बाद उपलब्ध भूमि पर मार्ग के 04 से 07 किमी. तक एज से एज तक पुनः निर्माण के लिए 10.91 लाख की संस्तुति की गई है।
       डोईवाला विधानसभा क्षेत्र में राजकीय महाविद्यालय को मालदेवता मुख्य मार्ग से जोड़ने के लिए 0.225 किलोमीटर सड़क निर्माण के लिए 23.22 लाख की  स्वीकृति दी गई  है।

आगामी सत्र में वार्षिक स्थानांतरण अधिनियम के तहत होंगे तबादले
      आगामी सत्र में कार्मिकों के तबादले वार्षिक स्थानांतरण अधिनयम के प्रावधानों के तहत ही होंगे। मुख्यमंत्री ने कार्मिक विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।
     पिछले साल 20-21 में वार्षिक स्थानांतरण सत्र को शून्य किया गया था। वार्षिक स्थानांतरण अधिनियम की धारा-27 के अधीन गठित समिति की 3 फरवरी, 2021 को हुई बैठक में शून्य सत्र को समाप्त किए जाने का निर्णय लिया गया था। मुख्य सचिव ने प्रस्ताव में बताया कि आगामी वर्ष में विधानसभा के निर्वाचन भी होने हैं। इस कारण निर्वाचन की आदर्श आचार संहिता भी लागू हो जाएगी। आम तौर पर निर्वाचन कार्य में संलग्न सभी विभागों के कार्मिकों के लिए एक स्थान पर 3 साल से अधिक रहने का निषेध है। इसलिए आगामी सत्र को शून्य नहीं किया जा सकता। इसमें वित्तीय दृष्टिकोण से 10 फीसदी या आदर्श चुनावी आचार संहिता के अनुरूप वांछित स्थानांतरण ही किए जाने की व्यवस्था की गई है।  
     इस प्रस्ताव को अनुमोदन के लिए मुख्यमंत्री के समक्ष लाया गया था। इस पर मुख्यमंत्री ने अनुमोदन दे दिया है। साथ ही आगामी सत्र के लिए वार्षिक स्थानांतरण अधिनियम के प्राविधान ही लागू किए जाने और स्थानांतरण की प्रक्रिया शुरू करने के प्रस्ताव पर भी मोहर लगा दी

पेयजल योजनाओं को धनराशि की संस्तुति
       मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पित्थूवाला के अंतर्गत मीठी बेहरी प्रेमनगर में मिनी नलकूप के निर्माण के लिए 92 लाख की स्वीकृति दी है। देहरादून के कारगी क्षेत्र में अवंतिका विहार वार्ड 73 में 15 घरों के लिए सीवर लाईन बिछाकर मेन लाइन से जोड़ने के लिए मुख्यमंत्री ने 15.81 लाख की स्वीकृति दी है। विधानसभा रायपुर की तरला आमवाला फेज-1 कृष्णा एन्क्लेव आमवाला तरला टीचर्स कालोनी में पेयजल योजना के लिए 3.87 करोड़ की योजना को संस्तुति दी है। योजना 135 एलपीसीडी पर तैयार की गई है। योजना से 479 घरों को पेयजल कनैक्शन दिए जाने का प्रस्ताव है।
      चमोली जिले में रीवर बैंक फिल्ट्रेशन (ग्रामीण) आधार पर ग्राम मैठाणा ग्रामीण पेयजल योजना के सृदृढीकरण के लिए मुख्यमंत्री ने 27.50 लाख की मंजूरी दी है। इससे पहले इसी योजना के लिए मुख्यमंत्री द्वारा 58.75 लाख की धनराशि अवमुक्त की जा चुकी है।

प्रमोद कुमार को मुख्य अभियंता स्तर-1 पद पर पदोन्नति मिलेगी
     लोक निर्माण विभाग में प्रमुख अभियंता के पद पर हरिओम शर्मा के चयन के बाद रिक्त पद पर प्रमोद कुमार को मुख्य अभियंता स्तर -1 (सिविल) के पद पर पदोन्नति के मुख्य सचिव के प्रस्ताव पर मुख्यमंत्री ने मोहर लगा दी है।


मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सीएम घोषणाओं की समीक्षा की

पिथौरागढ़, बागेश्वर एवं चंपावत जिलों की सीएम घोषणाओं की समीक्षा की गई।     

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सचिवालय में पिथौरागढ़, बागेश्वर एवं चंपावत जिलों की मुख्यमंत्री घोषणाओं की समीक्षा की। बैठक में विधायक श्री बलवंत सिंह भौर्याल, श्री चन्दन राम दास, श्री कैलाश चन्द्र गहतौड़ी, वर्चुअल माध्यम से विधायक श्रीमती चन्द्रा पंत, श्री विशन सिंह चुफाल उपस्थित थे। समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि सीएम घोषणाओं को निर्धारित समयावधि में पूर्ण किया जाय। स्थानीय स्तर पर समस्या के त्वरित समाधान के लिए संबंधित विधायकगणों से समन्वय स्थापित किये जाए। हर माह मुख्यमंत्री सीएम घोषणाओं की समीक्षा करेंगे। कार्यों में तेजी लाने के लिए जिलाधिकारियों को 15 दिनों में घोषणाओं की कार्य प्रगति की समीक्षा करने के निर्देश दिये गये हैं। सीएम घोषणा पोर्टल पर भी सभी घोषणाओं को अपडेट रखने के निर्देश दिये गये।
      जनपद पिथौरागढ़ में मुख्यमंत्री की 152 घोषणाओं में से 98 घोषणाएं पूर्ण हो चुकी हैं। शेष पर कार्य प्रगति पर है। जनपद बागेश्वर में 58 घोषणाओं में से 36 पूर्ण हो चुकी हैं, जबकि शेष पर कार्य चल रहा है। चम्पावत जनपद में 88 घोषणाओं में से 53 घोषणाएं पूर्ण हो चुकी हैं, अवशेष पर कार्य प्रगति पर है। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि घोषणाओं को समय पर पूर्ण करने के साथ ही कार्यों की गुणवत्ता का भी विशेष ध्यान रखा जाय। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि धार्मिक एवं पर्यटक स्थलों पर पेयजल, आवागमन एवं अन्य सुविधाओं का विशेष ध्यान रखा जाय। शौचालयों के निर्माण के साथ ही उनके मेंटिनेंस की व्यवस्था भी की जाए। जल के संरक्षण एवं संवर्द्धन की दिशा में विशेष ध्यान दिया जाए। पेयजल, स्वास्थ्य एवं शिक्षा जैसी मूलभूत सुविधाओं वाले कार्यों में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाय।
पिथौरागढ़ : पिथौरागढ़ जनपद में मुख्यमंत्री घोषणाओं के तहत मुख्यतः बरम- कनार मोटर मार्ग, सिमल से नाग मोटर मार्ग, डुंगातोली से चुनरगांव मोटर मार्ग, बनकोट से भटृटीगांव मोटर मार्ग के नव निर्माण कार्यों,  अनेक मोटरमार्गों के डामरीकरण सुधारीकरण एवं सौन्दर्यीकरण के कार्य पूर्ण किये जा चुके हैं। डिगरा मुवानी कलौन गाड एवं गुंजी पेयजल योजना की स्वीकृति दी जा चुकी है। ऑवला घाट से पिथौरागढ़ पेयजल योजना पूर्ण की जा चुकी हैं। डीडीहाट पेयजल योजना एवं मुनस्यारी नगर पेयजल योजना का कार्य पूर्ण हो चुका है। पिथौरागढ़ को पर्यटक शहर के रूप में विकसित करने के लिए 85.80 लाख रूपये की धनराशि स्वीकृत की गई। पिथौरागढ़ में पार्किंग के निर्माण, मदकोट एवं सेरा स्थित गर्म पानी के स्रोतों के विकास, मुनस्यारी को पर्यटन डेस्टिनेशन के रूप में विकसित करने, होम स्टे को बढ़ावा देने एवं हाई टैक शौचालय निर्माण की घोषणाएं पूर्ण हो चुकी हैं। थरकोट झील के निर्माण की स्वीकृति प्रदान की जा चुकी है। ऐलागाड, तवाघाट एवं धारचुला में तटबंध निर्माण हेतु प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृतियां दी जा चुकी हैं। पिथौरागढ़ जिला अस्पताल में टेलीरेडियोलॉजी की सुविधा उपलब्ध कराई गई हैं।
   बागेश्वर : बागेश्वर जनपद में सीएम घोषणाओं के तहत मुख्यतः पिण्डारी ग्लेशियर ट्रेकिंग रूट के दवाली में 60 मी. स्पान झूला पुल एवं सोराग से सुन्दर ढ़ुंगा तक नये ट्रेकिंग रूट की घोषणा पूर्ण हो चुकी है। बिलौना, कालापैरकापडी, म्यून्डा लिफ्ट सिंचाई योजना, विभिन्न सड़क मार्गों का नव निर्माण एवं डामरीकरण एवं पेयजल योजनाओं से संबंधित घोषणाओं का कार्य पूर्ण हो चुका है। बागनाथ मंदिर में धर्मशाला एवं बैजनाथ मंदिर गरूड़ में संग्रहालय निर्माण की घोषणा पूर्ण हो चुकी है।
 चम्पावत :  चम्पावत जनपद में मुख्यमंत्री घोषणाओं के तहत मुख्यतः जनपद मुख्यालय के सौन्दर्यीकरण, चम्पावत एवं टनकपुर में आधुनिक शौचालयों के निर्माण , जनपद में विभिन्न पार्कों  के सौन्दर्यीकरण, वाणासुर एवं चम्पावत में ट्रेक रूट के विकास, चम्पावत में पार्किंग व बस अड्डा के निर्माण  एवं विभिन्न सड़को के नव निर्माण एवं डामरीकरण के कार्य पूर्ण हो चुके हैं।
     बैठक में मुख्य सचिव श्री ओम प्रकाश, अपर मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी, सचिव श्री आर. के. सुधांशु, श्री अमित नेगी, श्री दिलीप जावलकर, श्री हरबंस सिंह चुघ, प्रमुख वन संरक्षक श्री राजीव भरतरी, कुमाऊं कमिश्नर श्री अरविन्द सिंह ह्यांकी, शासन के वरिष्ठ अधिकारी एवं सबंधित विभागों के निदेशक उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.