अयोध्या में मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने ’दिल्ली सेवा धाम ट्रस्ट’ की प्रस्तावित धर्मशाला के शिलान्यास पूजन कार्यक्रम में भाग लिया।#उत्तराखण्ड के पर्वतीय क्षेत्र में17अक्तूबर से 20 अक्टूबर तक गरज,चमक के साथ वर्षा व ओलावृष्टि की संभावना।#जम्मू कश्मीर के पुंछ क्षेत्र में आतंकियों से मुठभेड़ में दो सेना के दो जवान शहीद। janswar.com

-अरुणाभ रतूड़ी

रामनगरी अयोध्या में प्रवास के दूसरे दिन उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने ’दिल्ली सेवा धाम ट्रस्ट’ की प्रस्तावित धर्मशाला के शिलान्यास पूजन कार्यक्रम में भाग लिया। इस दौरान उन्होंने कार्यक्रम स्थल पर मंत्रोच्चार के साथ हवन यज्ञ में आहूति दी। श्री धामी ने कहा कि धर्मशाला के निर्माण के बाद रामलला के दर्शन के लिए अयोध्या आने वाले देश और दुनिया के रामभक्तों को विश्व स्तरीय आवासीय सुविधा मिलेगी। इससे पूर्व उन्होंने जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास जी से मिलकर उनका हाल जाना और आशीर्वाद लिया।

धर्मशाला के शिलान्यास कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धाम ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की अगुवाई में अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त हो चुका है। मंदिर को दिव्य और भव्य स्वरूप दिया जा रहा है। मंदिर निर्माण से अयोध्या पूरी दुनिया के लिए एक धार्मिक केन्द्र बन जाएगा। उसके बाद यहां रामभक्तों और श्रद्धालुओं की आवाजाही और अधिक बढ़ जाएगी। यहां श्रद्धालुओं को किसी असुविधा का सामना न करना पड़े इसके लिए सामाजिक संगठनों को भी सामने आना चाहिए। उन्होंने कहा कि रामभक्तों को अयोध्या में ठहरने के लिए उच्चस्तरीय सुविधा मुहैया करवाने के लिए ’दिल्ली सेवा धाम ट्रस्ट’ भव्य धर्मशाला का निर्माण कर रहा है। आगे चलकर यह धर्मशाला एक धरोहर बनने के साथ ही स्थानीय लोगों और रामभक्तों के लिए बहुपयोगी साबित होगी।
इससे पहले सुबह के वक्त मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने मणिराम दास की छावनी पहुंचकर श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास जी के पैर छूकर आशीर्वाद लिया और उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली। महंत नृत्य गोपाल दास ने श्री धामी को रामनामा भेंट कर आशीर्वाद दिया।
इस मौके पर सांसद श्री लल्लू सिंह, विहिप के केंद्रीय मंत्री श्री राजेंद्र सिंह पंकज, प्रांतीय प्रवक्ता श्री शरद शर्मा व अन्य लोग भी मौजूद रह

—————————————————-

भारत मौसम विज्ञान विभाग, मौसम केन्द्र देहरादून द्वारा जारी पूर्वानुमान के अनुसार दिनांक 17, 18, 19 व 20 अक्टूबर 2021 को पर्वतीय क्षेत्रों में कहीं-कहीं गर्जन के साथ आकाशीय बिजली चमकने, ओलावृष्टि होने व तीव्र बौछार पड़ने की सम्भावना व्यक्त की गयी है।
मौसम विभाग द्वारा जारी चेतावनी के मध्येनजर जिला प्रशासन पौड़ी गढ़वाल ने जनपद के अन्तर्गत विशेष तौर से सावधानियां बरतने के निर्देश दिये गये हैं। उन्होंने समस्त संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि किसी भी आपदा/दुर्घटना की स्थिति में त्वरित स्थलीय कार्यवाही करते हुए सूचनाओं का तत्काल आदान-प्रदान किया जाये। प्रत्येक स्तर पर तत्परता बनाये रखते हुए सावधानी सुरक्षा एवं आवागमन में नियंत्रण बरता जाये। जनपद/तहसील स्तर पर गठित आई.आर.एस. प्रणाली के नामित समस्त अधिकारी एवं विभागीय नोडल अधिकारी हाई अलर्ट में रहेंगें। किसी भी मोटरमार्ग के बाधित होने की स्थिति में संबंधित विभागों द्वारा अवरूद्ध मोटरमार्गों के संबंध में समय-समय पर नियमित रूप से सूचना जिला आपातकालीन परिचालन केन्द्र को अनिवार्य रूप से उपलब्ध करायी जायेगी। समस्त राजस्व उपनिरीक्षक/ग्राम विकास अधिकारी/ग्राम पंचायत विकास अधिकारी अपने-अपने क्षेत्र में बने रहेंगे। समस्त चौकी/थाने भी आपदा संबंधी उपकरणों एवं वायरलैस सैट सहित अलर्ट एवं क्रियाशील अवस्था में रहेंगे। साथ ही सभी संबंधित अधिकारियों को किसी भी प्रकार की आपदा की सूचना जिला आपातकालीन परिचालन केन्द्र को दूरभाष संख्या 01368-221840 अथवा मोबाइल नं. 9412082535 पर पर तत्काल उपलब्ध कराने के निर्देश। इस अवधि में किसी भी अधिकारी/कर्मचारी के मोबाइल फोन स्विच ऑफ नहीं रहेंगे। जनपद गढ़वाल की समस्त तहसीलों में आवंटित सैटेलाईट फोन क्रियाशील अवस्था में रहेंगें।


जम्मू कश्मीर के पुंछ क्षेत्र में आतंकियों से मुठभेड़ में दो सेना के दो जवान शहीद।
जम्मूकश्मीर के पुंछ इलाके के मेंढर के नार खास वनों में आतंकियों से मुठभेड़ करतै हुए एक जेसीओ व एक जवान का शव मिला है।
प्राप्त समाचार के अनुसार सेना के एक दल के साथ सूबेदार अजयसिंह व नायक हरेन्द्र सिंह 14 अक्तूबर को पुंछ क्षेत्र के मेंढर नार खास के जंगलों में आतंकियों की टोह लेने निकले। कुछ समय बाद उनका संपर्क सेना दल से कट गया।उनकी खोज में भेजे गये सैनिकों को उनके शव इसी जंगल से 16 अक्तूबर को प्राप्त हुए हैं। वे आतंकियों से लोहा लेते हुए वीरगति को प्राप्त हुए हैं
इससे पूर्व 14 अक्तूबर को दो जवान तथा10 अक्तूबर की रात को एक जेसीओ व चार जवान आतंकियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हो गये।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.